विदेश

अमेरिका और इराक, ईरान में काफी तणाविक वातावरण, अमेरिका के ८० सैनिक मारे गए|

Janprahar Desk
8 Jan 2020 2:14 PM GMT
अमेरिका और इराक, ईरान में काफी तणाविक वातावरण, अमेरिका के ८० सैनिक मारे गए|
x
कासिम सुलेमानी में मरे जाने के बाद ईरान ,इराक में काफी बदले की भावना आ गई है| अमरीका ने कासिम सुलेमानी की हत्या की इसके बदले इराक की सैना चुप नहीं बैठने वाली है| आज बढ़े तनाव के बिच ईरान ने इराक स्थित अमेरिका के दो एयरबेस पर मिसाइलोंसे हमला किया है | वहा के

कासिम सुलेमानी में मरे जाने के बाद ईरान ,इराक में काफी बदले की भावना आ गई है| अमरीका ने कासिम सुलेमानी की हत्या की इसके बदले इराक की सैना चुप नहीं बैठने वाली है| आज बढ़े तनाव के बिच ईरान ने इराक स्थित अमेरिका के दो एयरबेस पर मिसाइलोंसे हमला किया है | वहा के मीडिया का दवा है की इस हमले में अमरीका के करीब ८० सैनिक मारे जा चुके है | इस बात की अभीतक ज्यादा जानकारी नहीं मिली है | पेटांगणके मुताबिक ईरान ने इराक में मौजूदा अल-असल और इरबिल एअरबेस पर १०-१२ मिसाइल छोड़ी जा चुकी है|दोनों एअरबेस पर अमेरिका के साथ गठबंधन सैन्य सतर्क है | इस नुकसान के बारे में अमेरिका सैनिकोंको अभीतक कुछ भी पता नहीं चला है|

अमेरिका सैनिकोंका कहना है की ये मिसाइल लगभग ०५.३० बजे करीब १२ मिसाइल छोड़ी गई है | अमेरिका सैना अब नुकसान की जाँच क्र रही है | पेंटागन के प्रवक्ता जोनाथन हॉफमैन ने इराकहमले की पुष्टि करते हुवे कहा हम युद्ध में हुवे प्रारंभिक नुकसान का आकलन क्र रहे है | हॉफमैन का कहना है की ईरान ने इराक में अमरीका सैना और उसके सहयोगी पर करीब १२ मिसाइल छोड़ी गई है | हॉफमैन का कहना है की ये मिसाइल ईरान ने दागी और इराक में अल-असद ोे इरबिल स्थित २ इराकी सैन्य आडोंको निशाना बनाया झा अमेरिका की सैनिक थे|

ईरान ने इराक स्थित अमेरिका के दो एयरबेस पर मिसाइलों से हमला किया है। इसी बीच ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावेद जरीफ ने कहा कि यह सिर्फ शुरुआत है। जरीफ ने कहा ‘यूएन चार्टर के आर्टिकल 51 के तहत ईरान ने आत्मरक्षा के लिए एक ठोस कदम उठाया है। अमेरिकी एयरबेस पर हमने हमला किया जिन्होंने कायराना तरीके से हमारे सैनिकों और नागरिकों को निशाना बनाया। हम युद्ध नहीं चाहते हैं, लेकिन किसी तरह की आक्रामकता से अपनी सुरक्षा करेंगे।’ बता दें कि मंगलवार को ईरान के विदेश मंत्री को यूएन सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए वीजा देने से इनकार कर दिया था।

अमेरिका के व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव स्टेफनी ग्रिशम ने बताया है कि राष्ट्रपति ट्रम्प को वहा की स्थिति की जानकारी दे दी गई है। ग्रिशम ने कहा, ‘हम इराक में अमेरिकी केन्द्रों पर हमले की खबरों से वाकिफ हैं। और वह स्थिति पर करीब से नजर बनाए हुए हैं, तथा राष्ट्रीय सुरक्षा दल से परामर्श कर रहे हैं। ‘ इससे पहले भी ईरान ने अमेरिकी दूतावास पर हमला किया था जिसके बाद बगदाद में अमेरिकी ड्रोन हमले में कासिम सुलेमानी की हत्या की गई थी। बता दें कि ईरान के सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत के बाद दोनों देशों के बीच तनाव और बढ़ गया है। ईरान ने सुलेमानी की मौत का बदला लेने की धमकी दी थी तो अमेरिका ने भी पीछे न हटने की बात कही थी। इन देश के वातावरण काफी तनाव के बन चुके है|

Next Story
Share it