विदेश

रूस में विपक्षी पार्टी के नेता वेल्टीनेटर पर :सूत्रों से पता चला कि उन्हें चाय में जहर दिया गया

Janprahar Desk
20 Aug 2020 9:45 PM GMT
रूस में विपक्षी पार्टी के नेता वेल्टीनेटर पर :सूत्रों से पता चला कि उन्हें चाय में जहर दिया गया
x
रूस से एक बहुत बड़ी खबर आई है कि वहां के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बहुत ही बड़े और कट्टर आलोचक विपक्षी नेता अलेक्सी नवाल्नी की हालत काफी गंभीर है। साइबेरिया से मॉस्को लौटने के दौरान उनकी तबीयत बिगड़ गई ।उनकी उम्र 44 साल है। यह घटना गुरुवार की है। उनकी हालत इतनी गंभीर थी कि वे बेहोश हो गए और प्लेन की ओमस्क में इमरजेंसी लैंडिंग करवाई गई। और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया ताकि उनको मृत्यु से बचाया जा सके।

रूस से एक बहुत बड़ी खबर आई है कि वहां के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बहुत ही बड़े और कट्टर आलोचक विपक्षी नेता अलेक्सी नवाल्नी की हालत काफी गंभीर है। साइबेरिया से मॉस्को लौटने के दौरान उनकी तबीयत बिगड़ गई ।उनकी उम्र 44 साल है। यह घटना गुरुवार की है। उनकी हालत इतनी गंभीर थी कि वे बेहोश हो गए और प्लेन की ओमस्क में इमरजेंसी लैंडिंग करवाई गई। और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया ताकि उनको मृत्यु से बचाया जा सके।
विपक्षी नेता की प्रेस सेक्रेटरी जिसका नाम किरा यार्मिश है, उन्हें पूरी तरीके से शक है कि विपक्षी नेता को किसी ने चाय में जहर मिलाकर पिला दिया था। साथ ही सेक्रेटरी ने बताया कि तबीयत बिगड़ने से पहले उन्होंने कुछ भी नहीं खाया था, लेकिन चाय जरूर पी थी।

यार्मिश ने ट्वीट किया, "नवाल्नी को पिछले साल जेल में भी जहर देने की कोशिश हुई थी। इस बार भी उनके साथ ऐसा ही किया गया। फिलहाल वे वेंटिलेटर पर हैं। डॉक्टर का कहना है कि हालत गंभीर है। हालांकि, उनके बीमार होने की वजहों के बारे में कुछ भी नहीं बताया गया है।

नवाल्नी के साथ प्लेन में सफर करने वाले एक पैसेंजर ने अपने सोशल मीडिया पोस्ट में दावा किया कि सफर शुरू होने से पहले नवाल्नी बिल्कुल ठीक थे और फ्लाइट टेक ऑफ होने के बाद वे टॉयलेट गए थे। लेकिन जब वे टॉयलेट से वापस नहीं लौटे ,तो उन्हें ढूंढते हुए एयर हॉस्टेस टॉयलेट में गई ।उन्होंने बताया कि नवाल्नी टॉयलेट में दर्द से तड़प रहे थे।

गौरतलब है कि अलेक्सी  नवलनी, एक वकील और भ्रष्टाचार विरोधी कार्यकर्ता भी हैं, जिन्होंने हाल के वर्षों में जेल में क्रेमलिन विरोधी जंग के आयोजन के लिए कई संकेत दिए हैं।  यूरोपियन कोर्ट ऑफ ह्यूमन राइट्स ने फैसला सुनाया है कि 2012 और 2014 में नवलनी की रूस की गिरफ्तारी और हिरासत को राजनीतिक रूप से प्रेरित किया गया और उसके मानवाधिकारों का उल्लंघन किया गया, एक सत्तारूढ़ मॉस्को जिसे संदिग्ध कहा जाता है। रूस में अगले महीने क्षेत्रीय चुनाव होते हैं और नवलनी और उनके सहयोगी उनके लिए तैयारी कर रहे हैं, जो उम्मीदवारों के लिए समर्थन बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं।

Next Story
Share it