स्वास्थ्य

Lipoma ka Homeopathic ilaj | चर्बी की गांठ की होम्योपैथिक दवा | Lipoma Homeopathic Treatment

Ankit Singh
24 Feb 2022 9:09 AM GMT
Lipoma ka Homeopathic ilaj | चर्बी की गांठ की होम्योपैथिक दवा | Lipoma Homeopathic Treatment
x
Homeopathic Treatment of Lipoma: चर्बी की गांठ (Lipoma) को समाप्त करने के लिए होम्योपैथिक इलाज का सहारा लिया जा सकता है। तो आइए इस पोस्ट में समझते है कि लिपोमा का होम्योपैथिक इलाज (Lipoma ka Homeopathic ilaj) कैसे करें? और चर्बी की गांठ की होम्योपैथिक दवा (Homeopathic Medicine for Lipoma) क्या है।

Lipoma Homeopathic Treatment in Hindi: लिपोमा एक सौम्य (गैर-कैंसरयुक्त) ट्यूमर है जो वसायुक्त ऊतक से बना होता है, जो आमतौर पर 40 से 60 वर्ष की आयु के वयस्कों को प्रभावित करता है। वे आम तौर पर दर्द रहित और स्पर्श करने के लिए नरम होते हैं। उनका आकार 1 सेमी से कम से 8 सेमी से अधिक आकार में भिन्न होता है।

अत्यंत गंभीर स्थिती में ही लिपोमा की सर्जरी करवाने की जरूरत पड़ती है। आम भाषा में लिपोमा को चर्बी की गांठ कहा जाता है। लिपोमा को कई तरह के उपचारों से ठीक किया जा सकता है। Lipoma ka Gharelu ilaj भी है जिसके जरिए Charbi ki Ganth को ठीक किया जा सकता है। लेकिन आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि लिपोमा का होम्योपैथिक इलाज (Lipoma ka Homeopathic ilaj) क्या है? और चर्बी की गांठ की होम्योपैथिक दवा (Lipoma Homeopathic Medicines) क्या है।

लिपोमा के लिए होम्योपैथिक स्कोप | Homeopathic Scope for Lipoma

होम्योपैथिक दवाएं बड़े लिपोमा को पूरी तरह से नष्ट नहीं कर सकती हैं और केवल आंशिक रूप से उन्हें नरम कर सकती हैं और उनके आकार को मामूली रूप से कम करने में मदद कर सकती हैं। आइये जानते है होम्योपैथिक दवाएं लिपोमा पर किस तरह से असर दिखाती है।

आकार कम करना - होम्योपैथी के साथ छोटे लिपोमा (1 सेमी से कम) को आकार में काफी कम किया जा सकता है, खासकर जब जल्दी इलाज किया जाता है। बड़े लिपोमा ने भी दवाओं के प्रति प्रतिक्रिया दिखाई है, हालांकि सभी मामलों में अनुकूल प्रतिक्रिया नहीं होती है और ऐसे मामलों में इसकी प्रशंसा नहीं की जाती है।

नए लिपोमा के गठन को रोकना - जिन लोगों को कई लिपोमा होने का खतरा होता है और ऐसे मामलों में जहां लिपोमा आकार में धीरे-धीरे बढ़ने लगते हैं, उन्हें निश्चित रूप से होम्योपैथी के एक कोर्स का विकल्प चुनना चाहिए।

लिपोमा से जुड़े दर्द और परेशानी से राहत - कभी-कभी लिपोमा तंत्रिका संबंधी परेशानी और दर्द का कारण बन सकता है जिसे होम्योपैथिक से राहत मिल सकती है।

सुरक्षा - होम्योपैथिक उपचारों का सामान्य रूप से कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। उन्हें हानिकारक दुष्प्रभाव के डर के बिना लंबी अवधि के लिए लिया जा सकता है। आप उनकी सुरक्षा के लिए 100% सुनिश्चित हो सकते हैं।

