कोरोना काल में UP सरकार ने कांवड़ यात्रा की दी इजाजत, SC ने संज्ञान लेते हुए राज्य को भेजा नोटिस

 
Kanvad yatra supreme court

कोरोना काल में यूपी सरकार द्वारा कांवड़ यात्रा की मंजूरी पर सुप्रीम कोर्ट ने अब सख्त रुख अपनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने कांवड़ यात्रा के संबंध में स्वतः संज्ञान लेते हुए यूपी सरकार का नोटिस जारी किया है। अब इस मामले को अगली सुनवाई शुक्रवार को होगी। जस्टिस आरएफ नरीमन की अध्यक्षता वाली बेंच ने कांवड़ यात्रा पर सवतः संज्ञान लिया है। 

मंगलवार को सीएम योगी ने अधिकारियों संग बैठक कर या सुनिश्चित किया था कि कोरोना प्रोटोकॉल के साथ कांवड़ यात्रा निकाली जाएगी। यूपी सरकार ने कोविड प्रोटोकॉल के तहत कांवड़ यात्रा निकलने की मंजूरी दी थी। साथ ही कांवड़ यात्रा पर जा रहे भक्तों को नेगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट दिखाने का भी निर्देश दिया था। 

लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट ने खुद ही इस पर संज्ञान लेते हुए यूपी सरकार को नोटिस जारी किया है। जिसकी अगली सुनवाई 16 जुलाई को होगी। 

यह भी पढ़ें: 2 से अधिक बच्चे हुए तो नहीं मिलेगी ये सुविधाएं, UP में जनसंख्या नियंत्रण विधेयक का ड्राफ्ट हुआ तैयार

उधर उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कांवड़ यात्रा पर पूरी तरह से रोक लगा दी है। सीएम धामी का कहना है कि हमने विचार विमर्श कर यह फैसला किया है कि हम हरिद्वार को महामारी का केंद्र नहीं बनाना चाहते है। ज्ञात हो कि उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने पूर्व में कुंभ के आयोजन को मंजूरी दी थी जिसके बाद उत्तराखंड सरकार की चारों तरफ किरकिरी हुई थी। 

सुप्रीम कोर्ट ने स्वतः संज्ञान के बाद यह कहा कि तीसरी लहर के चलते उत्तराखंड सरकार ने कांवड़ यात्रा पर रोक लगा दी है। लेकिन यूपी सरकार ने कांवड़ यात्रा की इजाजत दी है। देश के नागरिक परेशान है सरकारें नहीं जानती कि क्या हो रहा है, ऐसी स्थिति के बावजूद भी कांवड़ यात्रा की मंजूरी दी जा रही है। 

अन्य खबरें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|