विदेश

नेपाल में बंद हुए भारतीय समाचार चैनलों के सिग्नल: भारतीय मीडिया चैनलों पर नेपाल में पूर्ण प्रतिबंध

Janprahar Desk
10 July 2020 9:48 AM GMT
नेपाल में बंद हुए भारतीय समाचार चैनलों के सिग्नल: भारतीय मीडिया चैनलों पर नेपाल में पूर्ण प्रतिबंध
x
नेपाल के एक केबल टीवी प्रोवाइडर ने समाचार एजेंसी ANI को यह सूचना दी कि नेपाल में सारे भारतीय चैनलों का प्रसारण बंद कर दिया गया है और सिग्नल नहीं आ पा रहे हैं। लेकिन नेपाल की सरकार से इस मामले में कोई आदेश नहीं आया है और कोई खबर नहीं आई है ।
 

नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी ने भारतीय मीडिया पर नेपाल सरकार और वहां के प्रधानमंत्री के खिलाफ आधारहीन दुष्प्रचार करने का आरोप लगाया है। इसीलिए ही नेपाल में कुछ संकटों के चलते भारतीय मीडिया को बैन कर दिया है और भारतीय न्यूज़ चैनलों का प्रसारण पूर्ण तरह प्रतिबंध कर दिया गया है।

नेपाल के एक केबल टीवी प्रोवाइडर ने समाचार एजेंसी ANI को यह सूचना दी कि नेपाल में सारे भारतीय चैनलों का प्रसारण बंद कर दिया गया है और सिग्नल नहीं आ पा रहे हैं। लेकिन नेपाल की सरकार से इस मामले में कोई आदेश नहीं आया है और कोई खबर नहीं आई है ।सूत्रों से पता चला है कि नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली और उनकी सरकार की आलोचना की खबरें कुछ समय पहले भारतीय मीडिया में प्रसारित की गई थी, जिसका नेपाल की सरकार पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ा है।

वहीं, नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) ने भारतीय मीडिया पर नेपाल सरकार और वहां के प्रधानमंत्री के खिलाफ आधारहीन दुष्प्रचार (प्रोपेगेंडा) करने का आरोप लगाया है। नेपाल की मीडिया ने यह जानकारी दी। देश के पूर्व उप प्रधानमंत्री और सत्तारूढ़ एनसीपी के प्रवक्ता नारायण काजी श्रेष्ठा ने कहा कि नेपाल सरकार और हमारे प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली के खिलाफ दुष्प्रचार करने की सभी सीमाओं को भारतीय मीडिया ने लांघ दिया है। यह बहुत हो गया। इस बकवास को यहीं खत्म करो। 

दूसरी ओर, नेपाल की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के भीतर पैदा हुए मतभेद समाप्त होते नहीं दिख रहे हैं।नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के दो धड़ों के बीच मतभेद उस समय बढ़ गया जब प्रधानमंत्री ने एकतरफा फैसला करते हुए संसद के बजट सत्र का समय से पहले ही सत्रावसान करने का फैसला किया। काठमांडो पोस्ट की खबर के अनुसार ओली और प्रचंड के बीच कई दौर की बातचीत होने के बाद भी कोई सहमति नहीं बन सकी।

Next Story
Share it