विदेश

नया प्रोपेगेंडा: नेपाल के प्रधानमंत्री ओली का बयान- "भगवान राम भारतीय नहीं, नेपाली थे"

Janprahar Desk
14 July 2020 10:45 AM GMT
नया प्रोपेगेंडा: नेपाल के प्रधानमंत्री ओली का बयान- भगवान राम भारतीय नहीं, नेपाली थे
x
ओली ने भगवान राम को नेपाली बताया है और कहा है कि श्री राम का निवास स्थान अयोध्या, भारत के उत्तर प्रदेश में नहीं है बल्कि इसका संबंध नेपाल से है। उन्होंने अयोध्या को नेपाल के वाल्मीकि आश्रम के पास बताया है ।ओली ने कहा कि हम लोग आज तक इस भ्रम में हैं कि सीता जी का विवाह जिस भगवान श्रीराम से हुआ है वह भारतीय है।

नेपाल के प्रधानमंत्री ने भारत पर सांस्कृतिक अतिक्रमण का गहरा आरोप लगाया है । पीएम आवास में आयोजित एक कार्यक्रम में अपना विवादित बयान देते हुए उन्होंने भारत के लिए एक नया प्रोपेगेंडा खड़ा कर दिया है । ओली ने पहले भी बहुत बेतुके बयान दिए हैं। लेकिन इस बार तो हद ही कर दी।

नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली ने एक बार फिर भारत के लिए मुसीबत खड़ी कर दी है ,और अपने एक बयान में भारत पर सांस्कृतिक अतिक्रमण का आरोप लगाया है। ओली ने अपने बयान में कहा कि भारत ने नकली अयोध्या को खड़ा कर नेपाल के सांस्कृतिक तथ्यो पर अतिक्रमण किया है.

ओली ने भगवान राम को नेपाली बताया है और कहा है कि श्री राम का निवास स्थान अयोध्या, भारत के उत्तर प्रदेश में नहीं है बल्कि इसका संबंध नेपाल से है। उन्होंने अयोध्या को नेपाल के वाल्मीकि आश्रम के पास बताया है ।ओली ने कहा कि हम लोग आज तक इस भ्रम में हैं कि सीता जी का विवाह जिस भगवान श्रीराम से हुआ है वह भारतीय है।

भगवान श्री राम भारतीय नहीं बल्कि नेपाल मुल्क के हैं। उन्होंने कहा कि अयोध्या काठमांडू से 135 किलोमीटर दूर बीरगंज का एक छोटा सा गांव थोरी था। हमारा सांस्कृतिक दमन किया गया और तथ्यों को तोड़ा मरोड़ा गया है।

इससे पहले नेपाल ने अपने यहां भारतीय चैनलों के प्रसारण पर रोक लगा दी थी। नेपाल का आरोप था कि भारतीय चैनल उसके खिलाफ अपमानजनक कंटेंट दिखा रहे हैं । एक आदेश में नेपाल में केबल ऑपरेटर्स ने भारतीय निजी न्यूज चैनलों पर प्रतिबंध लगा दिया था।

Next Story
Share it