विदेश

न्यूयॉर्क: कोरोना इफेक्ट; न्यूयॉर्क में बाहर से आए युवा बेरोजगार हुए

Janprahar Desk
22 Jun 2020 7:50 AM GMT
न्यूयॉर्क: कोरोना इफेक्ट; न्यूयॉर्क में बाहर से आए युवा बेरोजगार हुए
x
न्यूयॉर्क: कोरोना इफेक्ट; न्यूयॉर्क में बाहर से आए युवा बेरोजगार हुए, आर्थिक संकट से प्रभावित युवाओं ने छोड़ा शहर

न्यूयॉर्क अमेरिका का सबसे बड़ा शहर है। साथ ही विज्ञापन ,बैंकिंग, क्रिएटिव आर्ट्स ,फाइनेंस और मीडिया जैसे बड़े उद्योगों का ग्लोबल सेंटर है। न्यूयॉर्क में कोरोना महामारी का प्रकोप सबसे ज्यादा देखने को मिला है ।परंतु अब हाल ही के कुछ दिनों में वायरस की पकड़ कुछ कम देखने को मिली है। साथ ही यहां कुछ अनोखे अनुभवो के आधार पर बदलाव भी देखे गए हैं। यहां की स्थितियां बदलने लगी है और यह बहुत ही आश्चर्यजनक बात है कि मार्च के अंतिम सप्ताह से न्यूयॉर्क में 35 वर्ष की आयु तक 5 में से 2 लोगों ने बेरोजगारी भत्ता के दावे दायर किए हैं।

यहां ज्यादातर अन्य शहरों से आए लोग ही हैं जो अपनी आंखों में सपने लिए आते हैं। ऑस्ट्रेलिया के समान न्यूयॉर्क शहर भी युवाओं को आकर्षित करता है। देखा जाए तो यहां रहने और खाने-पीने का खर्चा अधिक है पर उसके बावजूद भी लोग अपनी तरक्की के सपने लिए आते हैं। पिछले कुछ महीनों से यहां आर्थिक स्थिति खराब चलने के कारण कई कारखाने बंद हो गए हैं। लोगों को अपने रोजगार के अवसरों के साथ हाथ धोना पड़ रहा है। जिससे यहां आने वाले 20 से 30 साल की उम्र के युवाओं को कोई रोजगार न मिलने के कारण मजबूरन शहर छोड़ना पड़ रहा है। हालांकि अभी उनके लौटने के बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता और कितने लोगों ने शहर छोड़ दिया है अभी उसका आंकड़ा सामने नहीं आया है ।

अंदाजा लगाया जा रहा है कि युवाओं के शहर छोड़ने के बाद यहां कई काम धंधे और फैक्ट्रियां बंद हो जाएंगी और सरकार को आयकर व बिक्री कर के मामले में बहुत नुकसान हो सकता है ।यहां के कई क्षेत्र जैसे टेलीकॉम, हॉस्पिटैलिटी ,होटल्स रेस्टोरेंट्स, टेक्नोलॉजी आदि डिपार्टमेंट में प्रतिभाशाली एवं शिक्षित लोगों की कमी हो जायेगी या हो सकता है आगे आने वाले समय में इन क्षेत्रों को प्रतिभाशाली व्यक्तियों से वंचित होना पड़ेगा। वैसे न्यूयॉर्क शहर की सेवा और कारोबारो को देखते हुए आसानी से कहा जा सकता है कि यहां रोजगार की कोई कमी नहीं है।

लेकिन पिछले 2 माह में यहां हजारों नौकरियां चली गई है ,म्यूजियम नहीं खुले हैं, जायकेदार खाने के लिए restaurant बंद हो गए हैं, थिएटर खुलने की कोई तारीख सामने नहीं आई है,अप्रैल माह से ही आर्ट एंटरटेनमेंट बिजनेस में 67 लोगों की छंटनी हो गई है। यह कुल कर्मचारियों का 78% है। केवल खान-पान सुविधा देने वाले restaurants से 1,19,000 कर्मचारी निकाले गए हैं।
बताया जा रहा है कि कई युवा अगर वापस ना आने का फैसला करते हैं । तो यहां काफी बुरा असर देखने को मिल सकता है।

Next Story