स्वास्थ्य

बवासीर के लिए पतंजलि मेडिसिन | Patanjali Medicine for Piles in Hindi | पाइल्स पतंजलि मेडिसिन

Ankit Singh
21 Feb 2022 7:48 AM GMT
बवासीर के लिए पतंजलि मेडिसिन | Patanjali Medicine for Piles in Hindi | पाइल्स पतंजलि मेडिसिन
x
Piles Patanjali Medicine: आयुवेर्दिक दवाओं को बवासीर (Piles) का रामबाण इलाज माना जाता है। इसलिए इस लेख हम आपको पाइल्स पतंजलि मेडिसिन इन हिंदी (Piles Medicine in Patanjali) के बारें में बताएंगे। तो आइए जानते है बवासीर की पतंजलि की दवा। (Patanjali Medicine for Piles in Hindi)

Baba Ramdev Medicine for Piles: इन दिनों बवासीर (Piles) एक आम समस्या बन चुकी है। बदलते लाइफस्टाइल की वजह से कब्ज की समस्या होती है, जिस वजह से पाइल्स के होने का खतरा अधिक होता है। बावसीर के इलाज (Bawasir ka ilaj) के लिए आयुर्वेदिक दवाओं को सबसे बढ़िया माना जाता है। या यूं कहें कि इन्हें बेस्ट ट्रीटमेंट फॉर पाइल्स (Best Treatment for Piles in Hindi) कहा जाता है।

परमानेंट ट्रीटमेंट फॉर पाइल्स (Permanent Treatment for Piles) के लिए आयुर्वेदिक दवाएं बड़े काम की होती है। इसलिए ज्यादातर लोग गूगल पर बवासीर की पतंजलि की दवा, पाइल्स पतंजलि मेडिसिन (Piles Patanjali Medicine), पाइल्स पतंजलि मेडिसिन इन हिंदी (Piles Patanjali Medicine in Hindi), बवासीर की पतंजलि की दवा, बाबा रामदेव पाइल्स का इलाज जैसे तमाम कीवर्ड से आयुर्वेदिक दवा सर्च करते है।

इसलिए आज हम आपको बावसीर का आयुर्वेदिक उपचार (Ayurvedic Treatment of Piles in Hindi) बताएंगे। इसके तहत हम बाबा रामदेव की पतंजलि कंपनी की दवाई बताएंगे। जिससे आप बवासीर का परमानेंट इलाज कर सकते है। तो आइए पहले जानते है कि बवासीर क्या है और क्यों होता है?

बवासीर क्या है? | What is Piles in Hindi | Piles Kya hai?

एनोरेक्टल एरिया में होने वाली विभिन्न सामान्य स्थितियों में, बवासीर सबसे खराब समस्याओं में से एक है जिससे कोई भी पीड़ित हो सकता है। बवासीर गुदा क्षेत्र में नसों की सूजन और सूजन की स्थिति है जो बढ़ जाने पर बहुत दर्द देती है।

बवासीर का उपचार काफी हद तक इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस अवस्था से पीड़ित हैं। गंभीरता के अलावा, यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि यह गुदा वेसल्स के अंदर है या बाहर लटक रहा है। पतंजलि द्वारा बवासीर की दवा (Bawasir ki Ayurvedic Dawa) लक्षणों को कम करती है और दर्द से राहत देती है।

बवासीर के रोगी को गुदा क्षेत्र के आसपास खुजली, लालिमा या खराश महसूस होती है। इन सभी लक्षणों के अलावा मल त्याग करते समय अत्यधिक दर्द भी महसूस होता है।

आयुर्वेद में पाइल्स का इलाज | Ayurvedic Treatment for Piles in Hindi

आयुर्वेद हिंदू औषधीय अभ्यास का एक प्राचीन रूप है। आयुर्वेद को बवासीर या बवासीर सहित सभी प्रमुख बीमारियों के लिए एक प्रभावी उपचार माना जाता है। बवासीर के लिए आयुर्वेदिक उपचार आज दुनिया भर में प्रचलित और निर्भर है।

