क्रिकेट

प्रधानमंत्री भी हुए धोनी के रिटायरमेंट से निराश:मोदी ने लिख डाला धोनी को एक इमोशनल लेटर

Janprahar Desk
20 Aug 2020 9:48 PM GMT
प्रधानमंत्री भी हुए धोनी के रिटायरमेंट से निराश:मोदी ने लिख डाला धोनी को एक इमोशनल लेटर
x
महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट का ऐलान 15 अगस्त को लिया था। उनके इस फैसले से क्रिकेट के फैंस निराश हो गए थे और प्रधानमंत्री मोदी ने भी अपनी निराशा व्यक्त की है ।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी के इस फैसले पर उनको एक इमोशनल चिट्ठी लिखी है और अपने पत्र में कुछ ऐसे शब्द भी लिखे हैं जिनसे यह साफ जाहिर होता है कि नरेंद्र मोदी भी धोनी के द्वारा भारत के लिए दिए गए योगदान के शुक्रगुजार हैं।


महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट का ऐलान 15 अगस्त को लिया था। उनके इस फैसले से क्रिकेट के फैंस निराश हो गए थे और प्रधानमंत्री मोदी ने भी अपनी निराशा व्यक्त की है ।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी के इस फैसले पर उनको एक इमोशनल चिट्ठी लिखी है और अपने पत्र में कुछ ऐसे शब्द भी लिखे हैं जिनसे यह साफ जाहिर होता है कि नरेंद्र मोदी भी धोनी के द्वारा भारत के लिए दिए गए योगदान के शुक्रगुजार हैं।

भारतीय क्रिकेट टीम के बेस्ट प्लेयर महेंद्र सिंह धोनी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चिट्ठी का शुक्रिया किया ।उन्होंने शुक्रिया जताते हुए सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर एक ट्वीट किया और अपने ट्वीट में लिखा "एक कलाकार, फौजी और खिलाड़ी को बस यह चाहिए होता है कि उसकी हौसला अफजाई हो और उसकी कड़ी मेहनत और बलिदान को सब लोग याद रखें ।तारीफ और शुभकामनाओं के लिए आपका शुक्रिया !प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

प्रधानमंत्री मोदी ने धोनी के लिए लेटर में लिखा-

  • ‘‘आपने अपने खास अंदाज में जो वीडियो शेयर किया था, वह पूरे देश के लिए चर्चा का विषय बन गया। हालांकि, 130 करोड़ भारतीयों को निराशा हुई, लेकिन आपने भारतीय क्रिकेट के लिए जो किया, उसके लिए सभी आभारी हैं।’’
  • ‘‘आपके क्रिकेटिंग करियर को स्टेटिसटिक्स के प्रिज्म के जरिए देखा जा सकता है। आप भारत के सबसे कामयाब कप्तानों में से एक रहे हैं। आपके प्रयासों से देश, दुनिया में नंबर एक तक पहुंचा। आपका नाम दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाजों में शुमार किया जाएगा। आप निश्चित ही दुनिया के बेहतरीन विकेटकीपर रहे हैं।’’
  • ‘‘मुश्किल हालात से निकालना आपकी खूबी रही है। मैच को खत्म करने का आपका अंदाज भी लाजवाब रहा है, खासकर 2011 वर्ल्ड कप में। लोगों के जेहन में इसकी याद हमेशा ताजा रहेगी, लेकिन महेंद्र सिंह धोनी का नाम सिर्फ करियर स्टेटिसटिक्स या किसी मैच में जीत के लिए ही खेली पारी के लिए ही याद नहीं रखा जाएगा। आपको सिर्फ एक खिलाड़ी के तौर पर देखना नाइंसाफी होगी। आपका खेल और लोगों पर बहुत गहरा प्रभाव रहा है।’’
  • ‘‘एक छोटे से शहर से शुरुआत करके आप देश में छा गए। आपने न सिर्फ अपने लिए नाम कमाया, बल्कि देश को भी गर्व करने के कई मौके दिए। आपकी तरक्की और व्यवहार ने उन करोड़ों युवाओं को प्रेरणा और ताकत दी, जो आपकी तरह किसी बड़े स्कूल या कॉलेज में नहीं गए और न ही उनका परिवार रसूखदार रहा, लेकिन फिर भी उनमें भीड़ से अलग दिखने का टैलेंट था।’’
  • ‘‘आप न्यू इंडिया की सही तस्वीर पेश करने वालों से एक हैं। जहां परिवार का नाम युवा का भाग्य तय नहीं करता, बल्कि वे खुद अपना नाम और तकदीर बनाते हैं। हम कहां से आते हैं, इससे तब तक फर्क नहीं पड़ता, जब तक हमें यह मालूम हो कि हमें कहां जाना है। आपने युवाओं को अपनी इसी खूबी से प्रभावित और प्रेरित किया।’’
  • ‘‘मैदान पर आपके कई यादगार लम्हे आज के जनरेशन के युवाओं के लिए उदाहरण हैं। यह जनरेशन खतरा मोल लेने से नहीं डरती है और मुश्किल हालात में भी एक-दूसरे का साथ देता है। आपने भी ऐसा कई बार रिस्क उठाया, जब आपने हाई प्रेशर मैच में युवाओं को मौका दिया। 2007 टी-20 वर्ल्ड कप का फाइनल इसका बड़ा उदाहरण है।’’
  • ‘‘भारत की यह जनरेशन मुश्किल हालात में भी हौसला नहीं खोती है। हमने आपकी कई पारियों और मैच में यह करीब से देखा। हमारा यूथ मुश्किल हालात में जरा भी नहीं घबराता है और बेखौफ है। जैसी आपने टीम की अगुआई की।’’
  • ‘‘यह मायने नहीं रखता कि आपने कौन-सी हेयरस्टाइल रखी थी, लेकिन जीत हो यार, आपका मन और दिमाग हमेशा शांत रहा। यह देश के हर युवा के लिए सबसे अहम सीख है। मैं भारत के सशस्त्र बलों से आपके जुड़ाव का खास तौर पर जिक्र करना चाहूंगा। आप आर्मी के लोगों के साथ जुड़कर बेहद खुश थे। भारतीयों की मौजूदा पीढ़ी फैसला करने वाले हालात में अपनी हिम्मत नहीं छोड़ती, हमने यह बात आपकी कई पारियों देखी है।’’
  • ‘‘मुझे उम्मीद है कि अब साक्षी और जीवा आप के साथ ज्यादा वक्त बिता पाएंगे। मैं उन्हें भी शुभकामनाएं देता हूं, क्योंकि उनके त्याग और सहयोग के बिना यह संभव नहीं हो पाता। देश का यूथ आपसे सीख सकता है कि कैसे प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ को कैसे बैलेंस रखा जा सकता है। मुझे एक तस्वीर देखकर याद आया कि कैसे एक टूर्नामेंट जीतने के बाद टीम के बाकी खिलाड़ी मैदान पर जश्न मना रहे थे और आप अपनी क्यूट बेटी जीवा के साथ खेल रहे थे। मेरे लिए यह विंटेज धोनी था। आपको भविष्य के लिए शुभकामनाएं।’’
Next Story