कोविड पॉजिटिव बताकर पेशेंट को किया BKC कोविड सेंटर में भर्ती, देहांत होने के बाद कहा-'उनकी रिपोर्ट नेगेटिव थी'

कोविड पॉजिटिव बताकर मुंबई के BKC कोविड सेंटर में किया भर्ती, ठीक से नहीं इलाज तो गई जान, अब आर साउथ वार्ड ने कहा-रिपोर्ट नेगेटिव थी 
 
कोविड पॉजिटिव बताकर पेशेंट को किया BKC कोविड सेंटर में भर्ती, देहांत होने के बाद कहा-'उनकी रिपोर्ट नेगेटिव थी'

मुंबई में कोरोना वायरस (Coronavirus) का हाहाकार मचा हुआ है, हर रोज हजारों लोग कोरोना पॉजिटिव पाए जा रहे है। मुंबई में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देख राज्य में लॉकडाउन लगा दिया गया है। इस बीच कोविद सेंटर के लापरवाही के वजह से एक महिला की जान गवाने की खबर सामने आई है।

कांदिवली के दहानुकरवाड़ी में रहने वाले राजेश सावंत (जो पेशे से पत्रकार है) उनकी पत्नी राजेश्वरी सावंत को 8 अप्रिल को अचानक पेट में दर्द होने लगा। उन्हें पहले से डाइबिटीज़ की शिकायत थी। 9 अप्रिल को उन्होंने फॅमिली डॉक्टर से कंसल्ट किया, तो डॉक्टर ने कहा कि राजेश्वरी का ऑक्सीजन लेवल काफी कम है, आप कोविड का टेस्ट कर लीजिये। 
 
10 अप्रैल को राजेश सावंत ने कंट्रोल रूम में फ़ोन किया तो वहां से मरीज के बारे में सारी जानकारी देने के लिए कहा। सांस लेने में हो रही दिक्कत के वजह साई नगर में उन्होंने एंटीजेंट टेस्ट (antigen test) किया, जहां उनका रिपोर्ट नेगेटिव आया लेकिन फॅमिली डॉक्टर के कहने पर उन्होंने आर्टिफीसियल टेस्ट (RT PCR test) करवाया जिसका रिपोर्ट आने में करीब डेढ़ दिन का समय लगता है।

Rajeshwari sawant covid report

10 अप्रिल को आर साउथ वार्ड से राजेश सावंत को फ़ोन आया कि आपने टेस्ट करवाया था पॉजिटिव आया है, हम अपनी गाडी भेज रहे है। आप मरीज को लेकर BKC कोविड सेंटर चले जाओ। साथ में उन्होंने निचे दिया लेटर दिया जिसके वजह से राजेश्वरी को BKC कोविड सेंटर में भर्ती किया गया। 

Rajeshwari sawant covid report

राजेश्वरी को करीब शाम 4.45 बजे भर्ती किया गया। करीब 10 बजे जब राजेश सावंत से अपनी पत्नी को फ़ोन किया तो उन्होंने बताया कि यहां कोई ठीक से देख- रेख नहीं कर रहा है। कोई पानी देने वाला भी नहीं है। जब राजेश सावंत वहां फ़ोन कर पूछा कि अभी तक उनका इलाज शुरू नहीं हुआ? तो वहां से जवाब मिला कि डॉक्टर अभी आये नहीं है इसलिए उन्हें दवाई नहीं दी है। उनसे यह भी कहा गया कि आप चिंता ना करे हम यहां ध्यान रख रहे है।

सुबह जब राजेश सावंत ने अपनी पत्नी को फ़ोन किया तो उन्होंने कहा कि अभी तक इलाज शुरू नहीं हुआ है। दवाई भी नहीं दी गई। मुझे सांस लेने में दिक्कत हो रही है। 13 अप्रिल को वीडियो कॉल पर राजश्वरी की हालात को देख उन्हें BKC कोविड सेंटर से डिस्चार्ज कर प्राइवेट अस्पताल में भर्ती करने का फैसला किया।
 
उसी दिन राजेश्वरी को प्राइवेट अस्पताल में भर्ती किया। वहां के डॉक्टर ने कहा कि कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट उनसे ले लेना तभी हम मरीज को रेमडिसीविर इंजेक्शन दे सकते है। BKC कोविड सेंटर से रिपोर्ट मांगने पर उन्होंने कहा रिपोर्ट नहीं है, आपको वाहट्स एप पर मिल जायेगा। कुछ समय बीतने पर जब रिपोर्ट के फिर से फ़ोन किया तो उन्होंने कहा, हम ढूंढ रहे है, कल तक आपको मिल जाएगा। 

तब तक राजेश्वरी को मलाड के सरस्वती अस्पताल में भर्ती किया गया। उनकी तबियत बहुत ख़राब हो गई थी। सांस लेने में ज्यादा दिक्कत हो रही थी। CT scan या दुबारा कोविड टेस्ट करना मुश्किल हो रहा था। कोरोना का रिपोर्ट की राह देखते-देखते 14 अप्रैल को शाम राजेश्वरी ने अस्पताल में आखरी सांस ली।

राजेश सावंत ने कोविड सेंटर पर निशाना साधते हुए कहा कि 'अगर सही समय पर मेरी पत्नी का इलाज शुरू करते तो आज जिंदा होती। उनकी बेपरवाह के वजह से उसकी जान गई। BKC कोविड सेंटर में बहुत लापरवाही की जा रही है। वहां पर बिल्कुल भी मरीजों का ठीक से ध्यान नहीं रखा जा रहा है।'

राजेश्वरी की जान गवाने के बाद आर साउथ वार्ड से जानकारी मिली हैं कि उनका रिपोर्ट 'Negative' था। 

अन्य खबरें:

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|