विदेश

चीन के लिए बना चक्रव्यूह

Janprahar Desk
28 May 2020 12:31 PM GMT
चीन के लिए बना चक्रव्यूह
x
हाल में पीएम मोदी ने रक्षा मंत्री और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ से बैठक किया है और तय किया है कि चीन की भाषा में हमें उन्हें समझाने की जरूरत है।हालांकि वहीं चीन अभी चारो तरफ से घिर गया है जहा उसकी मदद कोई नहीं करना चाहता।

हाल में पीएम मोदी ने रक्षा मंत्री और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ से बैठक किया है और तय किया है कि चीन की भाषा में हमें उन्हें समझाने की जरूरत है।हालांकि वहीं चीन अभी चारो तरफ से घिर गया है जहा उसकी मदद कोई नहीं करना चाहता।कोरोना को पूरे दुनिया में फैलाने का काम चीन ने किया है ये कहा जा रहा है।वहीं चीन ने कभी अपना दोस्ती नहीं दिखाया बल्कि हमेशा दुश्मनी को सबके सामने रखा।वो हमेशा सबसे ऊपर दिखाई देना चहता है।हाल में पीएम मोदी ने रक्षा मंत्री और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ से बैठक किया है और तय किया है कि चीन की भाषा में हमें उन्हें समझाने की जरूरत है।हालांकि वहीं चीन अभी चारो तरफ से घिर गया है जहा उसकी मदद कोई नहीं करना चाहता।

भारत के इस रुख से चीन गुस्से में है और वहीं जिनपिंग ने भी अपने अधिकारों के साथ बैठक की है।चीन ने हाल ही में एल ओ सी पर भारतीय सीमा में करीब पांच हजार सैनिक तैनात किए है।वहीं भारत ने भी जल्द फाउज़ तैनात कर दिया है।अमेरिका के मुंह मोड़ना और बाकी देश के मुंह मोड लेने से चीन अभी अलग होने लगा है परंतु इस बीच भी वो अपना रक्षा बजट को वृद्धि कर रहा है।चीन ने ताइवान की आजादी का भी अतिक्रमण किया है।वहीं भारत ने ताइवान के कूटनैतिक का समर्थन किया है।भारत को ताइवान से मिली ताकत चीन की खिलाफ काम आ सकती है।और चीन को इसी वजह से भी अधिक गुस्सा हुआ।वहीं दूसरी ओर चीन के खिलाफ हॉन्गकॉन्ग में भी नाराजगी है।जबकि दुनिया का बड़ा लोकतंत्र भारत हॉन्गकॉन्ग  लोकतांत्रिक मूल्यों का समर्थन करता है।कोरोना के कारण कोई भी कंपनी उनके साथ काम करना नहीं चाहता।





 
Next Story
Share it