स्वास्थ्य

Throat Cancer in Hindi : गले के कैंसर का इलाज क्या है? | Gale Ke Cancer ka Upchar

Ankit Singh
3 March 2022 5:25 AM GMT
Throat Cancer in Hindi : गले के कैंसर का इलाज क्या है? | Gale Ke Cancer ka Upchar
x
थ्रोट कैंसर इन हिंदी: गले का कैंसर (Gale ka Cancer) सांस नली को प्रभावित करता है, जिसकी वजह से ऑक्सीजन की कमी होती है। गले के कैंसर इलाज संभव है, लेकिन समय रहते। इस लेख में जानिए गले के कैंसर का इलाज (Throat Cancer Treatment in Hindi) क्या है और इसके लक्षण (Symptoms of Throat Cancer in Hindi) क्या है।

Throat Cancer in Hindi: आजकल के समय में कैंसर (Cancer) होना एक आम समस्या बन गया है। कैंसर शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकता है। दुनिया में लाखों लोग हर साल कैंसर के कारण अपनी जान गवां देते हैं। ऐसे में आज हम आपको गले के कैंसर (Throat Cancer in Hindi) के बारे में बताने जा रहे हैं। यह सांस नली को प्रभावित करता है, जिसकी वजह से मरीज के अंगों को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाता है। तो आइए जानते है कि गले का कैंसर क्या है? (What is Throat Cancer in Hindi), थ्रोट कैंसर के लक्षण (Symptoms of Throat Cancer in Hindi) क्या है और थ्रोट कैंसर का इलाज (Gale Ke Cancer ka Upchar) क्या है।

गले का कैंसर क्या है? | Throat Cancer Kya hai? | What is Throat Cancer in Hindi

थ्रोट कैंसर इन हिंदी (Throat cancer in hindi): गले का कैंसर तब होता है जब गले के हिस्से में कोशिकाएं अनियंत्रित तरीके से बढ़ने लगती हैं। गले के कैंसर इलाज संभव है, लेकिन दृष्टिकोण इस बात पर निर्भर करेगा कि कैंसर कहां से शुरू होता है और व्यक्ति को कितनी जल्दी निदान प्राप्त होता है।

गले का कैंसर स्वरयंत्र (वॉयस बॉक्स) और ग्रसनी (गले) के ऊपरी या निचले हिस्से को प्रभावित कर सकता है। जैसे-जैसे कैंसर फैलता है, यह आस-पास के ऊतकों (Tissue) में विकसित हो सकता है। कैंसर का नाम हमेशा इस बात पर निर्भर करता कि यह कहां से शुरू होता है।

राष्ट्रीय कैंसर संस्थान (NCI) गले के कैंसर को सिर और गर्दन के कैंसर (नैक कैंसर) के रूप में वर्गीकृत करता है। थ्रोट कैंसर की कुछ विशेषताएं ऑरोफरीन्जियल कैंसर (Oropharyngeal Cancer)और मुंह के कैंसर (Mouth Cancer) के साथ मिलती है। यह वयस्कों और बच्चों दोनों को प्रभावित कर सकता है।

वयस्कों में, तंबाकू और मानव पेपिलोमावायरस (HPV) के संपर्क में आने से गले के कैंसर के विकास का खतरा बढ़ जाता है।

गले के कैंसर का इलाज (Gale ke Cancer Ka ilaj) इस बात पर निर्भर करता है कि थ्रोट कैंसर किस स्टेज पर है। इस लेख में आगे हम यह भी बताएंगे कि थ्रोट कैंसर के कितने स्टेज (Stages of Throat Cancer) होते है और आप गले के कैंसर का उपचार (Gale Ke Cancer ka Upchar) कैसे करें। आइये पहले जानते है नैक कैंसर के लक्षण क्या है।