आयुर्वेद में बवासीर के उपचार का लक्ष्य प्रत्येक दोष को संतुलित करना है। यह जीवनशैली में बदलाव, आहार संबंधी आदतों और हर्बल उपचार के संयोजन से प्राप्त किया जाता है। तो आइए जानते है बवासीर के लिए पतंजलि मेडिसिन (Patanjali Medicine for Piles in Hindi)

बवासीर की पतंजलि की दवा | Piles Patanjali Medicine in Hindi | पाइल्स के लिए पतंजलि की दवा

यहां बाबा रामदेव द्वारा बवासीर के लिए कुछ पतंजलि दवाएं दी गई हैं जो बवासीर की स्थिति को ठीक करने के लिए प्रभावी रूप से काम करती हैं -

1) दिव्य अर्शकल्प वटी (Divya Arshakalp Vati for Piles Treatment)

अर्शकल्प वटी बवासीर, बवासीर और भगंदर के लिए एक सिद्ध औषधि है। यह हर्बल अर्क के संयोजन से बनाया गया है जो सूजन को ठीक करने और दर्द और परेशानी को शांत करने की क्षमता रखता है। अर्शकल्प वटी में रेचक गुण भी होते हैं जो क्रमाकुंचन को प्रेरित करते हैं और इस प्रकार आंतों को दर्द मुक्त बनाते हैं। यह पाचन में सुधार करता है, गैस बनने और बेचैनी को कम करता है।

पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी में प्रमुख सामग्री

पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी में रसोत्सुध (बर्बेरिस अरिस्टाटा), हरार छोटा (टर्मिनलिया चेबुला), बकायन (मेलिया अजेदारच), ​​निमोली (अजादिराचता इंडिका), रीथा (सपिंडसमुकोरोसी), कपूरदेसी (दालचीनी कपूर), मकोगराको (दामोनोलम) शामिल हैं। प्रमुख सामग्री के रूप में घृतकुमारी (एलो बारबडेंसिस) और नागदोन (आर्टेमिसिया वल्गरिस) शामिल है।

उपयोग/खुराक के लिए निर्देश

- 1-2 गोलियां, दिन में दो बार सामान्य पानी के साथ या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें

2) दिव्य अभयारिष्ट (Divya Abhayarishta for Piles Treatment)

अभ्यासिष्ठ एक चिकित्सकीय रूप से सिद्ध आयुर्वेदिक फॉर्मूलेशन है जो आपके पाचन तंत्र को बढ़ावा देता है और आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को खत्म करता है। यह प्राकृतिक अर्क से तैयार किया जाता है जिसमें रेचक गुण होते हैं और पेरिस्टाल्टिक आंदोलनों को प्रेरित करते हैं जिससे आंतों को दर्द से मुक्त किया जा सकता है। यह पाचन में सुधार करता है, भूख बढ़ाता है, गैस बनना कम करता है और बवासीर में सूजन को शांत करता है।

पतंजलि दिव्य अभयारिष्ट में प्रमुख सामग्री

दिव्य अभ्यास में हरड़ (टर्मिनलिया चेबुला), मुन्नाका (विटिस विनीफेरा), महुआ (मधुकैंडिका), वैविदंग (एम्बेलियरीब्स), गुड (गुड़), गोखरू (ट्रिबुलस टेरेस्ट्रिस), निसोथ (ऑपरकुलिनैटरपेटम), धनिया (धनिया (धनियाफ्रुटिकोसा) शामिल हैं। , इंद्रायणमूल (सिट्रुलस्कोलोसिंथिस), छाव्या (पाइपर रेट्रोफ्रैक्टम), सौंठ (ज़िंगिबरोफिसिनेल), डेंटिमुल (बालियोस्पर्मममोमटेनम), और मोचरस (सलमालियामालाबेरिका) प्रमुख सामग्री के रूप में शामिल है।

उपयोग/खुराक के लिए निर्देश

भोजन के बाद दिन में दो बार या चिकित्सक के निर्देशानुसार 15-30 मिलीलीटर मौखिक रूप से समान मात्रा में पानी के साथ लें।

3) दिव्य हरितकी चूर्ण (Divya Haritaki Churna for Piles)

यह दवा पाचन में सुधार लाती है। इसके साथ ही यह कब्ज और बवासीर को रोकती भी है। यह शरीर से हर तरह के टॉक्सिन को निकालकर डिटॉक्सिफाई करने में भी सहायक है।

