राजनीती

कोरोना - राजनीति और विपक्ष  : कन्हैया कुमार के शब्दों में

Janprahar Desk
27 May 2020 9:35 AM GMT
कोरोना - राजनीति और विपक्ष  : कन्हैया कुमार के शब्दों में
x
कोरोना महामारी के चलते स्वास्थय आपातकालीन की ऐसी स्तिथि में विपक्ष की भूमिका बयां करते सी.पि.आई नेता कन्हैया कुमार ने THE WIRE से बातचीत की।  कुछ बिंदुओं पर नज़र डालते हैं

कोरोना महामारी के चलते स्वास्थय आपातकालीन की ऐसी स्तिथि में विपक्ष की भूमिका बयां करते सी.पि.आई नेता कन्हैया कुमार ने THE WIRE से बातचीत की।  कुछ बिंदुओं पर नज़र डालते हैं - 

- कोरोना संकट पर = इस संकट में अलग घटनाओ और दुर्घटनाओं में खोए लोग , जिसमें मजदूर, फ्रंट लाइन वारियर्स  जैसे लोगों के प्रति संवेदना।  दुनिआ भर के देशो के नेताओं ने काम आँका है।  लॉक दवों गरूरी था लेकिन पूरी तैयारी के साथ करना भी ज़रूरी था।  उदहारण है केरला।  

जो लोग पहले अस्पतालों में अपनी जांच करवाने भारी संख्या में आते थे, वो सब लोग अब कहा हैं, और किस हालत में हैं? 

कोरोना महामारी को समझने और उसके रोकथाम को समझना चाहिए।  राजनीति में  साइंटिफिक टेम्परामेंट की कमी है और स्वस्थ्य को कई दशकों से नाकारा गया है।  स्वास्थय अब एक व्यक्तिगत नहीं बल्कि सामाजिक मुद्दा बन गया है। 

- मजदूरों पर = 'दाएं हाथ से दान कीजिए तो बाएं हाथ को पता नहीं चलना चाहिए। ' अगर सरकार सही ढंग  से  चीज़ों को नहीं बांटती तो स्वाबभाविक तौर पे संकट आ सकता है।  समाज में मजदूरों के प्रति संवेदना नहीं है, पर शायद अब लोग समझने लगे है लॉक डाउन के दौरान।  सही मुद्दों पर सवाल उठना काम हो गया है।  किसी भी घोषणा को योजना में बदलकर ज़मीन पर कैसे लागू करेंगे, ये बहुत बड़ा सवाल है।  

- छात्रों  पर लगाए गए यु.ऐ.पि.ऐ पर = जैसे ही महामारी का संकट आया, ऐसे ही सत्ता पक्ष ने बदले की राजनीती शुरू कर दी।  पुराने मामलों में खतरनाक कानूनों के तहत गिरफ्तारी करना लोकतांत्र पर गंभीर घाव है।  लॉक डाउन हटने के बाद सभी व्यवस्थाएं बदल जाएंगी और साथ ही मानसिक तनाव जैसी बिमारिओं का भी सामना करना पड़ेगा।  वौइस् ऑफ़ डिसेंट को ख़त्म कर रही है सत्ता पक्ष।  

- विपक्ष की भूमिका क्या होनी चाहिए = ये संकट में लड़ाई सत्ता और विपक्ष की नहीं बल्कि मानव बनाम सृष्टि की हो गया है।  महामारी के बाद सवाल व्यक्तिगत और राज्य अधिकारों का होगा।  विपक्ष को अपने सवाल बदलने होंगे और पूछने क तरीके भी।  

Next Story