शास्त्री-कोहली की इस मांग पर BCCI ने अपनाया सख्त रवैया, कहा- जो मिला है उसी से काम चलाइए

 
Kohli and shastri

इंग्लैंड दौरे पर गई भारतीय क्रिकेट टीम असमंजस में फंस गई है। बीसीसीआई के सख्त रवैया के बाद भारतीय टीम की मुश्किलें और बढ़ गई है। दरअसल भारतीय टीम मैनेजमेंट (कोहली और शास्त्री) ने बोर्ड से एक ओपनर भेजे जाने की मंग की थी जिसपर बीसीसीआई ने कहा कि जो टीम दौरे पर गई है उसी से काम चलाइए। 

भरतीय टीम के युवा ओपनर शुभमन गिल चोट के कारण स्वदेश भेजे जा रहे है। अब उनकी जगह टीम मैनेजमेंट भारत से किसी और खिलाड़ी को बुलाना चाहता था लेकिन बोर्ड ने इससे इनकार कर दिया है। ओपनर के तौर पर टीम के साथ रोहित शर्मा और शुभमन गिल के अलावा मयंक अग्रवाल और अभिमन्यु ईश्वरन भी गए हैं।  

मिली जानकारी के अनुसार टीम मैनेजमेंट ने  पृथ्वी शॉ और देवदत्त पडिक्कल जैसे युवा ओपनरों को भेजे जाने का आग्रह किया था। लेकिन बीसीसीआई ने इसे खारिज कर दिया। सूत्रों के अनुसार पृथ्वी शॉ और पडिक्कल को 24 खिलाड़ियों की टीम में शामिल ही नहीं किया गया था तो अब स्थिति कैसे बदल सकती है।

अब ऐसे में भारतीय टीम के पास चार ओपनर ही बचते है। उसमें से एक ओपनर गिल चोट लगने में कारण भारत वापस लौटेगा। जानकारी के मुताबिक, इस चोट से पूरी तरह उबरने में गिल को कम से कम तीन महीने लग सकते हैं।

यह भी पढ़ें: ओलंपिक में मंडराया कोरोना का साया, बिना दर्शकों के होंगे खेल! टोक्यो शहर में लगाई गई इमरजेंसी

बोर्ड के इस फैसले के बाद तो यह साफ हो गया है कि 4 अगस्त से इंग्लैंड के साथ होने वाले टेस्ट सीरीज में रोहित शर्मा के साथ मयंक अग्रवाल की ही जोड़ी ओपनिंग करते नजर आएगी। मयंक और रोहित ने 2019 में साउथ अफ्रीका और बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज में अच्छी पारी खेली थी। 

अगर अभिमन्यु ईश्वरन की बात करे तो उनके पास अभी कम तजुरबा है। बंगाल रणजी टीम के सदस्य ईश्वरन को स्टैंडबाय ओपनर के तौर पर रखा गया है।

अन्य खबरें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|