विदेश

नवाचार का वैश्विक हब बनने की राह पर शनचन

Janprahar Desk
14 Oct 2020 5:42 PM GMT
नवाचार का वैश्विक हब बनने की राह पर शनचन
बीजिंग, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। आसमान छूती इमारतों से भरा शनचन चीन का सबसे युवा शहर है। दक्षिण चीन का यह शहर आज अपने विशेष आर्थिक क्षेत्र की स्थापना की 40वीं वर्षगांठ मना रहा है। यह देश की अर्थव्यवस्था का सबसे बड़ा और सबसे मजबूत इंजन है। इस शहर की अर्थव्यवस्था हांगकांग से भी बड़ी है।

दरअसल, चीन को जो आज दुनिया की फैक्ट्री कहा जाता है, उसमें एक बड़ा योगदान शनचन का है। साल 1979 तक यह शहर नहीं बल्कि एक छोटा-सा गांव था, जहां सिर्फ मछुआरे रहा करते थे। चीनी नेता दंग श्याओ पिंग ने आर्थिक सुधारों की शुरूआत के लिए विशेष आर्थिक क्षेत्र बनाने का फैसला किया। हांगकांग के सबसे नजदीक होने की वजह से शनचन को सबसे पहले इस प्रयोग के लिए चुना गया। चीन के सुधार और खुलेपन, आधुनिकीकरण में शनचन विशेष आर्थिक क्षेत्र का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

बहरहाल, अब चीन की केंद्र सरकार मजबूत नीति समर्थन के साथ शनचन को नवाचार, उद्यमशीलता और रचनात्मकता का गढ़ बनाने में जुटी है। कई दशकों से, शनचन चीन के सुधार और खुलेपन के लिए खिड़की और प्रायोगिक क्षेत्र बन गया है। उसने कई मूल्यवान अनुभव प्राप्त किये हैं। चीन में जो टेक्नॉलाजी का विकास हुआ है वो शनचन से शुरू हुआ है। शनचन को टेक्नॉलॉजी का हब समझा जाता है, लेकिन अब उसका लक्ष्य नवाचार का वैश्विक हब बनना है।

पायलट प्रदर्शन क्षेत्र में शनचन के निर्माण के लिए चीन की विस्तृत योजना शहर में उच्च गुणवत्ता वाले विकास को बढ़ावा देगी। चीन सरकार व्यापक सुधार को गहरा करने और उच्च स्तर पर खुलेपन को बढ़ाने के लिए पायलट कार्यक्रमों को लागू करने में शनचन का समर्थन करती है।

इसके अलावा, शनचन में बिजनस के अनुकूल वातावरण को बढ़ावा देने, बाजार तक पहुंच को आसान बनाने और विदेशी निवेशकों के लिए अधिक उद्योग खोलने सहित अधिमान्य नीतियां लागू करने पर बल दिया जा रहा है, जिससे शहर में निवेश को बढ़ावा मिलेगा, और ज्यादा से ज्यादा हाई-टेक्नॉलॉजी परिचित होंगी।

पिछले 40 सालों में, शनचन एक छोटे मछुआरा गांव से एक अंतर्राष्ट्रीय शहर में परिवर्तित हो गया, जो आकर्षण, जीवन शक्ति, नवाचार और रचनात्मकता से भरा हुआ है। इसका विकास विश्व विकास के इतिहास में एक चमत्कार है। हालांकि, शनचन और वैश्विक प्रभाव वाले अन्य अभिनव शहरों के बीच नवाचार, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, शिक्षा और सार्वजनिक सेवा के स्तर पर अभी भी अंतर है।

चीन देश के विशेष आर्थिक क्षेत्रों के सुधार, खुलेपन और विकास में अधिक भाग लेने के लिए विदेशी देशों का स्वागत करता है, और समय के साथ तालमेल बनाए रखने के लिए सुधार और खुलेपन को बढ़ा रहा है।

(अखिल पाराशर, चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

-- आईएएनएस

Next Story
Share it