धर्म

व्रत में भूलकर भी ये लोग न करे ये काम।

Janprahar Desk
14 July 2020 10:00 PM GMT
व्रत में भूलकर भी ये लोग न करे ये काम।
x

दोस्तों नवरात्रि शब्द एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ होता है नौ रात्रि नौ राते और 10 दिनों के दौरान शक्ति देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है आपको बता दें नवरात्रि एक महत्वपूर्ण प्रमुख त्यौहार है जिसे पूरे भारत में महान उत्साह के साथ मनाया जाता है।

लेकिन चाहे कुछ भी हो जाए भूल कर भी ऐसी 5 महिलाएं नवरात्रि का व्रत कभी ना रखें माता रानी ऐसी महिला से कभी खुश नहीं होती इसीलिए आप भी जान लीजिए कहीं आप इन 5 महिलाओं में से तो नहीं दोस्तों नवरात्रि हिंदुओं का एक विशेष पर्व है  लेकिन क्या आप जानते हैं कुछ ऐसी महिलाएं भी हैं जो इस व्रत को ना रखे तो अच्छा है मान्यताओं के अनुसार आज हम जिन महिलाओं के बारे में बात करने वाले हैं उन्हें नवरात्रि के व्रत से हमेशा दूर रहना चाहिए नहीं तो माता आपसे क्रोधित हो सकती है और आपके साथ कुछ बुरा हो सकता है आपका पति किसी संकट में आ सकता है तो चलिए जानते हैं।

दोस्तों नंबर वन तलाकशुदा महिला। शास्त्रों के अनुसार तलाकशुदा  महिला या पुरुष नवरात्रि का व्रत न रखें ऐसा करने से माता खुश नहीं होती आपकी जानकारी के लिए बता दें शादी दो दिलों का बंधन है जिस के बंधन में आजीवन रहना होता है ना कि अलग-अलग माता रानी टूटे हुए जोड़े को स्वीकार नहीं करती टूटे हुए जोड़े का व्रत रखना पूजा पाठ करना शुभ नहीं माना जाता बल्कि माता रानी तब प्रसन्न होती है जब आप बंधन में हो खासतौर से पति पत्नी अगर साथ में व्रत रखे तो माता रानी सबसे अधिक प्रसन्न होती है और देती है वरदान ऐसे में शेरों वाली माता बहुत प्रसन्न होती है इसीलिए दोनों को मिलकर पूजा पाठ करना चाहिए ना कि अलग-अलग।

दोस्तों नंबर 2 वैश्या को नवरात्रि का व्रत कभी नहीं रखना चाहिए और ना ही करवा चौथ का व्रत। शरीर की पवित्रता जब व्यक्ति की खत्म हो जाती है तब वह मैला ही नहीं बल्कि पापी भी कह लाता है इसीलिए आपकी पूजा कभी सफल नहीं हो सकती यह व्रत आप कभी ना रखें।

 नंबर 3 अगर आपको कोई घातक बीमारी है तो आप इस व्रत को ना रखें जैसे उदाहरण के तौर पर शुगर की बीमारी दिल की बीमारी शरीर में कमजोरी होना चक्कर आना बीपी का बढ़ जाना शरीर में दर्द होना बगैरा बगैरा तो आप यह व्रत कभी ना रखें नहीं तो आपके साथ कुछ भी हो सकता है इसीलिए सावधान रहें।

 नंबर 4 अगर आप किसी भी व्रत को दिखावे के तौर पर अपनाते हैं तो शास्त्रों के अनुसार यह घोर पाप माना जाता है ऐसा करने से आप देवताओं का मजाक ही  नहीं उड़ाते बल्कि आप पाप के भागीदार भी बनते हैं ऐसे लोगों से माता  प्रसन्न नहीं होती बल्कि उसको बरबाद कर देती है माँ तभी प्रसन्न होते हैं जब आप सच्चे दिल से उन्हें पुकारे और शास्त्रों का पालन करें।

नंबर अगर आपको बार-बार गाली देने की आदत है तो आप जितना जल्दी हो सके इस आदत को छोड़ दे। अगर माता रानी को प्रसन्न करना है और व्रत पूजा पाठ करना है तो जुबान से मीठे बोल ही बोले अधिक से  ज्यादा कड़वे बोल माता सरस्वती का अपमान होता है और आप भी पाप के भागीदार बन जाते हैं। 

Next Story