थ्रोट कैंसर का लक्षण | Symptoms of Throat Cancer in Hindi | नैक कैंसर के लक्षण

Throat Cancer in Hindi: गले के कैंसर के कई अलग-अलग प्रकार हैं और गले के भीतर कई जगह हैं जहां कैंसर विकसित हो सकता है। लक्षण और प्रगति कैंसर के प्रकार और स्थान पर निर्भर करेगी।

गले के कैंसर के सामान्य शुरुआती लक्षणों में शामिल हो सकते हैं-

  • निगलते समय दर्द या कठिनाई
  • कान का दर्द
  • गर्दन या गले में एक गांठ
  • लगातार गले में खराश या खांसी
  • आवाज में बदलाव, विशेष रूप से स्वर बैठना या स्पष्ट रूप से न बोलना
  • सूजी हुई लसीका ग्रंथियां

गले के निचले हिस्से या हाइपोफरीनक्स में कैंसर वाले व्यक्ति में प्रारंभिक अवस्था में लक्षण नहीं हो सकते हैं। इससे स्पॉट करना मुश्किल हो सकता है।

गले का कैंसर के प्रकार | Types of Throat Cancer in Hindi | नेक कैंसर के प्रकार

थ्रोट कैंसर इन हिंदी: ग्रसनी (मुंह के पिछले हिस्से से श्वासनली तक फैली हुई नली) और स्वरयंत्र के भीतर कई हिस्से होते हैं, गले का वह हिस्सा जिसमें वॉयस बॉक्स होता है। इनमें से किसी भी क्षेत्र में कैंसर विकसित हो सकता है।

ग्रसनी कैंसर (Pharyngeal Cancers)

नासॉफिरिन्जियल कैंसर (Nasopharyngeal cancer) - यह प्रकार ग्रसनी के शीर्ष भाग, नाक के पीछे के क्षेत्र को प्रभावित करता है।

ऑरोफरीन्जियल कैंसर (Oropharyngeal cancer) - यह प्रकार मुंह के पिछले हिस्से और ग्रसनी के मध्य भाग को प्रभावित करता है। इसमें टॉन्सिल, जीभ का आधार और नरम तालू शामिल हो सकते हैं।

हाइपोफेरीन्जियल कैंसर (Hypopharyngeal cancer) - यह प्रकार ग्रसनी के निचले हिस्से को प्रभावित करता है।

स्वरयंत्र कैंसर (Laryngeal cancers)

स्वरयंत्र के किसी भी क्षेत्र में कैंसर विकसित हो सकता है, जिसमें शामिल हैं-

  • सुप्राग्लॉटिस, वोकल कॉर्ड के ऊपर स्वरयंत्र का क्षेत्र जिसमें एपिग्लॉटिस शामिल है
  • ग्लोटिस, स्वरयंत्र का मध्य क्षेत्र जिसमें वोकल कॉर्ड होते हैं
  • सबग्लॉटिस, स्वरयंत्र का सबसे निचला क्षेत्र, वोकल कॉर्ड से श्वासनली तक फैला हुआ है

NCI का कहना है कि गले का कैंसर अक्सर स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा के रूप में शुरू होता है। इसका मतलब है कि कैंसर गले को लाइन करने वाली स्क्वैमस कोशिकाओं में शुरू होता है। संस्थान का कहना है कि इस तरह का कैंसर नाक के पीछे या मुंह में भी शुरू हो सकता है

गले के कैंसर का कारण | Causes of Throat Cancer in Hindi | नेक कैंसर के जोखिम कारक

Throat Cancer in Hindi: विशेषज्ञों को ठीक से पता नहीं है कि गले के कैंसर का क्या कारण है, लेकिन कुछ कारक जोखिम को बढ़ाते हैं, जिनमें शामिल हैं-