दिव्य हरितकी चूर्ण में प्रमुख सामग्री

दिव्य हरीतकी चूर्ण में मुख्य सामग्री के रूप में हरीतकी शामिल है। हरीतकी का उपयोग इसके समग्र उपचार गुणों के लिए किया गया है।

उपयोग/खुराक के लिए निर्देश

दिव्य हरीतकी चूर्ण का 2-5 ग्राम दिन में दो बार गुनगुने पानी के साथ या चिकित्सक के निर्देशानुसार लें

4) दिव्य त्रिफला गुग्गुल (Bawasir ke liye Divya Triphala Guggul)

त्रिफला गुग्गुल बवासीर, भगंदर, वात संबंधी दर्द, पक्षाघात, साइटिका, अस्थि मज्जा के जोड़ों में वात में लाभकारी है। आयुर्वेद की एक विशेष प्रक्रिया गुग्गुल कल्प के माध्यम से निर्मित औषधियों का आयुर्वेद चिकित्सा में विशेष महत्व है। इसका उपयोग सभी प्रकार के वात रोगों के लिए किया जाता है।

दिव्य त्रिफला गुग्गुल में प्रमुख सामग्री

दिव्य त्रिफला गुग्गुल में हरीतकी, विभीतकी, आमलकी, कृष्णा (लंबी मिर्च के सूखे मेवे) और गुग्गुलु सामग्री के संयोजन के रूप में शामिल हैं।

उपयोग/खुराक के लिए निर्देश

दिव्य त्रिफला गुग्गुल की 1 - 2 गोलियां दिन में 2 - 3 बार, भोजन से पहले या बाद में या आयुर्वेदिक चिकित्सक के निर्देशानुसार लें।

5) दिव्य उदरकल्प चूर्ण (Divya Udarkalp Churna for Piles)

दिव्य उदरकल्प चूर्ण पेट को साफ करता है और कब्ज का इलाज करता है। इसके सेवन से आंतों में कोई समस्या या जलन नहीं होती है। यह पेट की आग को प्रज्वलित करता है और इसलिए पाचन क्षमता को बढ़ाता है।

दिव्य उदरकल्प चूर्ण में प्रमुख सामग्री

दिव्य उदारकल्प चूर्ण में मधु-यष्टि (मुलेठी), मिश्रेय (सौंफ), स्वर्ण-पत्री (सनय), रेवण-चीनी, शता-पत्री (गुलाब-फूल), हरीतकी (जंग हरड़) और मिश्री (चीनी-कैंडी) मुख्य रूप से शामिल हैं।

उपयोग/खुराक के लिए निर्देश

चिकित्सक के निर्देशानुसार दिव्य उदारकल्प चूर्ण का सेवन करें।

6) दिव्य शुद्धि चूर्ण (Patanjali Divya Shuddhi Churna for Piles)

दिव्य शुद्धि चूर्ण एक आयुर्वेदिक औषधि है जो मुख्य रूप से अपच के उपचार के लिए और कब्ज, पेट फूलना, भूख न लगना आदि में उपयोगी है। यह बवासीर के लक्षण को कम करता है और घबराहट और मासिक धर्म के दर्द के उपचार में भी सहायता करता है।

उपयोग/खुराक के लिए निर्देश

चिकित्सक द्वारा बताए गए निर्देशानुसार ही पतंजलि दिव्य शुद्धि चूर्ण लें।

ये भी पढ़ें -

बवासीर और खुजली का दुश्मन है यह पौधा, बस इस्तेमाल करने का तरीका मालूम होना चाहिए

Uric Acid Ko Kaise Kare Control? : इन घरेलू उपायों से बढ़े हुए यूरिक एसिड को करें कंट्रोल

Home Remedies for Acidity in Hindi: एसिडिटी से है परेशान तो अपनाइए किचन के ये मसालें

Thyroid Eye Disease kya hai? जानें-इसके कारण, लक्षण और बचाव का तरीका

How to Reduce Stress in Hindi: दिमाग ठिकाने पर रखना है तो जानें Stress ko kaise kam kare?

Next Story