विदेश

Crash हुए पाकिस्तानी विमान के पायलट ने तीन चेतावनियों को किया था नज़रअंदाज़

Janprahar Desk
25 May 2020 9:57 PM GMT
Crash हुए पाकिस्तानी विमान के पायलट ने तीन चेतावनियों को किया था नज़रअंदाज़
x
दो दिन पहले हुए पाकिस्तान में बड़े विमान हादसे में 97 लोगों ने अपनी जान गवा दी जिसमें 2 लोगों की जान चमत्कारी तौर से बच गयी। लेकिन फिलहाल आ रही मीडिया की खबरों की माने तो विमान के पायलट ने ATC द्वारा जारी की गई तीन चेतावनियों को नजरअंदाज किया था जिसकी वजह से यह विमान हादसा टाला जा सकता था।

दो दिन पहले हुए पाकिस्तान में बड़े विमान हादसे में 97 लोगों ने अपनी जान गवा दी जिसमें 2 लोगों की जान चमत्कारी तौर से बच गयी। लेकिन फिलहाल आ रही मीडिया की खबरों की माने तो विमान के पायलट ने ATC द्वारा जारी की गई तीन चेतावनियों को नजरअंदाज किया था जिसकी वजह से यह विमान हादसा टाला जा सकता था। यह तीनों चेतावनी विमान की ऊंचाई तथा विमान की लैंडिंग से पहले की ज्यादा गति को लेकर थी। पाकिस्तान की Flight PK 8303 के विमान हादसे में 97 लोगों की मौत हो गई जिनमें घनी आबादी में रहने वाले कई लोग भी थे। विमान हादसा पाकिस्तान की राष्ट्रीय उड़ान संस्था PIA की Airbus A320  के क्षतिग्रस्त हो जाने की वजह से हुई। 

आपको बता दें कि PIA की ये फ्लाइट लाहौर से कराची अपने सफर के आखिरी पड़ाव में थी जब यह जिन्नाह अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से महज़ 15 मील की दूरी पर थी। ATC ने अपनी पहली चेतावनी तब जाहिर करी जब उन्होंने यह पाया कि विमान 10000 फुट की ऊंचाई पर उड़ रहा है जबकि उसकी निर्धारित ऊंचाई उस वक्त 7000 फुट की थी। विमान के पायलट ने यह बोला कि वे ऊंचाई से संतुष्ट थे और वे उड़ान को आगे उतार सकते थे। ATC ने तुरंत विमान के पायलट को ऊंचाई कम करने के आदेश दिए और कहा कि ऐसी ऊंचाई पर वे हवाई अड्डे पर विमान को नहीं उतार सकेंगे। ऐसा पाकिस्तान की न्यूज़ एजेंसी GEO News ने  अपनी मीडिया रिपोर्ट में साझा किया। 

जब हवाई अड्डे से विमान की दूरी 10 Nautical मील रह गई थी तब भी उड़ान को 7000 फुट पर उड़ता पाया गया जबकि उसकी निर्धारित ऊंचाई तक 3000 फुट या उससे कम होनी चाहिए थी। ATC ने तुरंत दूसरी चेतावनी विमान के पायलट को दी और उनको कहा कि विमान की ऊंचाई को फौरन कम किया जाए। ऐसे में विमान के पायलट ने पुनः वही बात दोहराई और कहा कि वे ऊंचाई से संतुष्ट थे और उचित तरीके से विमान को हवाई अड्डे पर उतार लेंगे। ऐसा कहते हुए पायलट ने कहा कि वह लैंडिंग के लिए तैयार हैं। जारी की गई रिपोर्ट में यह भी बताया गया कि विमान में 2 घंटे 34 मिनट तक उड़ने का ईंधन था लेकिन उड़ान केवल डेढ़ घंटे की ही थी। ऐसे में विशेषज्ञ इस बात का पता लगा रहे हैं कि विमान के साथ हुए हादसे की वजह पायलट की गैरज़िम्मेदारी थी या कोई तकनीकी गलती थी।

Next Story
Share it