इन दिनों बढ़ रही Digital Eye Strain की समस्या, जानिए इसके लक्षण और बचने का उपाए

क्या होता है डिजिटल आई स्ट्रेन? : What is Digital Eye Strain?
 
Digital Eye strain se kaise bache

कोरोना महामारी के बाद से कामकाजी लोग वर्क फ्रॉम होम कर रहे है। वहीं, छात्र ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाई कर रहे है। इस वजह से लोग कंप्यूटर, लैपटॉप या मोबाइल के साथ ज्यादा वक्त बिता रहे है। इस वजह से इन दिनों 'डिजिटल आई स्ट्रेन' (Digital Eye Strain) की समस्या बढ़ गई हैं। डिजिटल स्क्रीन पर ज्यादा वक्त बिताने की वजह से बच्चों और वयस्कों में यह समस्या पाई जा रही है। तो आइए जानते है कि Digital Eye Strain क्या है? क्या है इसके लक्षण? और कैसे इससे बचा जाएं?

  • क्या होता है डिजिटल आई स्ट्रेन? : What is Digital Eye Strain?

लगातार मोबाइल या कंप्यूटर की स्क्रीन में देखने की वजह से ऐसा होता है। कोरोना के आने के बाद से लोग औसतन 7 घंटा स्क्रीन के सामने टाइम बिता रहे है। पहले भारत में यह औसत 3 घंटा थी। इस वजह से लोगों में Digital Eye Strain का खतरा बढ़ रहा है। 

  • कैसे होता है डिजिटल आई स्ट्रेन? : How does Digital Eye Strain happen?

अगर स्क्रीन आपके आंखों के काफी पास है यह फिर स्क्रीन के पीछे की लाइट कम है तो इसका ज्यादा खतरा होता है। ऐसे में स्क्रीन से निकलने वाला रिफ्लेक्शन सीधे आंखों पर प्रभाव डालता है। गलत एंगल से स्क्रीन देखने पर भी यह खतरा होता है।

  • डिजिटल आई स्ट्रेन के लक्षण : Symptoms of Digital Eye Strain

Digital Eye Strain की वजह से नजर धुंधली हो जाती है। स्क्रीन पर दिखने वाले ऑब्जेक्ट दो-दो दिखने लगते है। इसके अलावा आंखे थकी हुई लगती है। सिर दर्द और गर्दन-कंधे में भी दर्द होता है। आंखों में सुखापन, जलन, पानी बहने की शिकायत होती है।

यह भी पढ़ें: Sleep Tips: रात में जल्दी नींद न आए तो क्या करें?

  • डिजिटल आई स्ट्रेन से कैसे बचें? : How to Avoid Digital Eye Strain?

डॉक्टर्स के अनुसार Digital Eye Strain से बचने के लिए आपको स्क्रीन को एकटक ज्यादा देर तक नहीं देखना होता है। बचने के लिए डॉक्टर्स ने एक गजब का फार्मूला बताया है जिसे 20-20-20 रूल कहते है। इसमें आपको 20 मिनट तक स्क्रीन पर काम करने के बाद 20 फीट दूर तक देखना होता हैओ उसके बाद 20 सेकेंड का रेस्ट लेना होता है।

इसके अलावा काम करते वक्त बीच-बीच में पलकों को झपकाते रहे। मोबाइल, लैपटॉप या कंप्यूटर की ब्राइटनेस कम ही रखे। स्क्रीन को आपने आंखों के एंगल से नीचे ही रखें। 

अन्य खबरें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|