स्वास्थ्य

Home Remedies For Irregular Periods in Hindi : अनियमित माहवारी का घरेलू इलाज

Ankit Singh
23 Nov 2021 10:00 AM GMT
Home Remedies For Irregular Periods in Hindi : अनियमित माहवारी का घरेलू इलाज
x
Home Remedies For Irregular Periods in Hindi: वैसे तो पीरियड्स (Periods) मिस होने की सबसे कॉमन वजह प्रेग्नेंसी होती है लेकिन अगर आप प्रेग्नेंसी प्लान नहीं कर रही हैं और फिर भी आपके पीरियड्स मिस हो रहे हैं तो इसकी कई वजहें हो सकती हैं। ऐसे में आइए जानते है अनियमित माहवारी का घरेलू इलाज।

Home Remedies For Irregular Periods in Hindi: पीरियड्स (Menstrual Cycle) महिलाओं के शरीर में होने वाले बदलाव में से एक है। हर महीने महिलाओं को इसए गुजरना पड़ता है। कई महिलाओं को इस दौरान काफी तकलीफों से भी होकर गुजरना पड़ता है। वहीं कई महिलाओं को अनियमित पीरियड्स (Irregular Periods) भी होते है। अगर आपके के साथ भी ऐसी समस्या है तो नजरअंदाज ना करें तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।

एक सही मासिक चक्र लगभग 28 दिनों का होता है, जिन महिलाओं या किशोरियों को 29वें दिन पर पीरियड्स या मासिक धर्म हो जाते हैं, तो उनका मासिक चक्र एकदम सही होता है। लेकिन अगर आपको 21 दिनों में या उससे पहले मासिक धर्म शुरू हो जाते हैं और आपकी माहवारी 8 दिनों से अधिक समय तक रहती है, तो आप अनियमित मासिक धर्म की समस्या से ग्रस्त हैं। इसीलिए आज हम आपको पीरियड्स को रेगुलर करने के कुछ घरेलू तरीकों (Home Remedies For Irregular Periods in Hindi) के बारे में बता रहे है।

Causes of Irregular Periods in Hindi | अनियमित माहवारी के कारण

स्टडी के अनुसार करीब 35 प्रतिशत महिलाओं को अनियमित महामारी (Irregular Periods) की समस्या होती है। अनियमित माहवारी की परेशानी अक्सर किशोरावस्था में लड़कियों को ज्यादा होती है, जिनमें मासिक धर्म की बस शुरुआत ही हुई हो। अनियमित माहवारी के कई सामान्य कारण हो सकते हैं जैसे-

  • आहार में पोषण में कमी
  • मेनोपाॅज के महीनों में
  • अचानक वजन का बढ़ना या घट जाना
  • तनाव का बढ़ना
  • बर्थ कंट्रोल पिल्स
  • ज्यादा एक्सरसाइज़
  • थायरॉइड

Irregular Periods Symptoms in Hindi | अनियमित मासिक धर्म के लक्षण

Irregular Periods की पहली पहचान है- यूटेरस में दर्द होना, कमर, पैर-हाथ और स्तनों में दर्द होना, भूख कम लगना, थकान महसूस होना, कब्ज आदि। यूट्रस में ब्लड क्लॉट्स का बनना भी इसी का एक लक्षण है।

Home Remedies for Irregular Periods in Hindi | अनियमित पीरियड्स के घरेलू उपचार

> कच्चा पपीता भी पीरियड्स की समस्याओं के लिए फायदेमंद माना जाता है। इसे कच्चा ही खा सकते हैं या फिर इसके रस को दिन में दो बार पी सकते हैं। इसे अपनी महावरी के चक्र में के किसी बीच के दिनों में खा सकते हैं।

> मेथी भी अनियमित पीरियड्स की समस्या से राहत दिला सकती है। मेथी को पानी में उबालकर भी इसका सेवन किया जा सकता है।

> अनियमित पीरियड्स की समस्या से राहत पाने के लिए धनिया लाभदायक हो सकता है। एक चम्मच सूखी धनिया को दो ग्लास पानी के साथ उबालें जब तक पानी एक ग्लास ना हो जाए। इससे आपको फायदा हो सकता है।

> अदरक को चाय के साथ या शहद के साथ खा सकते हैं। इससे आपके अनियमित पीरियड्स की समस्या दूर हो सकती है। एक तरीका ये भी है कि अदरक के रस को उसके आधे पानी में मिलाकर नियमित तारीख के पहले सुबह खाली पेट पी सकते हैं।

> पीरियड्स खुलकर नहीं होते तो रात को सोते समय आधा चम्मच अजवाइन के साथ गुनगुना हल्दी वाला दूध ​पीए। इससे आपको पीरियड्स ठीक से आने लगेंगे।

> पीरियड्स की वजह से महिलाओं के शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। यदि हम इस कमी को न होने दें, तो भी हमारी बहुत सी परेशानियां दूर हो सकती हैं। ऐसे में आपको नियमित रूप से हेल्दी डाइट लेनी चाहिए।

> मासिक धर्म की अनियमितता से पीड़ित महिलाओं के लिए एक्यूपंक्चर भी लाभदायक साबित होता है।

Ayurvedic Treatment of Irregular Periods | अनियमित माहवारी का आयुर्वेदिक इलाज

  • माहवारी के दौरान खट्टे और गरिष्ठ भोजन ना करें।
  • बहुत ज्यादा मसालेदार चीजें ना खाएं।
  • चाय, काॅफी और ठंडे पेय के सेवन से बचें।
  • पीरियड्स के दौरान शरीर को थकाने वाले कामों से बचना चाहिए।
  • अपने खान पान में देशी घी का सेवन अधिक करें।
  • सबसे जरूरी, शारीरिक सफाई का विशेष ख्याल रखें।

ये भी पढ़ें-

Ashwagandha Benefits in Hindi : जानिए अश्वगंधा के फायदे, उपयोग और नुकसान

Buckwheat in hindi: कुट्टू के आटे के क्या फायदे हैं? | Buckwheat Benefits and Side Effects

Sensitive Teeth Home Remedies in Hindi: दांतों में हो रही है झनझनाहट? तो अपनाए यह घरेलू इलाज

Wajan kaise kam kare? : Home Remedies for Weight Loss in Hindi | Watch Video

Uric Acid Ko Kaise Kare Control? : इन घरेलू उपायों से बढ़े हुए यूरिक एसिड को करें कंट्रोल

Next Story
Share it