स्वास्थ्य

पाइल्स का होम्योपैथिक इलाज | Homeopathic Treatment for Piles in Hindi | बवासीर की होम्योपैथिक दवा

Ankit Singh
21 Feb 2022 10:30 AM GMT
पाइल्स का होम्योपैथिक इलाज | Homeopathic Treatment for Piles in Hindi | बवासीर की होम्योपैथिक दवा
x
Homeopathic medicine for Piles in Hindi: पाइल्स के इलाज (Piles Treatment in Hindi) के होमियोपैथी को बहुत अच्छा माना जाता है। इसलिए इस आर्टिकल में हम आपको पाइल्स का होम्योपैथिक इलाज (Piles ka Homeopathic ilaj) और बवासीर की होम्योपैथिक दवा (Bawasir ki Homeopathic Medicine) बताएंगे।

Bawasir Homeopathic Medicine in Hindi: हमारी जीवन शैली में बदलाव, हमारे नियमित जीवन में खान-पान की गलत आदतों के कारण कई तरह की बीमारियां सामने आती हैं। इसके साथ-साथ शारीरिक व्यायाम की कमी के कारण अपच, गैस्ट्रिक समस्या, एसिडिटी, कब्ज सहित बवासीर जैसी स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न हो जाती है। अगर यह परेशानी अधिक समय तक बनी रहे तो व्यक्ति को पाइल्स की समस्या हो सकती है।

होम्योपैथिक उपचार (Homeopathic Treatment for Piles in Hindi) से बवासीर पूरी तरह ठीक हो सकती है। पाइल्स की होम्योपैथिक दवा (Piles ki Homeopathic Medicine) बवासीर को जड़ से खत्म कर देती है सर्जरी की नौबत नहीं आने देती।

होम्योपैथिक पाइल्स ट्रीटमेंट (Homeopathic Piles Treatment) से दर्द और रक्तस्राव से राहत मिलती है। यह न केवल आपके बवासीर (Bawasir) को स्थायी रूप से ठीक करता है बल्कि आपके पाचन में भी सुधार करता है और आपके मल त्याग को साफ करता है और कब्ज से राहत देता है।

परमानेंट ट्रीटमेंट फॉर पाइल्स (Permanent Treatment for Piles) के लिए होम्योपैथिक दवाएं बड़े काम की होती है। इसलिए ज्यादातर लोग गूगल पर पाइल्स का होम्योपैथिक इलाज (Piles ka Homeopathic ilaj), होम्योपैथिक पाइल्स ट्रीटमेंट (Piles Homeopathic Medicine), बवासीर के मस्सों का होम्योपैथिक इलाज, पाइल्स का होम्योपैथिक इलाज इन हिंदी (Piles Homeopathic Treatment in Hindi), होमियोपैथी ट्रीटमेंट फॉर पाइल्स जैसे तमाम कीवर्ड से होम्योपैथिक दवा सर्च करते है।

इसलिए आज हम इस आर्टिकल में आपको पाइल्स का होम्योपैथिक इलाज (Homeopathic Piles Testament in Hindi) बताएंगे। लेकिन उससे पहले जानते है कि बवासीर होने का कारण क्या है? (Causes of Piles)

पाइल्स होने का कारण | Causes of Piles in Hindi

बवासीर (Piles) का कारण एक कारक पर आधारित होता है, यानी पेट के अंदर का दबाव बढ़ जाना। बढ़े हुए पेट के दबाव का प्रभाव मलाशय और गुदा क्षेत्र में स्थित गुदा शिरा में दबाव के प्रभाव को बढ़ाता है। इस प्रकार निम्न स्थितियों में पेट का दबाव बढ़ जाता है।

1. कब्ज - कब्ज होने पर आप मल त्याग करते समय अधिक दबाव डालेंगे और यह अप्रत्यक्ष रूप से पेट के अंदर के दबाव को बढ़ाएगा और मलाशय के वेनस प्रेशर को प्रभावित करेगा।

