धर्म

5 महीने बाद फिर से हो रही मां वैष्णो के दर्शन की तैयारी:1 दिन में कर सकेंगे 5 हजार लोग दर्शन

Janprahar Desk
12 Aug 2020 7:25 PM GMT
5 महीने बाद फिर से हो रही मां वैष्णो के दर्शन की तैयारी:1 दिन में कर सकेंगे 5 हजार लोग दर्शन
x
5 महीने बाद फिर से 16 अगस्त से श्रद्धालुओं के स्वागत की तैयारियां हो रही है ।लेकिन यहां श्रद्धालुओं की एक सीमा तय कर दी गई है ।जम्मू-कश्मीर सरकार ने दर्शनार्थियों की संख्या को लेकर एक ऐलान किया है और बताया है कि वैष्णो देवी यात्रा के लिए प्रतिदिन 5000 श्रद्धालुओं को ही एंट्री मिलेगी।
यह सीमा 30 सितंबर तक लागू रहेगी। जम्मू कश्मीर से बाहर के सिर्फ 500 श्रद्धालु ही प्रतिदिन दर्शन के लिए आ सकेंगे ।सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखा जाएगा ।कोरोना से संबंधित अन्य नियम भी लागू किए जाएंगे।

कोरोना महामारी की वजह से सभी मंदिर बंद थे और धीरे-धीरे अब सभी मंदिर खुल रहे हैं और फिर से दर्शनार्थियों के स्वागत की तैयारियां भी चल रही है।
कोरोनावायरस के चलते 18 मार्च को वैष्णो देवी की यात्रा पर रोक लगा दी गई थी ।लेकिन अब वैष्णो देवी का दर्शन करने के लिए उत्सुक दर्शनार्थियों का इंतजार समाप्त होने को है।
श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड में वैष्णो देवी का दर्शन करने वाले दर्शनार्थियों के स्वागत की तैयारियां चल रही है ।

5 महीने बाद फिर से 16 अगस्त से श्रद्धालुओं के स्वागत की तैयारियां हो रही है ।लेकिन यहां श्रद्धालुओं की एक सीमा तय कर दी गई है ।जम्मू-कश्मीर सरकार ने दर्शनार्थियों की संख्या को लेकर एक ऐलान किया है और बताया है कि वैष्णो देवी यात्रा के लिए प्रतिदिन 5000 श्रद्धालुओं को ही एंट्री मिलेगी।
यह सीमा 30 सितंबर तक लागू रहेगी। जम्मू कश्मीर से बाहर के सिर्फ 500 श्रद्धालु ही प्रतिदिन दर्शन के लिए आ सकेंगे ।सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखा जाएगा ।कोरोना से संबंधित अन्य नियम भी लागू किए जाएंगे।

कोरोना संक्रमण के दौर में वैष्णो देवी की यात्रा सुचारू रूप से चलाई जा सके इसके लिए प्रशासन ने कई नियम बनाए हैं. 60 साल के अधिक उम्र के व्यक्ति, बीमारियों से जूझ रहे व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं, 10 साल से कम उम्र के बच्चों को धार्मिक स्थलों के अंदर प्रवेश नहीं दिया जाएगा। 

दूसरे राज्यों और जम्मू कश्मीर के रेड जोन इलाकों से आने वाले दर्शनार्थियों को रैपिड एंटीजन टेस्ट करवाना होगा और उसके बाद ही दर्शन की इजाजत मिलेगी । इसके अलावा श्रद्धालु मंदिर परिसर में किसी प्रकार का चढ़ावा नहीं चढ़ा सकेंगे।  देवी-देवताओं की प्रतिमाओं को छूना भी वर्जित होगा. बता दें कि सामान्य दिनों में वैष्णो देवी मंदिर में श्रद्धालुओं की काफी भीड़ उमड़ती है। 

कोरोना के चलते ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था की गई है ,इसका मतलब यह है कि नई गाइडलाइंस के मुताबिक वैष्णो देवी आने के लिए रजिस्ट्रेशन सिर्फ ऑनलाइन ही होगा ।पहले की तरह भवन में कंबल, चद्दर की सुविधा नहीं मिलेगी। चद्दर एवं कंबल दर्शनार्थियों को खुद ही लाना होगा ।दर्शन के बाद श्रद्धालुओं को भवन में भी नहीं रुकने दिया जाएगा। घोड़े -खच्चर वालों को भी अंदर आने की इजाजत नहीं है ।यह अगले आदेश तक जारी रहेगा।

Next Story