स्वास्थ्य

जीभ पर छाले होने के कारण क्या है? जानिए जीभ के छाले का घरेलू उपचार | Jeebh Ke Chhale ka ilaj

Ankit Singh
3 March 2022 7:02 AM GMT
जीभ पर छाले होने के कारण क्या है? जानिए जीभ के छाले का घरेलू उपचार | Jeebh Ke Chhale ka ilaj
x
Tongue Ulcer Treatment in Hindi: अगर आप जीभके छालों (Tongue Ulcer) की समस्या से जूझ रही हैं तो बताएं गए जीभ के छाले का घरेलू उपचार (Home Remedies for Tongue Ulcer) आपके बहुत काम आएगा। तो आइए जानते है जीभ के छालों का इलाज (Jeebh Ke Chhale ka ilaj) क्या है।

Tongue Ulcer in Hindi: जीभ के छाले, या नासूर घाव, कभी-कभी जीभ पर दिखाई दे सकते हैं। हालांकि जीभ के छाले समय के साथ अपने आप ठीक हो जाते है, लेकिन जीभ के छाले का घरेलू उपचार लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है, जिससे जीभ के छालों का इलाज (Jeebh Ke Chhale ka Upchar) किया जा सकता है।

लोग दर्द को कम करने के लिए ओवर-द-काउंटर (OTC) दवाओं का भी उपयोग कर सकते हैं य फिर जीभ के छाले का घरेलू उपचार (Home Remedies for Tongue Ulcer in Hindi) भी कर सकते है।

इस लेख में, हम जीभ के छाले (Tongue Ulcer in Hindi) के बारे में अधिक विस्तार से चर्चा करते हैं, जैसे कि जीभ पर छाले होने के कारण (Causes of Tongue Ulcer in Hindi) क्या है और जीभ के छाले मिटाने के उपाय क्या है। तो आइए जानते है जीभ में घाव का इलाज (Tongue Ulcer Treatment in Hindi) क्या है?

जीभ पर छाले होने के कारण | Causes of Tongue Ulcer in Hindi

Tongue Ulcer in Hindi: जीभ के छालों का कोई एक कारण नहीं होता है। इसके बजाय कई संभावित ट्रिगर हैं। मुंह में क्षति के कारण एक व्यक्ति जीभ के छाले विकसित कर सकता है जिसके कई कारक है -

  • जीभ काटना
  • दंत में चोट लगना
  • खराब फिटिंग वाले डेन्चर
  • गर्म खाना खाने से जलन
  • अम्लीय या मसालेदार भोजन खाना
  • कड़े ब्रिसल वाले ब्रश से दांतों को ब्रश करना
  • हार्मोनल परिवर्तन
  • दवाएं, जैसे कि नॉन-स्टेरायडल एन्टी इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (NSAIDs)
  • फूड एलर्जी
  • हाई स्ट्रेस लेवल

जब लोग पहली बार धूम्रपान करना बंद करते हैं तो लोगों को जीभ के छाले भी हो सकते हैं।

स्टडी के अनुसार कम से कम 20% मामले लोहे या विटामिन B की कमी के कारण हो सकते हैं।

जीभ के छाले का घरेलू उपचार | Tongue ulcer home remedies in Hindi

Jeebh Ke Chhale ka Gharelu Upay: जीभ में छाले के अधिकांश कारणों का इलाज घर पर ही किया जा सकता है। कुछ घरेलू उपाय है जो जीभ में घाव का इलाज करने के साथ ही जीभ के छाले मिटाने के उपाय की तरह काम करते है -

ओरल हाइजीन (Oral hygiene)

मुलायम टूथब्रश से अपने दांतों को ब्रश करना, फ़्लॉसिंग करना और माउथवॉश का उपयोग करने से आप अपनी जीभ की खराश से छुटकारा पा सकते हैं और संक्रमण को रोक सकते हैं। ऐसे टूथपेस्ट का उपयोग करें जिसमें सोडियम लॉरिल सल्फेट न हो, यह दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है।

एलोविरा (Aloe Vera)

एलोविरा त्वचा की कोमलता को बनाए रखने के लिए जाना जाता है। यह बात जीभ पर भी लागू होती है। आप दिन में कई बार एलोवेरा के रस से अपना मुंह कुल्ला कर सकते हैं।

बेकिंग सोडा (Baking Soda)

दर्द और सूजन के लिए, गर्म पानी और बेकिंग सोडा (1 चम्मच प्रति 1/2 कप पानी) के मिश्रण से अपना मुंह धोने की कोशिश करें। आप बेकिंग सोडा और पानी से एक पेस्ट भी बना सकते हैं और इसे गले की जगह पर लगा सकते हैं।

मैग्नीशिया का दूध (Milk of magnesia)

एक एसिड न्यूट्रलाइज़र, मैग्नीशिया के दूध की थोड़ी मात्रा को गले की जीभ पर लगाने से दर्द से राहत और उपचार को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है।

हाइड्रोजन पेरोक्साइड (Hydrogen Peroxide)

एक एंटीसेप्टिक के रूप में, हाइड्रोजन पेरोक्साइड आपके मुंह के अंदर एक संक्रमण या घाव का इलाज कर सकता है। एक कॉटन बॉल का उपयोग करके प्रभावित क्षेत्र में लगाएं। कुछ सेकेंड के बाद अपने मुंह को गर्म पानी से धो लें।

साल्ट वाटर (Salt water)

