क्रिकेट

BCCI ने चीनी कंपनी VIVO से छीन ली T20- IPL के 2020 संस्करण की स्पॉन्सरशिप

Janprahar Desk
9 Aug 2020 5:10 PM GMT
BCCI ने चीनी कंपनी VIVO से छीन ली T20- IPL के 2020 संस्करण की स्पॉन्सरशिप
x
2008 में पहली बार जब T20 लीग की शुरुआत हुई थी तो पहली प्रायोजक भारतीय रियल एस्टेट कंपनी DLF थी, जिसके साथ 5 साल का अनुबंध था । इसके बाद 2013 में अमेरिका की कोल्ड ड्रिंक कंपनी पेप्सी-को के साथ 5 साल का करार हुआ। यह दूसरी प्रायोजक कंपनी बनी ।

आईपीएल की शुरुआत 2008 में हुई थी ।  यह एक तरीके का टूर्नामेंट हैBCCI ने चीनी कंपनी VIVO से छीन ली T20- IPL के 2020 संस्करण की स्पॉन्सरशिप अब तक आईपीएल के 12 सीजन हो चुके हैं । vivo , IPL की तीसरी टाइटल प्रायोजक कंपनी है । 

आईपीएल का 13वां एडिशन यूएई में अगले महीने 19 सितंबर से शुरू होगा। इसका फाइनल मैच 10 नवंबर को खेला जाएगा। पहले यह लीग मार्च में भारत में ही खेली जानी थी, लेकिन घातक कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इसे तब स्थगित कर दिया गया था।

2008 में पहली बार जब T20 लीग की शुरुआत हुई थी तो पहली प्रायोजक भारतीय रियल एस्टेट कंपनी DLF थी, जिसके साथ 5 साल का अनुबंध था । इसके बाद 2013 में अमेरिका की कोल्ड ड्रिंक कंपनी पेप्सी-को के साथ 5 साल का करार हुआ। यह दूसरी प्रायोजक कंपनी बनी ।

इसके बाद 2017 में चीनी मोबाइल कंपनी vivo के साथ 5 साल का करार किया गया था।
विवो इंडिया ने 2017 में आईपीएल के मुख्य प्रायोजन अधिकार 2199 करोड रुपए में हासिल किए थे। लेकिन इस बार T20 IPL को चाइनीस कंपनी VIVO स्पॉन्सर नहीं करेगी ।हाल ही में बीसीसीआई ने इस संबंध में एक ऑफिशियल विज्ञप्ति जारी करते हुए सभी को जानकारी दी है और बताया है कि आईपीएल के इस संस्करण के लिए विवो की स्पॉन्सरशिप को रद्द कर दिया गया है।

इस साल का आईपीएल UAE के दुबई में होगा। विवो की स्पॉन्सरशिप को रद्द करने का मुख्य कारण ,इसी साल जून में पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई भिड़ंत है। इस मुद्दे को लेकर भारत में कई लोगों ने चीनी सामानों के बहिष्कार करने की बात कही थी और उसके बाद कुछ चीनी एप्लीकेशन को भी भारत में बैन कर दिया गया था।

Next Story