विदेश

मानव जाति की शांति के लिए संघर्ष करने की भावना का प्रसार करें

Janprahar Desk
23 Oct 2020 6:05 PM GMT
मानव जाति की शांति के लिए संघर्ष करने की भावना का प्रसार करें
x
मानव जाति की शांति के लिए संघर्ष करने की भावना का प्रसार करें
बीजिंग, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। 23 अक्तूबर को अमेरिकी आक्रमण का विरोध करने और कोरिया की सहायता करने वाले युद्ध की 70वीं वर्षगांठ का स्मृति समारोह पेइचिंग में आयोजित हुआ। चीनी राष्ट्राध्यक्ष शी चिनफिंग ने सम्मेलन में हिस्सा लिया और भाषण दिया।

अपने भाषण में शी चिनफिंग ने कहा कि चीन हमेशा इस युद्ध में जान न्योछावर करने वाले शहीदों को याद करता है। उन्होंने चीन सरकार की ओर से चीनी जन स्वयंसेवक सेना के बुजुर्ग सैनिकों को सद्भावना भेजी और विश्व में शांतिप्रिय सभी देशों, मैत्रीपूर्ण संगठनों और लोगों के समर्थन के प्रति आभार प्रकट किया। साथ ही उन्होंने चीन-कोरिया मैत्री का उच्च मूल्यांकन भी किया।

शी चिनफिंग ने कहा कि इस युद्ध पर विजय चीनी राष्ट्र के महान पुनरुत्थान की ओर जाने वाला अहम मील का पत्थर है, जिससे चीनी जनता के देश की रक्षा करने और प्रभुत्ववाद से न डरने का ²ढ इरादा दिखाया गया है। इस युद्ध ने विश्व में चीन के बड़े देश का स्थान निश्चित किया है और चीनी जनता द्वारा विश्व शांति की रक्षा करने का ²ढ़ संकल्प भी दिखाया है। युद्ध में चीनी जन स्वयंसेवक सेना ने देशभक्ति की भावना और अंतर्राष्ट्रीयवाद की भावना का प्रसार कर मानव जाति की शांति और न्याय के लिए संघर्ष किया। उनकी भावना पीढ़ी दर पीढ़ी प्रसारित की जानी चाहिए।

शी चिनफिंग ने अपने भाषण में यह कहा कि पिछड़ेपन से कोई लाभ नहीं होता, केवल विकास से ही शक्तिशाली बना जा सकता है। चीन को आर्थिक व सामाजिक विकास को बढ़ावा देना, निरंतर रूप से व्यापक राष्ट्रीय क्षमता को मजबूत करना, उच्च गुणवत्ता वाला, ज्यादा कारगर निष्पक्ष, अनवरत व सुरक्षित विकास प्राप्त करना है।

शी चिनफिंग ने कहा कि अमेरिकी आक्रमण का विरोध करने और कोरिया की सहायता करने वाले युद्ध में विजय प्राप्त करने के बाद दसेक वर्षों में चीनी विशेषता वाले समाजवाद ने नये युग में प्रवेश किया है। चीनी राष्ट्र ने महान छलांग लगायी। नये युग में चीनी विशेषता वाले समाजवादी महान कार्य को मजबूत करने के लिये चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व पर कायम रहना चाहिए, जनता से केंद्रित होकर काम करना चाहिये, जनता को लाभ देना और जनता के लिये जिम्मेदारी उठानी चाहिये। साथ ही विकास व सुरक्षा का समन्वय करके प्रतिरक्षा व सैन्य आधुनिकीकरण को तेज करना चाहिये।

शी चिनफिंग ने कहा कि चीन शांतिपूर्ण विकास के रास्ते पर आगे बढ़ता है। चीन विभिन्न देशों की जनता के साथ मानव साझा नियति समुदाय का निर्माण करना चाहता है।

उन्होंने भाषण में बल देकर कहा कि एक जिम्मेदार देश के रूप में चीन शांति, विकास, निष्पक्षता, न्याय, जनतंत्र व मुक्ति पर कायम रहता है। एक साथ विचार-विमर्श से वैश्विक शासन करने पर कायम रहता है, अविचल रूप से शांतिपूर्ण विकास, खुलेपन से विकास, सहयोग से विकास, और समान विकास के रास्ते पर कायम रहता है।

शी चिनफिंग ने कहा कि चीन कभी हावी नहीं होगा, विस्तार नहीं करेगा। चीन ²ढ़ता से प्रभुत्ववाद व बल-राजनीति का कड़ा विरोध करता है। चीन रक्षात्मक राष्ट्रीय रक्षा नीति अपनाता है। उन्होंने यह भी कहा है कि चीन की राष्ट्रीय प्रभुसत्ता, सुरक्षा, विकास के लाभ का उल्लंघन करने वाले और चीन की भूमि का विभाजन करने वाली गंभीर कार्रवाई का चीनी जनता जरूर जवाब देगी।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

Next Story
Share it