2. कठोर मल - फाइबर युक्त आहार न लेने के कारण यदि आपका मल सख्त है तो यह आपको मल के दौरान अधिक तनाव देगा और बवासीर का कारण बनेगा।

3. क्रोनिक - हाइपरएसिडिटी और पेट फूलने की स्थिति भी पेट के अंदर के दबाव को बढ़ाती है और बवासीर का कारण बनती है

4. लंबे समय तक कई घंटे बैठे रहना - अगर आप ऐसी नौकरी में हैं जहां आपको घंटों एक साथ बैठना पड़ता है, जैसे आईटी क्षेत्र या कॉर्पोरेट क्षेत्र में काम करने वाले लोग भी लंबे समय तक बैठने से दबाव बनने के कारण पेट के अंदर दबाव बढ़ने की संभावना में योगदान करते हैं।

5. शारीरिक गतिविधियों की कमी - शारीरिक गतिविधियों की कमी के कारण कब्ज की समस्या होती है। इस प्रकार भी बवासीर की समस्या उत्पन्न होती है।

6. मोटापा - वजन बढ़ना या मोटापा भी एनल वेनस एरिया में दबाव बढ़ाकर बवासीर के विकास के लिए एक भूमिका निभाता है।

7. गर्भावस्था- गर्भावस्था भी पेट के अंदर के दबाव को बढ़ाने और बवासीर के विकास में एक कारक का योगदान करती है।

8. पुराने दस्त से भी बवासीर होने की संभावना रहती है।

बवासीर के लक्षण | Symptoms of Piles in Hindi | Piles ke Lakshan

बवासीर के लक्षणों के बारें में हम अपने पिछले लेख में विस्तार से बता चुके है। अगर आप पाइल्स के लक्षण को समझना चाहते गई तो आगे दिए गए लिंक पर क्लिक करें। - जानिए क्या है बवासीर के लक्षण

बवासीर की होम्योपैथिक दवा | Homeopathic Medicine for Piles | पाइल्स होम्योपैथिक मेडिसिन

Bawasir Homeopathic Medicine: यहां कुछ बेस्ट होम्योपैथिक मेडिसिन फॉर पाइल्स बताएं गए है।जिसकी मदद से आप होम्योपैथिक पाइल्स ट्रीटमेंट कर सकते है।

1) हमामेलिस (Hamamelis For Piles)

बवासीर में होने वाले रक्तस्राव को रोकने में यह दवाई उपयोगी है। यह किसी भी शिरापरक जमाव और रक्तस्राव को ठीक कर सकता है। यह तब भी लिया जा सकता है जब रोगी को दर्द का अहसास हो।

2) रतनहिया (Ratanhia for Bawasir)

यह बवासीर के दर्द से राहत देता है। बवासीर से पीड़ित रोगी को मल निकालने के समय और उसके बाद भी घंटों तक अत्यधिक दर्द और जलन महसूस होती है।

3) ग्रेफाइट्स (Graphites for Piles Treatment)

यह कब्ज और बवासीर दोनों से पीड़ित रोगी को दी जाती है। यह उन्हें दिया जाता है जो मोटे होते हैं, त्वचा पर फोड़े फुंसी और कब्ज होते हैं।

4) नक्स वोमिका (Nux Vomica to Hemorrhoid)

यह उन रोगियों को दिया जाता है जिनकी जीवन शैली गतिहीन होती है, मसालेदार भोजन करते हैं और सक्रिय धूम्रपान करने वाले और शराब पीने वाले होते हैं। आमतौर पर जिन रोगियों को नक्स वोमिका लेने की सलाह दी जाती है, वे आक्रामक प्रकृति के होते हैं। यह बवासीर के साथ-साथ पाचन विकारों को भी ठीक करता है।

5) म्यूरिएटिक एसिड (Muriatic acid)

