अपने फर्ज के लिए डॉक्टर भाषा मुखर्जी ने मिस इंग्लैंड का ताज को किया त्याग, कोरोना काल में घर लौटकर की लोगों की सेवा

भाषा मुखर्जी (जो पेशे से एक डॉक्टर है) वो मिस इंग्लैंड 2019 का खिताब जीत चुकी थी। उन्हें अन्य देशों से चैरिटी काम के लिए एम्बेसडर का प्रस्ताव दिया गया था।
 
अपने फर्ज के लिए डॉक्टर भाषा मुखर्जी ने मिस इंग्लैंड का ताज को किया त्याग, कोरोना काल में घर लौटकर की लोगों की सेवा

साल 2020 के मार्च महीने में कोरोना वायरस ने लगभग पूरी दुनिया पर कब्ज़ा कर लिया था। इस महामारी के चपेट में लाखों लोग आ चुके थे और हजारों लोग अपनी जान गवां चुके थे। उस समय अस्पताल में डॉक्टर और नर्स की जरुरत थी जो ऐसी स्तिथि में लोगों की जान बचाने में उनकी मदद कर सके।

भाषा मुखर्जी (जो पेशे से एक डॉक्टर है) वो मिस इंग्लैंड 2019 का खिताब जीत चुकी थी। उन्हें अन्य देशों से चैरिटी काम के लिए एम्बेसडर का प्रस्ताव दिया गया था। लेकिन तभी उन्होंने अपने फर्ज को चुना और वह मेडिकल प्रैक्टिस को फिर से शुरू करने के लिए यूके लौट आई हैं।

भाषा मुखर्जी (Bhasha Mukherjee) का बचपन कोलकाता में बिता है, और अगस्त 2019 में उन्हें मिस इंग्लैंड का ताज पहनाया गया। CNN से बात करते हुए भाषा ने कहा, 'मुझे अफ्रीका, तुर्की, फिर भारत, पाकिस्तान और कई अन्य एशियाई देशों में विभिन्न चैरिटी काम के लिए बतौर एम्बेसडर के रूप में आमंत्रित किया गया था।'

मार्च की शुरुआत में, 24 वर्षीय भाषा कोवेन्ट्री मर्सिया लायंस क्लब की ओर से चार सप्ताह के लिए भारत में रही, एक विकास और सामुदायिक चैरिटी के लिए वह एम्बेसडर थी। उन्होंने स्कूलों का दौरा किया, स्टेशनरी के दान में दिया।

लेकिन जब ब्रिटेन में कोरोनोवायरस की स्थिति खराब हो  होने लगी, तो उनके पुराने अस्पताल के सहयोगियों, बोस्टन, पूर्वी इंग्लैंड के पिलग्रिम अस्पताल से उन्हें मैसेज मिला, उन्होंने बताया कि उनके लिए यह स्थिति कितनी दर्दनाक थी।

मुखर्जी ने अस्पताल की मैनेजमेंट टीम से संपर्क किया और उन्हें बताया की वह काम पर फिर से लौटना चाहती है। भाषा ने कहा, 'जब आप किसी विभिन्न चैरिटी के काम करते हैं, तब आप से ये उम्मीद की जाती हैं कि आप वह ताज पहने और सबसे खूबसूरत दिखें। लेकिन मुझे घर वापस जाना था, सीधे घर आकर मुझे काम पर लौटना था।  

उन्होंने कहा, 'मिस इंग्लैंड बनने और ज़रूरत के समय इंग्लैंड की मदद करने के लिए मेरे लिए बेहतर समय नहीं है।'

आपको बता दें भाषा मुखर्जी ((Bhasha Mukherjee)) ने respiratory medicine में स्पेशलाइज किया हैं।

अन्य खबरें:

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|