  • धूम्रपान या चबाने वाले तंबाकू का उपयोग करने सहित तंबाकू का सेवन
  • प्रति दिन अधिक शराब का उपयोग
  • खराब पोषण और विटामिन की कमी
  • गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (GERD)
  • HPV संक्रमण, जो कई प्रकार के कैंसर के खतरे को बढ़ा सकता है
  • सिर और गर्दन के कैंसर का पारिवारिक इतिहास
  • कुछ प्रकार के निर्माण के दौरान उत्पादित एस्बेस्टस या एसिड मिस्ट सहित कुछ सामग्रियों के संपर्क में आना
  • 40 वर्ष से अधिक उम्र का होना

नेक कैंसर का स्टेज | States of Throat Cancer in Hindi | Throat Cancer Stage

स्टेजिंग से पता चलता है कि कैंसर कितनी दूर तक फैल चुका है। गले के कैंसर के लिए स्टेजिंग प्रकार पर निर्भर करेगा।

Stage 0 - (जिसे स्वस्थानी भी कहा जाता है) - इस स्टेज में असामान्य कोशिकाएं बन जाती है, जिनमें कैंसर बनने की क्षमता है।

Stage 1 - ट्यूमर 2 सेंटीमीटर से छोटा होता है और लिम्फ नोड्स में नहीं फैलता है।

Stage 2 - ट्यूमर 2 सेमी और 4 सेमी के बीच है और लिम्फ नोड्स में नहीं फैला है।

स्टेज 3 - ट्यूमर 4 सेमी से बड़ा है या पास के एक छोटे से लिम्फ नोड में फैल जाता है।

स्टेज 4 - कैंसर पास के ऊतकों में फैल जाता है।

गले के कैंसर का इलाज | Gale ke Cancer ka ilaj | Throat Cancer Treatment in Hindi

गले के कैंसर के सामान्य उपचारों में शामिल हैं -

सर्जरी (Surgery) - एक सर्जन ट्यूमर और अन्य कैंसरयुक्त ऊतक को हटा देगा। यह वॉयस बॉक्स, एपिग्लॉटिस और अन्य संरचनाओं के आकार और कार्य को प्रभावित कर सकता है।

लेजर सर्जरी (Laser Surgery) - प्रारंभिक अवस्था में यह एक विकल्प हो सकता है।

विकिरण चिकित्सा (Radiation Therapy) - रेडिएशन की लक्षित खुराक का उद्देश्य कैंसर कोशिकाओं को मारना है।

कीमोथेरेपी (Chemotherapy) - ड्रग्स का उद्देश्य कैंसर कोशिकाओं को टारगेट करना और उन्हें मारना है।

टार्गेटेड चिकित्सा (Targeted therapy) - ये दवाएं विशिष्ट कैंसर कोशिकाओं या प्रोटीन पर हमला करती हैं जो कैंसर के विकास को प्रभावित करती हैं। इस प्रकार के उपचार का उद्देश्य विशिष्ट कोशिकाओं को टारगेट करके प्रतिकूल प्रभावों के जोखिम को कम करना है न कि स्वस्थ लोगों को।

इम्यूनोथेरेपी (Immunotherapy) - यह एक नया दृष्टिकोण है जो कैंसर से शरीर की रक्षा करने की प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता को बढ़ाता है।

गले के कैंसर वाले लोगों को अपने डॉक्टर से पूछना चाहिए कि क्या उम्मीद की जाए और होने पर साइड इफेक्ट को मैनेज कैसे किया जाए।

ये भी पढ़ें -

हर्निया क्या है और कैसे करें हर्निया का इलाज | Hernia Treatment in Hindi | Hernia Ka Upchar

चर्बी की गांठ की पहचान कैसे करें? जानिए चर्बी की गांठ का घरेलू उपाय | Lipoma ka Gharelu ilaj

Sugar Treatment in Hindi : डायबिटीज का इलाज क्या है?, जानिए Diabetes ka Upchar

धागे से बवासीर का इलाज कैसे होता है? | Kshar Sutra Treatment for piles in Hindi

Kidney Stone in Hindi : गुर्दे की पथरी का इलाज, कारण और लक्षण | Home Remedies for Kidney Stone

Next Story