विदेश

इस देश ने Primary कक्षा से English को अपने देश में प्रतिबंधित कर दिया है, जानिये कौनसा है ये देश

Janprahar Desk
16 Jun 2020 10:13 PM GMT
इस देश ने Primary कक्षा से English को अपने देश में प्रतिबंधित कर दिया है, जानिये कौनसा है ये देश
x
अंग्रेजी एक ऐसी भाषा है जिसे दुनिया भर में संपर्क करने के लिए उपयोग किया जाता है। लेकिन एक देश ऐसा है जिसने अपने Primary schools में अंग्रेजी को ban कर दिया है। आइये जानते हैं कौनसा है वो देश। 

भारत में मूलतः दो तरह के schools होते हैं। एक होते हैं English Medium और दुसरे होते हैं स्थानीय भाषा में, जैसे हिंदी, बांग्ला, तमिल, तेलुगु, इत्यादि। लेकिन अंतर्राष्ट्रीय देशों में अधिकांश एक तरह की ही भाषा होती है जिस medium में बच्चों को शिक्षा दी जाती है और इसके साथ ही अंग्रेजी माध्यम तो होता ही है। लेकिन क्या आपको एक ऐसे देश के बारे में पता है जहाँ अंग्रेजी माध्यम प्रतिबंधित है ? आइये जानते हैं। 

ईरान की सरकार ने पश्चिमी प्रभावों से लड़ने की कोशिश में प्राथमिक स्कूल की कक्षाओं में अंग्रेजी सीखने व सिखाने पर प्रतिबंध लगा दिया है। पिछले महीनों में पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं जिसके लिए पश्चिम ताकतों को जिम्मेदार ठहरा रहा है।

ईरान के सर्वोच्च नेता Ayatollah Khamenei ने अपने देश को अस्थिर करने के लिए स्कूलों में अंग्रेजी के प्रसार को दोषी ठहराया है। अधिकारियों का कहना है कि कम उम्र से अंग्रेजी सिखाने से विद्यार्थियों के लिए western culture को अपनाना संभव हो जाता है। वे कहते हैं कि प्राथमिक शिक्षा ईरानी culture का आधार है और इसे हर तरह से पश्चिमी मूल्यों से मुक्त होना चाहिए।

भारत में अंग्रेजी भाषा के पाठ आम तौर पर higher primary से शुरू होते हैं, ऐसा तब होता है जब छात्र 5 से 6 साल के होते हैं। हाल ही में, अधिक-से-अधिक primary schools अंग्रेजी lessons की पेशकश कर रहे हैं। यह देश के कुछ नर्सरी स्कूलों में भी बहुत ज़्यादा फैल गया है।

आपको बता दे कि नया प्रतिबंध केवल शिक्षा के पहले वर्षों पर लागू होगा। ऐसे में सारी पढ़ाई Iran की आधिकारिक भाषा फारसी/Persian में होगी। ये कदम ईरान की सरकार के द्वारा तब आया है जब पूरी दुनिया में बेहतर संपर्क के लिए अंग्रेजी एक महत्वपूर्ण माध्यम बन गया है। हालांकि ये स्पष्ट किया गया है कि बच्चों को बाद में उचित अंग्रेजी शिक्षा दी जाएगी लेकिन ये कितना कारगर होता है, ये देखना बाकी है। 

Next Story
Share it