चर्बी की गांठ की होम्योपैथिक दवा | Homeopathic Medicine for Lipoma | लिपोमा के लिए होम्योपैथिक दवाएं

लिपोमा के लिए होम्योपैथिक दवाएं प्रभावी रूप से इसे ठीक कर देती लिपोमा के मामलों में सर्जरी के लिए जाने की आवश्यकता नहीं होती है। ठीक से चयनित होम्योपैथिक दवाओं के उपयोग से न केवल लिपोमा भंग हो जाता है, बल्कि शरीर में लिपोमा बनने की प्रवृत्ति इसकी जड़ से कम हो जाती है। तो जानिए लिपोमा के लिए होम्योपैथिक दवाएं।

Homeopathic Medicines for Lipoma in Hindi

Calcarea Carb (कैल्केरिया कार्ब)

लिपोमा के कुछ ऐसे रोगी होते है, जिनके लक्षणों में सिर पर जरूरत से ज्यादा पसीना आना, ठंडी हवा के प्रति संवेदनशीलता होना शामिल होता है। इसके अलावा कुछ लोगों को उबले अंडे की लालसा और लाइम और चाक जैसी अपचनीय चीजें खाने की लालसा भी होती है। ऐसे लक्षणों वाले लोगों को होम्योपैथिक दवा कैल्केरिया कार्ब दी जाती है। लिपोमा को पूरी तरह से गायब करने में मदद कर सकती है।

Sulphur (सल्फर)

सल्फर अगली होम्योपैथिक दवा है जो Lipoma Ka ilaj करने में बेहद मददगार साबित हो सकती है। सल्फर लिपोमा के इलाज के लिए कैल्केरिया कार्ब की तरह एक समान रूप से शक्तिशाली दवा है। लेकिन कौन सी दवा किस रोगी के लिए उपयुक्त होगी यह उसके कंपाउंड पर निर्भर करता है। कैल्केरिया कार्ब की तरह, सल्फर के उपयोग के लिए कई अलग लक्षण हैं। इनके लक्षणों में शरीर में अत्यधिक गर्म संवेदना, हथेलियों, तलवों और सिर में गर्मी अधिक हो सकती है। खान-पान की आदतों में रोगी की मिठाइयों की मांग अधिक हो सकती है। अगर ऐसे लक्षण किसी लिपोमा के मरीज में है तो उन्हें होम्योपैथिक दवा Sulphur दी जाती है।

Belladonna (बेलाडोना)

लिपोमा में दर्द होने पर होम्योपैथिक दवा बेलाडोना फायदेमंद होती है। गांठ को छूने पर दर्द बढ़ सकता है। यहां बेलाडोना दर्द से राहत दिलाने और लिपोमा को घोलने में मदद करेगी।

Thuja (थूजा)

थूजा एक होम्योपैथिक दवा है जो शरीर में कहीं भी होने वाली असामान्य वृद्धि के इलाज में बहुत मदद करती है। थूजा में वसा संचय के पूर्ण अपव्यय में मदद करने की एक शक्तिशाली क्षमता है। लिपोमा वाले व्यक्ति के रक्त में कोलेस्ट्रोल का स्तर उच्च होता है, तो होम्योपैथिक दवा थूजा का उपयोग फिर से बहुत फायदेमंद होता है।

चर्बी की गांठ क्या है, यह कितने प्रकार का होता है और इसके लक्षण क्या है? यह विस्तार से समझने के लिए आगे दिए गए लिंक पर क्लिक करें। - चर्बी की गांठ की पहचान कैसे करें?

ये भी पढ़ें -

Uric Acid in Hindi: जानिए यूरिक एसिड क्या है? | Home Remedies for High Uric Acid

Kidney Stone in Hindi : गुर्दे की पथरी का इलाज, कारण और लक्षण | Home Remedies for Kidney Stone

Erectile Dysfunction in Hindi : जानिए Erectile Dysfunction kya Hai? | Natural Remedies For Impotence

Home Remedies For Irregular Periods in Hindi : अनियमित माहवारी का घरेलू इलाज

Next Story