IIT कानपुर ने किया नया दावा, बताया कोरोना की तीसरी लहर भारत में होगी कितनी घातक

 
IIT Kanpur told how deadly the third wave of corona will be

भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने जो तबाही मचाई थी, उससे हमारा देश अभी तक उबर ही रह है। ऐसे में तीसरे लहर की संभावना भी प्रबल हो रही है। नए-नए रिसर्च में तीसरी लहर के अलग-अलग दावे किए जा रहे है। वहीं, अब आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर ने तीसरी लहर को लेकर नया दावा किया है। 

गणितीय विश्लेषण सूत्र के आधार पर किए दावे में कोरोना के विध्वंशकारी और सामान्य रहने जैसी दोनों बातें कही गई है। आईआईटी के प्रोफेसर मणींद्र अग्रवाल ने बताया कि तीसरी लहर दूसरी लहर से कम खतरनाक होगी और इसके अक्टूबर-नवबंर के बीच आने की संभावना है।

वहीं, दूसरी ओर उन्होंने यह भी कहा है कि अगर तीसरी लहर किसी नए वैरिएंट के साथ आती है तो यह डेल्टा वेरिएंट से भी ज्यादा तेजी से फैल सकता है।
लकिन यह लहर पहली लहर के बराबर ही होगी।

प्रोफेसर मणींद्र अग्रवाल का कहना है कि हमने पिछले एक महीने में अपने मॉडल के जर‍िए काफी गणना की है। हम निष्कर्ष पर पहुंचे है कि तीसरी लहर इतनी प्रभावशाली नहीं है, जितनी दूसरी लहर थी। प्रोफेसर ने यह भी कहा कि डेल्टा वेरिएंट की वजह से भारत में तीसरी लहर आने की संभावना है।

यह भी पढ़ें: क्या कैडबरी चॉकलेट में होता है बीफ ! कंपनी ने कहा- हर प्रोडक्ट है 100% शाकाहारी

ज्ञात हो कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर आए भी तीसरी लहर को लेकर चिंता व्यक्त की गई है। राज्य व केंद्र सरकार की भीड़भाड़ वाली जगहों पर न जाने की अपील कर रही है। 

बात दें कि भारत मे इस वक्त डेली पाजिटिविटी रेट 2.61% हो गया है। जबकि रिकवरी रेट बढ़कर 97.32% हो गया है। वहीं, अब सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 4,21,665 हो गई है। फिलहाल में स्थिति सामान्य होते दिख रही है। लेकिन जनता भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाती रही तो यह स्थिति बदल भी सकती है।

अन्य खबरें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|