अगर आपके वाहन की समस्या नहीं सुन रही कंपनी, तो ‘व्हीकल रिकॉल पोर्टल’ पर दर्ज करें शिकायत

 
Vehicle recall

अगर आपने कोई वाहन खरीदा है और उसमें कुछ खामियां है और वाहन निर्माता कंपनी आपके शिकायत पर ध्यान नहीं दे रही है तो आप इसकी शिकायत सरकारी पोर्टल पर कर सकते है। आपके वाहन से संबंधित कोई भी शिकायत हो जिसे कंपनी न सुन रही हो तो अब उसका निपटारा सड़क एवं परिवहन मंत्रालय करवाएगा। 

दरअसल हाल ही में सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने  ग्राहकों की समस्याओं का निवारण करने के लिए 'व्हीकल रीकॉल पोर्टल' शुरू किया है। जहां पर आप अपने वाहन से संबंधित शिकायत दर्ज करा सकते है। 

आमतौर पर जब वाहनों में कोई डिफेक्ट होता है तो कंपनियां रिकॉल करती है लेकिन कई बार ऐसा भी होता है कि उसके बाद भी दिक्कतें जस की तस बनी होती है। ऐसे ग्राहकों के लिए ही 'व्हीकल रीकॉल पोर्टल' शुरू किया गया है। 

पोर्टल पर शिकायत दर्ज करने के बाद केंद्रीकृत एजेंसी नेशनल हाईवे ट्रैफिक सेफ्टी एडमिनिस्ट्रेशन (NHTSA) शिकायत की जांच करेंगी और यह मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों को वाहन ठीक करने का आदेश देगी। अगर इसके बाद भी कोई कंपनी रिकॉल करने से मना करता है तो उस पर 10 लाख से 10 करोड़ तक का जुर्माना लग सकता है। 

यह भी पढ़ें: आखिरकार Twitter को माननी पड़ी भारत की बात, विनय प्रकाश को नियुक्त किया शिकायत अधिकारी

ज्ञात ही कि पिछले साल ही मोटर वाहन एक्ट (1988) को संशोधित कर नए रिकॉल नियम बनाए गए थे। नियम को 1 अप्रैल 2021 से लागू कर दिया गया है। नियम के तहत को टू-व्हीलर, थ्री-व्हीलर, फोर-व्हीलर और हल्के व भारी कमर्शियल वाहनों इस दायरे में आएंगे। 

नए रिकॉल नीति के तहत नए वाहन खरीदने के 7 साल के भीतर ही वाहन से संबंधित शिकायत दर्ज करवाना होगा। नए नियमों के मिताबिक रिकॉल करने का पूरा खर्च कंपनियों को ही उठाना होगा।

अन्य खबरें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|