मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ED ने लिया एक्शन, अनिल देशमुख की 4.20 करोड़ की संपत्ति की गई कुर्क

 
Anil deshmukh money laundering

प्रवर्तन निदेशालय में मनी लॉन्ड्रिंग मामले में महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उनके परिवार की 4.20 करोड़ की अचल संपत्ति कुर्क कर ली है। प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने बताया कि पीएमएलए के तहत कुर्की के प्रारंभिक आदेश जारी किये गए है।

ईडी द्वारा भेजे गए तीन समन कर बाद भी अनिल देशमुख जांच एजेंसी के समक्ष पेश नहीं हुए थे, जिसके  बाद ईडी ने 4.20 करोड़ की संपत्ति कुर्क कर ली।  जांच एजेंसी ने इस मामले में उनके बेटे ऋषिकेश और पत्नी को भी समन भेजा था। लेकिन पत्नी और बेटे दोनों ने ही जांच कराने से इनकार कर दिया था।

पूर्व मख्यमंत्री अनिल देशमुख ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की थी, जिसमें उनके वकील द्वारा कहा गया कि ईडी की कार्रवाई अनुचित है। अनिल देशमुख ने कई बार कह चुके है कि मनी लॉन्ड्रिंग मामले में उनका कोई हाथ नहीं है। 

बता दें कि मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने खुलासा करते हुए कहा था कि गृह मंत्री अनिल देशमुख के कहने पर ही ऐसा किया था। परमबीर सिंह ने 100 करोड़ की धन उगाही का आरोप लगाया था, साथ ही यह भी कहा था कि जब बात होती थी तो अनिल देशमुख के पर्सनल सेक्रेटरी मौजूद होते थे।  जसके बाद सीबीआई देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार और कदाचार के आरोपों की जांच कर रही है। वहीं, इस संबंध उनके दो पीए कुंदन शिंदे और संजीव पलांडे को गिरफ्तार किया गया था।

यह भी पढ़ें: महाराष्ट : स्वास्थ्य अफसर और डॉक्टरों की रिटायरमेंट उम्र में हुआ बदलाव, अब इतने साल में होंगे रिटायर

मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों के बाद एनसीपी के वरिष्ठ नेता अनिल देशमुख ने अपने पद से इस्तिफा दे दिया था। तब से वह इस मामले में वह जांच के दायरे में है। हाल ही में सीबीआई ने बम्बई हाई कोर्ट से कहा था की राज्य सरकार अनिल देशमुख के खिलाफ जांच में सहयोग नहीं कर रही। 

वहीं, एनसीपी के वरिष्ठ राजनेता शरद पवार ने इस मामले कहा कि अनिल देशमुख को बेवजह का परेशान किया जा रहा है। उनके परिवार के खिलाफ जांच में भी कुछ सामने नहीं आया तो अब उन्हें हताश किया जा रहा है। 

अन्य खबरें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|