16 लाख किमी की रफ्तार से धरती की तरफ बढ़ रहा है सूर्य से निकला तूफान, जानिए क्या होगा असर

 
Solar storm

सूरज की सतह से पैदा हुआ एक शक्तिशाली तूफान तेज गति से पृथ्वी की ओर बढ़ रहा है। बताया जा रहा है कि यह 16 लाख किलोमीटर प्रति घंटे की चाल से पृत्वी की तरफ ही बढ़ता जा रहा है। कयास लगाए जा रहे है कि यह पृत्वी से भी टकरा सकता है। अगर ऐसा होता है तो इससे होने वाले नुकसान की कल्पना करना भी कल्पना मात्र ही होगा।  

वैज्ञानिकों के अनुसार सूर्य के वायुमंडल से पैदा हुआ यह तूफान अंतरिक्ष के चुंबकीय क्षेत्र को बहुत हद तक प्रभावित कर सकता है। वैज्ञानिकों ने कहा है कि सौर तूफान के चलते रेडियो सिग्नल, सैटेलाइट सिग्नल, कम्यूनिकेशन और मौसम पर इसका प्रभाव देखने को मिलेगा। वहीं, लोगों को हिदायत दी गई है कि विमान यात्रा से बचे। 

वैज्ञानिकों ने कहा है की अगर धरती पर यह टकराता है तो उत्तरी या दक्षिणी अक्षांशों पर रहने वाले लोग रात के वक्त खूबसूरत ऑरोरा को देख पाएंगे। नासा के अनुसार अगर अंतरिक्ष में महातूफान आ जाए, तो उससे धरती के लगभग सभी शहरों की बिजली जा सकती है।

यह भी पढ़ें: शोधकर्ताओं की बढ़ी आफत? बेल्जियम की एक महिला कोरोना के दो वैरिएंट से हुई संक्रमित, हुई मौत

हालांकि वैज्ञानिकों का कहना है कि पृथ्वी का चुंबकीय क्षेत्र तूफान से सुरक्षा कवच का काम करेगा। लेकिन तूफान में चलते धरती का बाहरी वायुमंडल गर्म हो सकता है। जिसका सीधा असर हमारे सैटेलाइट ऑयर देखने को मिल सकता है। इसके चलते जीपीएस नैविगेशन, फोन सिग्नल और सैटेलाइट वाले टीवी पर रुकावट आ सकती है। पावर लाइन में करंट आने की भी संभावना है। 

दुनिया में सबसे पहला सौर तूफान 1859 में रिकॉर्ड किया गया था। वहीं 1972 में आए एक सौर तूफान ने अमेरिका के पश्चिम राज्यों में टेलीफोन लाइनों को अस्त व्यस्त कर दिया था। इसी तरह 1989 में सौर्य तूफान की वजह से कनाडा के क्यूबेक इलाके में बिजली की लाइन खराब हो गई थी। 

अन्य खबरें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|