विदेश

सुरक्षा परिषद द्वारा अमरीका को इन्कार अमरीका का प्रस्ताव

Janprahar Desk
17 Aug 2020 11:52 AM GMT
सुरक्षा परिषद द्वारा अमरीका को इन्कार अमरीका का प्रस्ताव
x
सुरक्षा परिषद ने तेरह वर्ष पहले ईरान पे हथियार प्रतिबंध लगाया था, जिस पर सुरक्षा परिषद ने अपने प्रतिबंध को हटा लिया ,उसी प्रतिबंध को लेकर अमरीका ने अपना प्रस्ताव रखा की ये प्रतिबंध सुरक्षा की दृष्टि  से अनिश्चितकाल के लिए बढा दिया जाए। लेकिन सुरक्षा  परिषद ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया ।

सुरक्षा परिषद ने तेरह वर्ष पहले ईरान पे हथियार प्रतिबंध लगाया था, जिस पर सुरक्षा परिषद ने अपने प्रतिबंध को हटा लिया ,उसी प्रतिबंध को लेकर अमरीका ने अपना प्रस्ताव रखा की ये प्रतिबंध सुरक्षा की दृष्टि  से अनिश्चितकाल के लिए बढा दिया जाए। लेकिन सुरक्षा  परिषद ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया ।

ट्रम्प प्रशासन  इस प्रस्ताव  के खारिज होने से नाराज  है और साथ मे तेहरान पर दोबारा सयुंक्त राष्ट्र का प्रतिबंध लगाने के लिये चेतावनी  दिया है उसने  चेतावनी  दिया  की वह इसके लिए कदम  उठा  सकता है । पंद्रह सदस्य  वाले इस परिषद मे अमरीका  को सिर्फ  डोमिनिक गणराज्य का की सहमति मिली ,केवल एकमात्र देश जो अमरीका के साथ था।

बाकी सदस्यीय  देश चीन और रुस  ने इस प्रस्ताव का विरोध किया,और  बाकी बचे अन्य आठ  सदस्यीय देश वोटिंग प्रक्रिया  के दौरान  उपस्थित नही थे । जबकि किसी प्रस्ताव  को पारित होने के लिए  कम से कम  नौ सदस्यीय  देशों के सहमति की आवश्यकता होती  है। उसी तरह  से यहां  भी नौ  सदस्यीय  देशों  के सहमति की आवश्यकता थी लेकिन ऐसा  नही हो सका । अमेरिकी  विदेश  मंत्री  माइक पोंपियो ने बताया  की  सुरक्षा  परिषद  ने अपनी  जिम्मेदारियों को ढंग से नही निभाया  है  उन्होने कहा  कि  विश्व मे शान्ति और सुरक्षा बनाए  रखने  का  दायित्व है । उन्होने कहा  कि हमारे  प्रस्ताव  को खारिज कर सुरक्षा  परिषद ने आतंकवाद की फैक्टरी वाले देश  ईरान के ऊपर से हथियारों का प्रतिबंध हटा  कर असुरक्षा की सम्भावना को बढा  दिया  है। ऐसा करके परिषद  ने अपनी शान्ति को बनाए रखने के जिम्मेदारी मे विफल  रहा । जिन देशों ने इस प्रतिबंध के हटाने  को लेकर असहमति जताई है  दरअसल वो  जानते  है की अगर ईरान के ऊपर से ये  प्रतिबंध  हट जाता  है तो वो कितना अशांति  फैलायेगा पुरे विश्व मे। 

प्रतिबंध पर लगी रोक को हटाने से रोकने  के लिए अमरीका  के प्रस्ताव के साथ जो देश है वो इजराइल और छह  खाड़ी  देश । अमरीका  के विदेश  मानते मे कहा  की वो उन देशों  के साथ  सदैव  रहेगा जो उसी  की तरह सुरक्षा  परिषद  से बहुत कुछ करने की उम्मीद कि, लेकिन  सुरक्षा  परिषद उसपे  खरा  नही उतरा । और साथ ही यह भी बोला कि  भले  सुरक्षा  परिषद  ने ईरान  से प्रतिबंध  हटा  लिया  हो लेकिन हम अपनी तरफ  से इस बात  का भरोसा दिलाते  है की,आंतकी  देशों  को हमारे  तरफ मतलब  यूरोप  और पश्चिमी  देशों से हथियार  खरीदने की स्वतंत्रता  नही होगी । सुरक्षा  परिषद ने इस प्रतिबंध  को 13 साल पहले  लगाया  था,जो इसी साल 18 अक्टूबर  को खत्म  हो रहा है ।

वही सुरक्षा परिषद  मे अमरीका  के प्रस्ताव को खारिज  होने पर संयुक्त  राष्ट्र  की स्थाई  सदस्य केली क्राफ्ट ने सुरक्षा  परिषद के इस फैसले पर  उसे खराब  प्रवृति  वाला बताया।

Next Story
Share it