आर्थिक

Sub-Limit in Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में सब-लिमिट क्या होता है? जानिए

Ankit Singh
1 May 2022 4:45 AM GMT
Sub-Limit in Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में सब-लिमिट क्या होता है? जानिए
x
Sub-Limit in Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के दस्तवेजों में एक टर्म आता है 'सब-लिमिट' (Sub-Limit)। क्या हैं इस शब्द के मायने और क्यों है यह जरूरी? आइए, यहां इसे समझने की कोशिश करते हैं कि हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में सब-लिमिट क्या होता है?

Sub-Limit in Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस या मेडिकल इंश्योरेंस एक प्रकार का इंश्योरेंस है जो पॉलिसी द्वारा इंश्योरेंस अमाउंट की राशि तक किसी के ट्रीटमेंट और अस्पताल में भर्ती खर्चों के लिए कवरेज प्रदान करता है। एक आम व्यक्ति के लिए हेल्थ इंश्योरेंस प्लान में प्रयोग किए जाने वाले शब्दजाल को समझना कठिन हो सकता है। पॉलिसी डॉक्यूमेंट में लिखित शर्तों को समझना बहुत ही जरूरी है। एक ऐसा ही महत्वपूर्ण पहलू जिसके लिए उचित जांच की आवश्यकता है, वह सब-लिमिट क्लॉज (Sub-Limit Clause) है। आइए इस लेख में हम हेल्थ इंश्योरेंस में सब-लिमिट (Sub-Limit) के अर्थ को समझें।

Sub-Limit का परिचय

सब-लिमिट एक बीमा पॉलिसी में प्रदान की गई कवरेज की राशि पर एक कैप है। दूसरे शब्दों में कहे तो यह उस अमाउंट पर एक लिमिट रखता है जिसका लाभ किसी विशेष हानि या व्यय (Expense) को कवर करने के लिए लिया जा सकता है। एक Sub-Limit Clause का तात्पर्य है कि पॉलिसी द्वारा कुल सब-एश्योर्ड की राशि के बावजूद, किसी विशेष कारण के लिए कवरेज सब-लिमिट से अधिक नहीं हो सकता है।

Sub-Limit को बीमा राशि या बीमा कंपनी द्वारा निर्दिष्ट एक विशिष्ट राशि के प्रतिशत के रूप में व्यक्त किया जा सकता है। बहुत से लोग सब-लिमिट अमाउंट को बीमा कंपनी द्वारा प्रदान किए गए अतिरिक्त कवरेज के रूप में गलती करते हैं। Sub-Limit को शामिल करना विशिष्ट मामलों में अपनी लियाबिल्टी को कम करने का बीमा कंपनी का तरीका है।

हेल्थ इंश्योरेंस में सब-लिमिट क्या है? | What is Sub-Limit in Health Insurance

हेल्थ इंश्योरेंस योजनाओं में दो महत्वपूर्ण प्रकार के सब-लिमिट हैं-

1) कमरे के किराए पर सब-लिमिट

कमरे के किराए पर सब-लिमिट स्वास्थ्य देखभाल सुविधा द्वारा प्रतिदिन कमरे के किराए को कवर करने वाली राशि की ऊपरी सीमा को दर्शाती है। उदाहरण के लिए अगर पॉलिसी में प्रतिदिन 3000 रुपये की Sub-Limit है। और कमरे का वास्तविक किराये का शुल्क 4500 रुपए प्रति दिन है, तो बीमा कंपनी केवल प्रति दिन 3000 रुपये के हिसाब से देगी, बाकी का 1500 रुपए पॉलिसी-धारक को देना होगा।

बीमा कंपनी पॉलिसी द्वारा कवर किए गए कमरे के प्रकार पर भी प्रतिबंध लगा सकती है। उदाहरण के लिए पॉलिसी केवल डीलक्स कैटेगरी तक के कमरों के कवरेज के लिए प्रदान कर सकती है। उस स्थिति में, प्रीमियम कमरे और निजी सुइट्स को कवर नहीं किया जाएगा।

2) विशिष्ट उपचारों पर सब-लिमिट

विशिष्ट उपचारों पर Sub-Limit Clause कुछ बीमारियों या बीमारियों के ट्रीटमेंट कॉस्ट पर एक आइटम-दर-आइटम मोनेटरी कैप निर्दिष्ट करता है। कुछ पॉलिसी कुछ आकस्मिक खर्चों पर सब-लिमिट भी प्रदान करती हैं जैसे कि डॉक्टर की परामर्श शुल्क, नैदानिक ​​परीक्षण के शुल्क, आदि। उदाहरण के लिए, अगर कैंसर के उपचार के लिए सब-लिमिट राशि बीमा राशि के 50% (जैसे 20 लाख रुपए) पर कैप है, तो पॉलिसी-धारक 10 लाख रुपये से अधिक का दावा नहीं कर सकता।

ये भी पढ़ें -

TPA in Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस में थर्ड पार्टी एडमिनिस्ट्रेशन का क्या काम होता है? जानिए

Free Look Period in Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस में फ्री लुक पीरियड क्या है? जानिए इसके फायदें

Non-Medical Expenses in Health Insurance | हेल्थ इंश्योरेंस में नॉन मेडिकल एक्सपेंस क्या है?

OPD Cover in Health Insurance | हेल्थ इंश्योरेंस में ओपीडी कवर क्या है? | OPD Cover in Hindi

NCB in Health Insurance | हेल्थ इंश्योरेंस में नो क्लेम बोनस क्या है? | No claim bonus in Hindi

Next Story