विदेश

USA के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने WHO की फंडिंग को रोकने की धमकी दी, चेतावनी भी दी की वोअपनी WHO की सदस्यता पे पुनर्विचार करेगा

Janprahar Desk
19 May 2020 12:23 PM GMT
USA के राष्ट्रपति  डोनाल्ड ट्रम्प ने WHO की फंडिंग को रोकने की धमकी दी, चेतावनी भी दी की वोअपनी WHO की सदस्यता पे  पुनर्विचार करेगा
x
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सोमवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की फंडिंग को स्थायी तौर पर रोकने की धमकी दी है। उन्होंने बोला कि यदि 30 दिनों के भीतर WHO ने सुधार करने का कोई फैसला नहीं लेता, तो अमेरिका अपनी WHO की सदस्यता पर पुनर्विचार करेगा। डोनाल्ड ट्रम्प ने पिछले महीने WHO

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सोमवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की फंडिंग को स्थायी तौर पर रोकने की धमकी दी है। उन्होंने बोला कि यदि 30 दिनों के भीतर WHO ने सुधार करने का कोई फैसला नहीं लेता, तो अमेरिका अपनी WHO की सदस्यता पर पुनर्विचार करेगा।

डोनाल्ड ट्रम्प ने पिछले महीने WHO में अमेरिकी योगदान को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया था, क्यूंकि अमेरिका ने WHO पर यह आरोप लगाया था कि WHO कोरोनोवायरस के प्रकोप के बारे में चीन की गलत सूचना को बढ़ावा देता है, हालांकि WHO के अधिकारियों ने इस आरोप से इनकार किया और चीन ने अपने press conference में ये भी बताया कि वो भी इस महामारी का दंश झेल रहा है और इसका भुक्त-भोगी है। चीन ने WHO को हर-संभव मदद का भरोसा दिलाया और USA से गुहार लगायी कि किसी भी तरह की अफवाहों पे ध्यान न दे।

डोनल्ड ट्रम्प ने WHO के प्रमुख, Tedros Adhanom Ghebreyesus को ये भी कहा, “अगर विश्व स्वास्थ संस्था 30 दिनों के भीतर प्रमुख सुधारों के लिए प्रतिबद्ध नहीं है, तो मैं डब्ल्यूएचओ को अपनी अस्थायी सदस्यता को स्थाई करने और हमारी सदस्यता पर पुनर्विचार करने के लिए तैयार हूँ।” ऐसा उन्होंने ट्विटर पर पोस्ट किया गया।

इससे पहले, डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा था कि WHO ने वायरस से निपटने में एक गैर-ज़िम्मेदाराना काम किया है और वो अमेरिका द्वारा दी जाने वाली फंडिंग पर जल्द ही निर्णय लेगा।

WHO प्रमुख को लिखे गए पत्र में, डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि संघ के लिए एकमात्र यही रास्ता बचा था जिसमे उसे चीन से स्वतंत्र एक संघ बनकर उभारना होगा, जिसके साथ उन्होंने ये भी कहा था कि अमरीकी प्रशासन ने पहले से ही Tedros के साथ WHO के सुधार के बारे में चर्चा शुरू कर दी थी।

सोमवार को WHO ने एक रिपोर्ट में कहा कि coronavirus की वैश्विक प्रतिक्रिया की स्वतंत्र समीक्षा जल्द से जल्द शुरू होगी। WHO पर ये आरोप लगाए गए हैं कि उसे चीन की तरफ से बड़े तौर पर धन और सहायता मिल रही है।

Next Story
Share it