पाइल्स के गंभीर मामलों में जहां व्यक्ति स्पर्श नहीं कर सकता, वहां राहत पाने के लिए म्यूरिएटिक एसिड का उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग बड़े, सूजे हुए, बैंगनी या नीले बवासीर के मामले में किया जाता है।

6) सल्फर (Sulphur for Piles Treatment)

आंतरिक और बाहरी बवासीर के प्रमुख लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए यह उपयोगी उपचारों में से एक है। इस दवा से गुदा क्षेत्र में खुजली, जलन, दर्द को नियंत्रित किया जा सकता है।

7) आर्सेनिक एल्बम (Arsenic album)

जिन रोगियों को चलने या खड़े होने में जलन का अनुभव होता है, या जिन लोगों में सूजन, नीले बवासीर और बहुत अधिक रक्तस्राव होता है, उनके लिए इस उपाय से इलाज किया जाता है।

8) एस्कुलस हिप्पोकैस्टेनम (Aesculus Hippocastanum)

यह होम्योपैथिक दवा बवासीर के कारण पीठ में दर्द के रोगियों के लिए बेहतर काम करती है।

9) कैल्केरिया फ्लोरिका (Calcarea fluorica)

गुदा क्षेत्र में खुजली और रक्तस्राव के साथ आंतरिक बवासीर का इलाज इस दवा से किया जाता है।

10) एलओएस (Aloes)

गुदा क्षेत्र में दर्द और पेल्विक एरिया में दर्द इस दवा से नियंत्रित किया जा सकता है। इसके अलावा मल त्याग करते समय मलाशय में जलन को इस दवा से प्रभावी ढंग से नियंत्रित किया जा सकता है।

इन आदतों को भी अपनाएं-

बवासीर को हमेशा के लिए ठीक करने के लिए दवाओं के अलावा निम्नलिखित स्वस्थ आदतों को भी अपनाएं-

  • सभी जंक और फास्ट फूड, तेल मसाले वाले भोजन से बचें।
  • अपने आहार में अधिक प्राकृतिक फल और कच्ची सब्जियां शामिल करें।
  • अपना नाश्ता कभी न छोड़ें, अपने नियमित नाश्ते में अधिक फल और सब्जियां शामिल करें।
  • नियमित व्यायाम और सुबह की सैर हमेशा सलाह दी जाती है।
  • अपना नाश्ता और सभी भोजन समय पर लें।
  • देर रात की नींद और रात की शिफ्टिंग ड्यूटी आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक और पाइल्स का कारण है।
  • खूब पानी कम से कम 2 से 3 लीटर प्रतिदिन लें।
  • कॉफी, चाय का सेवन दिन में एक बार से ज्यादा ना करें।
  • धूम्रपान से बचें क्योंकि धूम्रपान से अम्लता अधिक होती है और यह बवासीर का कारण बनता है।
  • अपनी उम्र और हाइट के अनुसार अपना वजन सामान्य बनाए रखें। मोटापा भी बवासीर का बड़ा कारण है।
  • अतिरिक्त तनाव से बचें और खुद को हमेशा खुश और खुश रखने की कोशिश करें।
  • नियमित रूप से योग और प्राणायाम का अभ्यास करें।

ये भी पढ़ें -

Home Remedies For Irregular Periods in Hindi : अनियमित माहवारी का घरेलू इलाज

Uric Acid in Hindi: जानिए यूरिक एसिड क्या है? | Home Remedies for High Uric Acid

Sensitive Teeth Home Remedies in Hindi: दांतों में हो रही है झनझनाहट? तो अपनाए यह घरेलू इलाज

Home Remedies for Sinus in Hindi: साइनस से हैं परेशान, तो ये घरेलू उपचार आपको देंगे राहत

Thyroid Eye Disease kya hai? जानें-इसके कारण, लक्षण और बचाव का तरीका

Next Story