दिल्ली ऑक्सीजन विवाद पर ऑडिट कमेटी के प्रमुख रणदीप गुलेरिया ने दिया बयान, कह दी ये बड़ी बात

 
Randeep guleria

ऑक्सीजन ऑडिट कमेटी की रिपोर्ट आने से पहले ही भाजपा ने दावा किया है कि जब दूसरी लहर में कोरोना पीक पर था तो दिल्ली सरकार ने जरूरत से 4 गुना ज्यादा ऑक्सीजन मंगवाई, जिससे अन्य राज्यों की ऑक्सीजन आपूर्ति बाधित हुई। भाजपा के नेता कल से ही कमिटी की रिपोर्ट का हवाला देते हुए केजरीवाल सरकार पर हमला बोल रहे है। वहीं, अब ऑक्सीजन ऑडिट समिति के प्रमुख और एम्स के चीफ ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए इस मामले पर अपनी बात कही है।

एक अंग्रेजी चैनल से बात करते हुए डॉ गुलेरिया ने अपनी बात इशारों इशारों में कह दी। उन्होंने कहा, मुझे ऐसा नहीं लगता कि हम ऐसा कह सकते है कि ऑक्सीजन की मांग का चार गुना बढ़ाकर बताया गया है। अभी फाइनल रिपोर्ट नहीं आई है, हमे अभी इंतजार करना चाहिए और देखना चाहिए कि इस विषय पर सुप्रीम कोर्ट क्या कहता है। क्योंकि यह मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में ही है। 

मालूम हो कि कल से इस मुद्दे को भाजपा नेताओं की तरफ से उछाला जा रहा है। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने ऑक्सीजन कमिटी की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि केजरीवाल ने राजधानी दिल्ली में जरूरत से 4 गुना ज्यादा ऑक्सीजन सिलेंडर की मांग की, जिस कारण 12 राज्यों की ऑक्सीजन आपूर्ति बाधित हुई। संबित पात्रा ने कहा कि दिल्ली सरकार ने आपराधिक लापरवाही की है यह जघन्य अपराध है। 

Also Read: 'मां तुझे सलाम' गाने की वजह से लॉक किया गया था IT मिनिस्टर रवि शंकर प्रसाद का Twitter एकाउंट

वहीं, दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इन आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि अगर ऐसी कोई रिपोर्ट है जिसपर ऑक्सीजन कमिटी के सदस्यों ने हस्ताक्षर किए हो तो भजपा पेश करें। उन्होंने तंज मारते हुए कहा कि यह रिपोर्ट भाजपा के कार्यालय में बैठकर बनाई गई होगी। आगे उन्होंने कहा कि जब संक्रमण के मामले चरम पर थे तब दिल्ली को 1140 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत थी लेकिन हम 209 मेट्रिक टन ऑक्सीजन ही इस्तेमाल कर पाए। 

अन्य खबरें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|