प्राइवेसी पालिसी को लेकर WhatsApp के तेवर पड़े ठंडे, अदालत से कहा- यूजर्स पर नहीं बनाएंगे दबाव

 
Whatsapp

व्हाट्सएप के नए प्राइवेसी पालिसी को लेकर कंपनी के तेवर अब ठंडे पड़ गए है। फरवरी में अपनी प्राइवेसी पॉलिसी को लागू करने के लिए जिद पर अड़े व्हाट्सएप ने देश में भारी विरोध के बाद इसे मई तक के लिए टाल दिया था। वहीं अब व्हाट्सएप ने कहा है कि नई पॉलिसी को स्वीकार करने के लिए यूजर पर दबाव नहीं बनाया जाएगा। 

बता दें कि विरोध के बाद व्हाट्सएप ने अपनी प्राइवेसी पालिसी को टाल दिया था, लेकिन फिर प्राइवेसी पॉलिसी लागू कर दी है। जिसके बाद दिल्ली हाइकोर्ट में प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर याचिका दाखिल की गई थी जिसकी सुनवाई अभी तक चल रही है।

सुनवाई के दौरान व्हाट्सएप ने दिल्ली हाई कोर्ट से कहा, उसने स्वेच्छा से अपडेट को तब तक के लिए रोक रखा है, जब तक इस पर फैसला नहीं आ जाता। व्हाट्सएप का कहना है कि यूजर्स पॉलिसी स्वीकार करें या नहीं अपनी सेवाएं बंद नहीं करेगा न ही किसी यूजर पर दबाव बनाएगा।

यह भी पढ़ें: अब ट्विटर ने भारत में शिकायत अधिकारी की नियुक्ति के लिए मांगा इतने हफ्तों का समय

व्हाट्सएप का अब यह भी कहना है कि उसके पास कोई रेगुलेटर बॉडी नहीं है वह प्राइवेसी पॉलिसी पर सरकार के फैसले का इंतजार करेगी। फिलहाल में व्हाट्सएप माये पालिसी को लागू नहीं करेगी।

सुवाई के दौरान अदालत ने व्हाट्सएप में को तीखें सवाल भी पूछे। अदालत ने पूछा कि आरोप है कि अलग अलग देशों के खिलाफ आपकी अलग नीति है।भारत के लिए आपके पास एक अलग पैमाना है। क्या भारत और यूरोप के लिए आपकी अलग-अलग नीति है? आप यूजर्स था डेटा दूसरी कंपनियों को बेचते है। ऐसा क्यों है?

अन्य खबरें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|