इंजीनियरों की हत्या पर चीन ने अपनाया कड़ा रुख, कई पाकिस्तानियों को दासू प्रोजेक्ट से निकाला

 
Dasu project

पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा में हुए ब्लास्ट के बाद चीन ने पाक के प्रति कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है। चीन ने पाकिस्तान में हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट का काम रोकने का फैसला किया। साथ ही उसने पाकिस्तान के कई कर्मचारियों को प्रोजेक्ट से बाहर निकाल दिया है। चीनी कंपनी निकाले गए गए सभी कर्मचारी को 14 दिन की सैलरी के साथ सभी तरह के भुगतान एक साथ करेगी। 

पाकिस्तान में दासू प्रोजेक्ट पर काम कर रही कंपनी CGCI ने बताया में बताया कि सुरक्षा कारणों के चलते हमने साइट पर काम बंद कर दिया है। निकाले गए सभी पाकिस्तानी कर्मचारियों को 14 दिन की पूरी सैलेरी ग्रैच्युटी और सभी तरह के भुगतान एक साथ मिल जाएगी।

गौरतलब है कि 14 जुलाई को चीनी इंजीनियरों से भरी बस में हमला हुआ था। जिसमें कुक 13 लोग मारे गए थे। इसमें चीन के 9 नागरिक भी शामिल थे। 

बस इंजीनियरों को ऊपरी कोहिस्तान में दसू बांध की साइट पर ले जा रही थी। ये इलाका खैबर पख्तूनख्वा में स्थित है। यहां पहले भी ऐसी कई घटनाएं हो चुकी है। इस इलाके में पाकिस्तान  तालिबान के आतंकी सक्रिय है। 

यह भी पढ़ें: दुनिया के 126 देशों में तीसरे लहर की दस्तक! नीदरलैंड्स में 299 फीसदी संक्रमितों की संख्या बढ़ी

शुरुआत में इसे हादसा बताया गया था, लेकिन बाद में आतंकी एंगल होने की संभावना जताई गई जिसके बाद से चीन ने कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है। फिलहाल में पाकिस्तान चीन को मनाने में जुटा हुआ है।

बता दें कि चीन और पाकिस्तान के बीच हुए बीजिंग  बेल्ट एंड रोड के तहत दसू जलविद्युत परियोजना का कार्य चल रहा है। इस प्रोजेक्ट के तहत पश्चिमी चीन को दक्षिणी पाकिस्तान में ग्वादर समुद्री बंदरगाह जोड़ा जा रहा है। चीनी इंजीनियर इस परियोजना पर कई सालों से काम कर रहे। चीन इस प्रोजेक्ट के लिए 60 बिलियन डॉलर का निवेश पाकिस्तान में कर रहा है। 

अन्य खबरें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|