राजनीती

सचिन पायलट हुए राजस्थान कांग्रेस पार्टी से खफा :तो उनको हटाया गया डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष पद से

Janprahar Desk
14 July 2020 10:09 PM GMT
सचिन पायलट हुए राजस्थान कांग्रेस पार्टी से खफा :तो उनको हटाया गया डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष पद से
x
मीटिंग में सचिन पायलट और उनके समर्थन में उतरे पार्टी के मंत्रियों विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को उनके पदों से हटा दिया गया।
जिसमें सचिन पायलट से डिप्टी सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का पद छीन लेने का प्रस्ताव पारित हुआ ।

राजस्थान में राजनीतिक सियासत के चलते कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष एवं डिप्टी सीएम सचिन पायलट कुछ दिनों से पार्टी से खफा थे।
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को बातचीत करने के लिए एक बैठक रखी थी ,जिसमें पायलट को बातचीत करने के लिए बुलाया और कहा कि "पार्टी के दरवाजे आपके लिए खुले हैं। पार्टी आपका स्वागत करती है ।"
लेकिन सचिन पायलट मीटिंग में नहीं आए ।उसके बाद भी सरकार ने पायलट को दूसरा मौका दिया और मंगलवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधायक दल की दूसरी बैठक बुलाई ।लेकिन फिर भी पायलट नहीं आए ।आज भी हालात ऐसे ही बने।

विधायक दल की बैठक सुबह 10:30 बजे होनी थी, लेकिन यह एक घंटे देरी से 11:30 बजे शुरू हुई। बगावत पर उतरे पायलट और उनके समर्थक विधायकों का इंतजार किया गया। इससे पहले पायलट को इस बैठक के लिए न्योता भेजा गया था। हालांकि, पायलट खेमे ने फिर आने से इनकार कर दिया। बैठक में शामिल नहीं हुए विधायकों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का प्रस्ताव पास किया गया। सभी विधायकों ने पायलट को पार्टी से निकालने पर सहमति जताई।

उसके बाद सरकार ने तीसरी बैठक बुलाई और उस मीटिंग में सचिन पायलट और उनके समर्थन में उतरे पार्टी के मंत्रियों विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को उनके पदों से हटा दिया गया।
जिसमें सचिन पायलट से डिप्टी सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का पद छीन लेने का प्रस्ताव पारित हुआ ।

उस प्रस्ताव को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राज्यपाल कालराज मिश्र से मिलने पहुंचे और अपने ट्विटर अकाउंट से यह घोषणा की कि सचिन पायलट उपमुख्यमंत्री ,श्री विश्वेंद्र सिंह मंत्री एवं श्री रमेश मीणा मंत्री को मंत्रिमंडल से पूर्ण रूप से बर्खास्त किए जाने का प्रस्ताव राज्यपाल महोदय द्वारा तत्काल रूप से स्वीकार कर लिया गया है और इसी तरह राजस्थान की राजनीतिक सियासत और गंभीर घमासान के बीच सचिन पायलट को मंगलवार को डिप्टी सीएम पद से पूर्ण रूप से हटा दिया गया ।इसका साफ मतलब यह है कि उनसे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का दर्जा भी ले लिया गया है।

Next Story