देश

रहे सावधान! वैक्सीन लगाने के बाद भी संक्रमित कर सकता है कोरोना का ये वेरिएंट, ICMR का खुलासा

Janprahar Desk
19 Aug 2021 10:59 AM GMT
रहे सावधान! वैक्सीन लगाने के बाद भी संक्रमित कर सकता है कोरोना का ये वेरिएंट, ICMR का खुलासा
x
रहे सावधान! वैक्सीन लगाने के बाद भी संक्रमित कर सकता है कोरोना का ये वेरिएंट, ICMR का खुलासा

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट बी.1.617.2 (डेल्टा) को लेकर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने एक अध्ययन किया है, जिसमें बताया गया है कि नए वैरिएंट बी.1.617.2 में टिकाकरण और गैर-टीकाकरण दोनों व्यक्तियों को इफेक्ट करने की क्षमता है। अध्यन में खुलासा हुआ है कि डेल्टा वेरिएंट भारत में SARS-CoV-2 की दूसरी लहर के लिए प्रमुख था।

17 अगस्त को जर्नल ऑफ इंफेक्शन में इस अध्ययन को प्रकाशित किया गया है। अध्ययन के नतीजों से पता चला है कि डेल्टा वैरिएंट का संक्रमण गैर टिकाकरण और टिकाकरण व्यक्तियों में एक जैसा ही था। हालांकि ये बात भी पता चली है कि टीकाकरण से बीमारी की प्रगति को रोका जा सकता है। इसलिए टिकाकरण को जारी रखना चहिए।

स्टडी में यह पाया गया है कि डेल्टा वेरिएंट टीकाकृत और गैर टिकाकरण वाले व्यक्तियों को एकसमान संक्रमित करता है लेकिन गैर टीकाकृत समूहों को यह ज्यादा नुकसान पहुंचाता है। जिन्होंने टिके की दोनों खुराक ली वह उनमे गंभीर परिणाम नहीं देखे गए।

यह भी पढ़ें: 13 राज्यों में से एक ने मानी ऑक्सीजन की कमी से मौत की बात, अन्य राज्यों ने केंद्र को दिया ये जवाब

टीका ले चुके लोगों में डेल्टा (बी.1.617.2) वेरिएंट के गंभीर परिणाम काम देखने को मिले। वहीं, टीके के जरिए मृत्यु दर में भी कमी देखने को मिली। हालांकि अभी भी शोधकर्ताओं का यही कहना है कि देश को अभी सतर्कता बरतने की जरूरत है। मास्क सैनिटाइजर और शारीरिक दूरी ही इससे बचने के मुख्य हथियार है, क्योंकि वैक्सीन के बाद भी डेल्टा वैरिएंट संक्रमित कर रहा है।

कोविड की लहरों को कम करने के लिए टीकारण की रफ्तार को बढ़ाना ही होगा और नए वैरिएंट की समीक्षा के लिए व्यवस्थित जीनोमिक निगरानी की जानी चाहिए। शोधकर्ताओं ने कहा है कि डेल्टा वैरिएंट ही भारत में चिंता का विषय बना हुआ है, बाकी अन्य वैरिएंट की जांच जारी है।

अन्य खबरें

Next Story
Share it