विदेश

Corona Virus: भारतीयों के पास वुहान से भारत आने का एक और मौका, जल्द ही प्लेन भेजेगी सरकार।

Janprahar Desk
17 Feb 2020 6:43 PM GMT
Corona Virus: भारतीयों के पास वुहान से भारत आने का एक और मौका, जल्द ही प्लेन भेजेगी सरकार।
x
कोरोना वायरस (Corona Virus) की महामारी से जूझ रहे चीन के हुबेई प्रांत में फंसे भारतीयों के लिए एक अच्छी खबर है। चीन की राजधानी बीजिंग में स्थित भारतीय दूतावास ने कहा है कि भारत सरकार जल्द ही एक प्लेन भेजने वाली है, जिससे वुहान या हुबेई में रह रहे भारतीय वापस भारत आ सकते

कोरोना वायरस (Corona Virus) की महामारी से जूझ रहे चीन के हुबेई प्रांत में फंसे भारतीयों के लिए एक अच्छी खबर है। चीन की राजधानी बीजिंग में स्थित भारतीय दूतावास ने कहा है कि भारत सरकार जल्द ही एक प्लेन भेजने वाली है, जिससे वुहान या हुबेई में रह रहे भारतीय वापस भारत आ सकते हैं। दूतावास ने ट्वीट किया, ‘चीन को COVID-19 महामारी से लड़ने में मदद के लिए भारत इस सप्ताह के अंत में वुहान के लिए एक रिलीफ फ्लाइट पर चिकित्सा आपूर्ति की खेप भेजेगा। वुहान/हुबेई में रहने वाले ऐसे भारतीय जो वापस आना चाहते हैं वे इस उड़ान से आ सकते हैं। सीटें सीमित संख्या में हैं।’

भारत ने की थी मदद की पेशकश
चीन (China) में भारत (India) के राजदूत विक्रम मिस्री ने रविवार को कह था कि घातक कोरोना वायरस (Corona Virus) के प्रकोप से निपटने के लिए भारत अपने स्तर पर चीन के लोगों की हरसंभव मदद करेगा और जल्द ही बीजिंग को चिकित्सा सामग्री की एक खेप भेजेगा। मिस्री ने इस घातक वायरस के खिलाफ चीन के लोगों की लड़ाई में उनके प्रति एकजुटता व्यक्त की थी। मिस्री ने कहा था कि इस वायरस के प्रसार से निपटने के लिए ठोस कदम के रूप में, भारत जल्द ही चिकित्सा सामग्री की एक खेप चीन भेजेगा।

चीन (China) के आयातकों की जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत ने प्रतिबंधों को हटाते हुए चिकित्सा उपकरणों के आर्डर पूरा करने की मंजूरी दे दी है। चीन (China) ने कहा है कि वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज में लगे चिकित्सा कर्मियों के लिए उसे मास्क, दस्ताने और सूट की जरूरत है। पिछले 3 हफ्तों में राष्ट्रव्यापी मांग के चलते चीन में मास्क की भारी कमी का सामना करना पड़ रहा है। मिस्री ने कहा, ‘पिछले कुछ हफ्तों से पूरी दुनिया कोरोना वायरस के प्रकोप और इससे उत्पन्न जबरदस्त चुनौती की गवाह रही है। हमें उन लोगों और परिवारों की भावनाओं का अहसास है जो इस महामारी से प्रभावित हैं।’

Next Story
Share it