विदेश

विश्व गरीबी उन्मूलन में योगदान देता है चीन

Janprahar Desk
6 Oct 2020 6:35 PM GMT
विश्व गरीबी उन्मूलन में योगदान देता है चीन
x
विश्व गरीबी उन्मूलन में योगदान देता है चीन
बीजिंग, 6 अक्टूबर (आईएएनएस)। हाई-स्पीड रेल चीन के विकास का एक पहचान-पत्र है। चीन में हाई-स्पीड नेटवर्क ने देश के विभिन्न क्षेत्रों को आपस में जोड़ा है, जिससे अनेक क्षेत्रों में गरीबी खत्म हो गई है। उदाहरण के लिए, चीन के आनहुए प्रांत की चिनचाई काऊंटी ने हाई-स्पीड रेल के सहारे पर्यटन उद्योग का विकास किया और इस साल के अप्रैल माह में गरीब काउंटी की सूची से उसका नाम हट गया।

विश्व में सबसे बड़ा विकासमान देश होने के नाते चीन के गरीबी उन्मूलन कार्य में प्राप्त उपल्बधियां खुद ही विश्व गरीबी उन्मूलन कार्य के लिए एक भारी योगदान रहा है। विश्व बैंक के आंकड़े बताते हैं कि विश्व गरीबी उन्मूलन कार्य में चीन की योगदान दर 70 प्रतिशत से अधिक तक जा पहुंची है। साल 2012 से 2019 के अंत तक सात सालों में चीन में गरीब आबादी में 9 करोड़ की कमी आयी है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटरेस ने कहा कि बीते 10 साल में विश्व गरीबी उन्मूलन कार्य में चीन ने सबसे बड़ा योगदान दिया है।

हाल में कोविड-19 विश्व गरीबी उन्मूलन कार्य के लिए एक भारी चुनौती रहा है। संयुक्त राष्ट्र संघ के आर्थिक व सामाजिक मामलात विभाग द्वारा जुलाई माह में जारी एक रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया कि इस साल विश्व में करीब 7.1 करोड़ लोग पुन: अति गरीबी की दलदल में फंसेंगे। हाल में यूएन में आयोजित ऑनलाइन संगोष्ठी में अनेक देशों के प्रतिनिधियों ने कहा कि चीन के गरीबी उन्मूलन अनुभव सीखने योग्य हैं। दक्षिण अफ्रीकी अंतर्राष्ट्रीय संबंध और सहयोग मंत्रालय के प्रतिनिधि ने कहा कि अफ्रीका के विकास में चीन ने अति महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। अफ्रीका चीन के विकास की प्रशंसा करता है और चीन से बहुत कुछ सीखा जा सकता है।

जाहिर है, विकास चीन द्वारा गरीबी उन्मूलन की कुंजीभूत बात है। नये चीन की स्थापना के बाद, खास तौर पर चीन में सुधार और खुलेपन की नीति लागू होने के बाद चीन में तेज आर्थिक विकास से 85 करोड़ लोगों को गरीबी से छुटकारा मिला है और मानव जाति के इतिहास में एक चमत्कार किया है। एक जिम्मेदार देश होने के नाते चीन ने देश में गरीबी उन्मूलन कार्य को आगे बढ़ाने के साथ लोगों के आदान-प्रदान, संयुक्त अनुसंधान, तकनीक सहायता आदि तरीकों से सक्रिय रूप से अन्य देशों के गरीबी उन्मूलन कार्य को भी मदद दी है।

इस साल कोविड-19 की वजह से विभिन्न देशों का गरीबी उन्मूलन कार्य प्रभावित हुआ है। चीन ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में विकासमान देशों के लिए आवाज उठाई है और दक्षिण-दक्षिण सहयोग को मजबूत करने और जी-20 में ऋण चुकाने को स्थगित करने का आह्वान किया। जून माह में संस्थापक देश होने के नाते चीन ने यूएन के गरीबी उन्मूलन संघ में बेल्ट एंड रोड पहल के जरिए इससे जुड़े देशों के रोजगार को बढ़ाने और जन-जीवन का सुधार करने का सुझाव पेश किया। विश्व बैंक की रिपोर्ट से जाहिर है कि बेल्ट एंड रोड पहल से संबंधित देशों के करीब 76 लाख लोगों को अति गरीबी की स्थिति से और 3.2 करोड़ लोगों को मध्यम गरीबी से छुटकारा मिला है।

कोविड-19 अभी भी विश्व में फैल रहा है। संयुक्त राष्ट्र संघ के 2030 अनवरत विकास लक्ष्य को साकार करने के अनिश्चित तत्व बढ़ते जा रहे हैं। विश्व सिर्फ और बड़ी मेहनत से ही गरीबी उन्मूलन के लक्ष्य की ओर आगे चल सकेगा। जैसे कि यूएन के भूतपूर्व महासचिव बान कीमून ने बताया कि इस प्रक्रिया में चीन की भूमिका अनिवार्य है। चीन खुद के विकास को अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को जोड़कर विश्व गरीबी उन्मूलन कार्य के लिए अपना योगदान देगा, ताकि विकास का लाभ हरेक व्यक्ति हासिल कर सके।

(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

-- आईएएनएस

Next Story
Share it