देश

Omicron वैरिएंट के खिलाफ Covishield प्रभावी है नहीं? क्या बूस्टर डोज की जरूरत पड़ेगी? जानिए

Ankit Singh
1 Dec 2021 5:19 AM GMT
Omicron वैरिएंट के खिलाफ Covishield प्रभावी है नहीं? क्या बूस्टर डोज की जरूरत पड़ेगी? जानिए
x
पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के नए वैरिएंट Omicron को लेकर दहशत का माहौल है। सभी यह जानना चाहते है कि कोरोना वैक्सीन नए वैरिएंट पर कितनी प्रभावी है? इसपर सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के CEO अदार पूनावाला का क्या कहना है? आइये जानते है।

Omicron Threat: कोरोना वायरस के सुस्त रफ्तार के बीच नए वैरिएंट Omicron ने फिर से दहशत का माहौल बना दिया है। नए वैरिएंट को लेकर वैज्ञानिकों ने अभी से चेतावनी जारी कर दी है। नए वैरिएंट Omicron के खतरे के बीच यह सवाल लाजमी हो गया है कि कोरोना वैक्सीन नए वैरिएंट पर कितनी प्रभावी है? इसपर Covishield के निर्माता कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के CEO अदार पूनावाला ने कुछ खुलासे किए है।

मीडिया इंटरव्यू में जब पूनेवाला सर पूछा गया कि Covishield ने नए वैरिएंट पर कितनी प्रभावी है तो उन्होंने कहा, अभी Omicron के खतरे का आकलन नहीं किया जा सकता है, इसका निष्कर्ष निकलना जल्दबाजी होगी। अभी कुछ और दिन का इंतेजार कर लेना सही होगा।

लेकिन उन्होंने कहा, नए वैरिएंट Omicron के मद्देनजर बूस्‍टर डोज की संभावना हो सकती है। अगर सरकार बूस्‍टर यानि तीसरा डोज लगाने का फैसला करती है तो हम इसके लिए तैयार हैं। आने वाले समय में सीरम इंस्टिट्यूट नया वैक्सीन ला सकती है जो बूस्टर डोज हो सकता है, लेकिन पहले यह जरूरी है कि सभी लोग वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके हो।

अदार पूनेवाला ने कहा कि नए वैरिएंट Omicron पर Covishield के प्रभाव को लेकर फिलहाल में स्टडी चल रही है। ऑक्सफोर्ड के वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं, जिनके निष्‍कर्षों पर आधार पर सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया नई वैक्‍सीन ला सकती हैं।

गौरतलब है कि नए वैरिएंट का लक्षण भी डेल्टा वैरिएंट के जैसा ही लेकिन जानकारों ने चेतावनी दी है कि यह नया वैरिएंट डेल्टा वैरिएंट से भी ज्यादा खतरनाक हो सकता है। एक्सपर्ट ने कहा है कि Omicron के संक्रमण फैलाने की दर भी पुराने सभी वैरिएंट से कही ज्यादा अधिक हो सकती है। इसलिए सरकारों ने भी अभी से लोगों को हिदायत देना शुरू कर दिया है।

ये भी पढें-

जानिए क्‍या है सरकार की Scrappage Policy? इससे आम आदमी पर क्या असर होगा

जानिए क्या है No Free Left, न करें ऐसी गलती नहीं तो भरना पड़ सकता है जुर्माना

मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से दर्ज हुए राजद्रोह के सबसे ज्यादा मामले, देखिए आंकड़ें

Next Story