Finance
रेंट पर घर लेने से पहले इन 9 बातों का जरूर रखें ख्याल
अगर आप रेंट पर फ्लैट या घर ले रहे हैं तो आपको रेंट एग्रीमेंट समेत ऐसी कई बातें है जिनपर ध्यान देने की जरूरत है। ताकि आगे आपको परेशानी का सामना न करना पड़े। आइये ऐसी 9 बातें जानते है जो रेंट पर घर लेने से पहले आपको सोचनी चाहिए।
रेंट की शर्त को जरूर पढ़ें
सबसे पहले यह तय करें कि आप हर महीने कितना किराया चुकाएंगे। हर साल किराये में कितनी वृद्धि हो जाएगी। आमतौर पर 11 महीने पर एग्रीमेंट का रिन्यू होता है। साथ ही, 1 साल बाद किराये में अमूमन 10 फीसदी बढ़ोतरी होती है।
जबरन मकान खाली नहीं कराया जा सकता
रेंट एग्रीमेंट में 1 महीने के नोटिस का प्रावधान होने के बावजूद कोई भी मकान मालिक किरायेदार से जबरन मकान खाली करने के लिए नहीं कह सकता। अगर कोई मकान मालिक ऐसा करने की कोशिश करे तो कोर्ट से स्टे ऑर्डर लिया जा सकता है।
असली मकान मालिक से ही लें घर
मकान लेने से पहले किरायेदार ये जान ले की जिससे वह मकान ले रहा है, वही मकान का असली मालिक हो। अगर ऐसा नहीं है तो मकान किराये पर देने वाले के पास टेनेंसी का अधिकार होना चाहिए।
सिक्योरिटी डिपॉजिट
रेंट एग्रीमेंट में सिक्योरिटी डिपॉजिट के रूप में पैसे देने की शर्तों पर गौर करें। मकान खाली करते समय इसे कैसे समायोजित किया जाएगा, इस पर ध्यान दें. इस कागजात में किराये का एग्रीमेंट रद्द होने की शर्त भी लिखी होती है।
किराया देर से भरने पर क्या होगा?
आप किराया हर महीने कब चुकाएंगे इसकी जानकारी रेंट एग्रीमेंट में जरूर कर लें। यह चेक करें कि एग्रीमेंट में किराया देर से चुकाने पर कोई पेनाल्टी तो नहीं है।
मकान चेक करें
जिस मकान को आप रहने के लिए किराये के लिए ले रहे हैं, उसका पहले अच्छे से मुआयना कर लें। बहुत से लोग छोटी-छोटी बातों पर ध्यान नहीं देते, लेकिन उसे देखना जरूरी होता है।
मेंटेनेंस है जरूरी मसला
यह स्पष्ट हो जाना चाहिए कि घर में नियमित तौर पर मरम्मत और देखभाल का भुगतान कौन करेगा. किस तरह के खर्च कौन वहन करेगा। ऐसा न करने पर आगे परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
अन्य नियम और शर्तों पर भी दें ध्यान
रेंट एग्रीमेंट में इसपर ध्यान दें कि कहीं आपके मकान मालिक ने किसी तरह की अलग या अतिरिक्त शर्त तो नहीं जोड़ दी है। अपनी तरफ से रेंट एग्रीमेंट में लिखी गई बातों जिसे पढ़कर आपने सिग्नेचर किया है, उसका खास ध्यान रखें।
ब्रोकरेज
किसी भी इलाके में ब्रोकर्स का पूरा एक नेटवर्क होता है और अक्सर आप इससे बच नहीं पाते। लेकिन, ब्रोकर के साथ घर फाइनल करने से पहले ब्रोकरेज चार्ज और दूसरे खर्च, सिक्योरिटी मनी जैसी चीजों पर स्पष्ट बात कर लें।
https://janprahar.com/