विदेश

लद्दाख के बाद, चीन अब इस देश के क्षेत्र पर दावा कर रहा है।

Janprahar Desk
30 Jun 2020 2:21 PM GMT
लद्दाख के बाद, चीन अब इस देश के क्षेत्र पर दावा कर रहा है।
x
लद्दाख के बाद, चीन अब भूटानी क्षेत्र पर दावा करता है। वैश्विक पर्यावरण सुविधा परिषद की 58 वीं बैठक में, चीन ने कहा कि भूटान में सकतेंग वन्यजीव अभयारण्य का क्षेत्र विवाद में था।

लद्दाख के बाद, चीन अब भूटानी क्षेत्र पर दावा करता है। वैश्विक पर्यावरण सुविधा परिषद की 58 वीं बैठक में, चीन ने कहा कि भूटान में सकतेंग वन्यजीव अभयारण्य का क्षेत्र विवाद में था।

अभयारण्य का क्षेत्र पिछले कई वर्षों में कभी भी विवादित नहीं रहा है। हालांकि, भूटान और चीन के बीच कोई सीमांकन नहीं है। भूटान ने स्पष्ट कर दिया है कि सक्तेग वन्यजीव अभयारण्य भूटान का एक अभिन्न और संप्रभु क्षेत्र है।

वन्यजीव अभयारण्य को कोई वैश्विक फंडिंग नहीं मिली है। लेकिन जब अभयारण्य के लिए धन की पहली आवश्यकता उत्पन्न हुई, तो चीन ने इस क्षेत्र पर दावा करने के अवसर को जब्त कर लिया। यह पता चला है कि परिषद ने चीन के विरोध के बावजूद परियोजना को मंजूरी दी। इसकी रिपोर्ट इंडिया टुडे ने दी थी।

जबकि चीन का इस परिषद में प्रत्यक्ष प्रतिनिधि है, भूटान का इस परिषद में कोई प्रत्यक्ष प्रतिनिधि नहीं है। विश्व बैंक के पास बांग्लादेश, भूटान, भारत, मालदीव, नेपाल और श्रीलंका का भी प्रभार है। इससे पहले, दो जून को चीनी काउंसिल के एक सदस्य झोंगजिंग वांग ने योजना पर आपत्ति जताई थी।

Next Story
Share it