नमक के पानी से गरारे करना दर्द, सूजन को कम करने और संक्रमण को रोकने का एक और तरीका है। एक कप गर्म पानी में एक चम्मच नमक मिलाएं, इसे अपने मुंह के चारों ओर घुमाएं, गरारे करें और थूक दें।

शहद (Honey)

शहद एक प्राकृतिक जीवाणुरोधी है और इसे कई प्रकार के घावों के उपचार में प्रभावी दिखाया गया है। आप दिन में कुछ बार दर्द वाली जगह पर थोड़ा सा शहद सीधे लगा सकते हैं या शहद के साथ एक गर्म चाय पी सकते हैं।

नारियल का तेल (Coconut Oil)

नारियल का तेल अपने एंटिफंगल, जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गुणों के कारण एक गले की जीभ को ठीक करने में सक्षम हो सकता है। कॉटन बॉल से दर्द वाली जगह पर सीधे तेल लगाएं, इसे धीरे से रगड़ें। या आप इसे अपने मुंह में घुमाकर थूक सकते हैं। इसे ऑयल पुलिंग कहते हैं।

एंटासिड (Antacids)

एंटासिड का उपयोग पेट के एसिड को बेअसर करने के लिए किया जाता है और यह जलन या गले में खराश से राहत दिलाने में मदद कर सकता है, खासकर अगर यह एसिड रिफ्लक्स के कारण होता है।

बर्फ या ठंडा पानी

बर्फ में सुन्न करने वाले गुण होते हैं, इसलिए बर्फ का ठंडा पानी पीने या आइस क्यूब या आइस पॉप को चूसने से जीभ के कुछ दर्द से राहत मिल सकती है।

जीभ के छाले का चिकित्सकीय इलाज़ | Medical treatment of Tongue Ulcer in Hindi

Jeebh Ke Chhale ka ilaj: जीभ के छाले के इलाज में घरेलू उपचार जीभ के दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं, लेकिन संक्रमण और सूजन की स्थिति में चिकित्सा उपचार की सबसे अधिक जरूरत होगी।

एंटीबायोटिक दवाएं

सिफलिस जैसे जीवाणु संक्रमण से मुंह के छाले हो सकते हैं। आपका डॉक्टर संक्रमण का इलाज करने के लिए एक एंटीबायोटिक लिखेगा। एंटीबायोटिक्स का पूरा कोर्स करना सुनिश्चित करें, भले ही आप बेहतर महसूस करने लगें।

एंटीफंगल

एंटिफंगल, जैसे फुलकैनाज़ोल (डिफ्लुकन) और क्लोट्रिमेज़ोल (माइसेलेक्स ट्रोच) ओरल थ्रश के इलाज के लिए निर्धारित हैं।

प्रिस्क्रिप्शन माउथवॉश

एक प्रिस्क्रिप्शन माउथवॉश या एंटीमाइक्रोबियल माउथ रिंस संक्रमण को रोकने में मदद कर सकता है क्योंकि जीभ की सूजन ठीक हो जाती है।

स्टेरॉयड

एक डॉक्टर मुंह के घावों या लाइकेन प्लेनस जैसी किसी अन्य सूजन की स्थिति से होने वाली सूजन को कम करने के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड लिख सकता है।

विटामिन की खुराक

विटामिन की कमी का इलाज करने में मदद के लिए आपको बी -12 शॉट, फोलेट या आयरन जैसे प्रिस्क्रिप्शन विटामिन सप्लीमेंट की आवश्यकता हो सकती है।

जीभ के छाले की होम्योपैथिक दवा | Homeopathic medicine for tongue ulcer

Nux Vomica

पेट की गड़बड़ी व कब्ज़ की वजह से मुंह में जखम व छाले पड़ जाएं तो नक्स-वोमिका से लाभ पहुंचता है।

Hepar Sulphur

जब रोगी के मुंह के छालों में सफेदी दिखाई दे और उनमें मवाद सा जमा हुआ हो इस औषधि का प्रयोग करें।

Merc Sol

होमियोपैथी में जीभ व मुंह के छालों के लिए इस दवा का प्रमुख स्थान है। इस दवा को मुंह के छालो के अलावा पेट सम्बंधित कई बीमारियों के लिए काम में लाया जाता है।

Borax

जब बच्चों के मुंह में छले निकल आते है तो वह बहुत ही रोता है। बच्चों के मुंह में हाथ लगाने , दूध पिलाने या फिर कुछ खिलने पर मुंह से खून का आ जाना इत्यादि लक्षणों में इस औषधि का प्रयोग होता है

Natrum Mur

जब किसी को तेज बुखार होने के बाद, बुखार की गर्मी से छाले निकल आएं। रोगी की जीभ मोटी सी मालूम पड़े और उन छालों में जलन हो तो नैट्रम मुर फायदा करती है।

ये भी पढ़ें -

हर्निया क्या है और कैसे करें हर्निया का इलाज | Hernia Treatment in Hindi | Hernia Ka Upchar

Kidney Stone in Hindi : गुर्दे की पथरी का इलाज, कारण और लक्षण | Home Remedies for Kidney Stone

धागे से बवासीर का इलाज कैसे होता है? | Kshar Sutra Treatment for piles in Hindi

Sugar Treatment in Hindi : डायबिटीज का इलाज क्या है?, जानिए Diabetes ka Upchar

चर्बी की गांठ की पहचान कैसे करें? जानिए चर्बी की गांठ का घरेलू उपाय | Lipoma ka Gharelu ilaj

Next Story