देश

इन 22 तरह की बीमारियों से ग्रसित बुजुर्गों को ही लगेगी कोरोना की प्री-कॉशन डोज, यहां देखें बीमारी की लिस्ट

Ankit Singh
27 Dec 2021 10:03 AM GMT
इन 22 तरह की बीमारियों से ग्रसित बुजुर्गों को ही लगेगी कोरोना की प्री-कॉशन डोज, यहां देखें बीमारी की लिस्ट
x
Corona Precaution Doze: सरकार ने ऐलान कर दिया है कि 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को कोरोना की प्री-कॉशन डोज लगाई जाएगी। लेकिन यह ऐसे बुजुर्गों को ही लगाई जाएगी जो 22 तरह की बीमारी से ग्रसित होंगे। इन बीमारियों के कौन-कौन सी बीमारी शामिल है उसकी लिस्ट स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी की है।

भारत में कोरोना के नए वेरिएंट Omicron की दहशत शुरू हो गई है। एहतियात के तौर पर केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि 60 से अधिक उम्र के लोगों को कोरोना की तीसरी वैक्सीन लगाई जाएगी। तीसरी डोज को ही प्री-कॉशन डोज कहा जा रहा है। लेकिन सरकार ने यह भी साफ किया है कि प्री-कॉशन डोज ऐसे बुजुर्गों को ही लगेगी जो गंभीर बीमारी से ग्रसित होंगे।

जिन बुजुर्गों को प्री-कॉशन डोज लगवाना होगा पहले उन्हें अपना मेडिकल टेस्ट करवाना होगा। यदि बुजुर्ग गंभीर बीमारी से ग्रसित हुआ तो कॉमोर्बिटिज सर्टिफिकेट बनवाकर वह प्री-कॉशन डोज लगवा सकता है। सरकार ने बाकायदा 22 तरह के बीमारियों की लिस्ट जारी की है, यदि कोई बुजुर्ग इन 22 तरह की बीमारियों से ग्रसित पाया जाएगा तो ही उसे बूस्टर डोज लगाया जाएगा।

न्यूज एजेंसी ANI के हवाले से नेशनल हेल्थ अथॉरिटी (NHA) के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर (CEO) डॉ. आरएस शर्मा ने बताया है कि प्री-कॉशन डोज कैसे लोगों को लगेगा और इसका प्रॉसेस क्या है।

डॉ. आरएस शर्मा ने बताया कि प्री-कॉशन डोज लगावाने का प्रोसेस पहले जैसा ही होगा। जो बुजुर्ग पहले दो डोज ले चुके है उनका विवरण coWIN पोर्टल पर दर्ज है। उन्हें सबसे पहले रजिस्टर्ड डॉक्टर से अपना कॉमोर्बिटिज सर्टिफिकेट बनवाना होगा। यदि बुगुर्ग सरकार द्वारा बताई गई 22 तरह की बीमारियों में से किसी एक बीमारी से भी ग्रसित होगा तो उसे अपना कॉमोर्बिटिज सर्टिफिकेट coWin पोर्टल पर अपलोड करना होगा।

इसके बाद आपको तीसरे डोज के लिए टाइम स्लॉट बुक करना होगा। आप चाहे तो कॉमोर्बिटिज सर्टिफिकेट की हार्ड कॉपी वैक्सीनेशन सेंटर पर ले जाकर प्री-कॉशन डोज लगवा सकते है। प्री-कॉशन लगने के बाद बूस्टर डोज का सर्टिफिकेट भी जारी कर दिया जाएगा। बता दें कि बुजुर्गों को 10 जनवरी से वैक्सीन की प्री-कॉशन डोज लगना शुरू होगा।

कॉमोर्बिटिज लिस्ट में शामिल है ये बीमारियां

> कार्डियोवैस्कुलर डिजीज

> इम्यूनोसप्रैसेंट ड्रग्स

> स्टेमसेल ट्रांसप्लांट

> कैंसर

> सिरोसिस

> सिकल सेल डिजीज

> प्रोलॉन्गड यूज ऑफ स्टेरॉयडस

> मस्कुलर डिस्ट्रॉफी

> रेसपिरेटरी सिस्टम पर एसिड अटैक

> हाई सपोर्ट की जरूरत वाले विकलांग

> डायबिटीज, किडनी डिजीज या डायलिसिस

> गंभीर रेसपिरेटरी डिजीज से दो साल अस्पताल में रहें हों

> मूकबधिर-अंधापन जैसी मल्टीपल डिसएबेलिटिज

ये भी पढें-

COVID-19: कोरोना वैक्सीन के साथ अब HIV का इलाज भी संभव, Moderna अब इंसानों पर करेगी ट्रायल

अब SIM Card लेना हुआ और आसान, कागजी तामझाम के बिना ले सकेंगे नया कनेक्शन, जानें पूरी जानकारी

जानिए क्‍या है सरकार की नई Scrappage Policy? इससे आम आदमी पर क्या असर होगा

Next Story
Share it