आर्थिक

Reverse Repo Rate Kya Hai? | क्या होता है रिवर्स रेपो रेट? आसान भाषा में समझिए

Ankit Singh
13 May 2022 7:44 AM GMT
Reverse Repo Rate Kya Hai? | क्या होता है रिवर्स रेपो रेट? आसान भाषा में समझिए
x
Reverse Repo Rate: अपने अक्सर टीवी या समाचार पत्रों में सुना होगा कि RBI ने रिवर्स रेपो रेट में कटौती या बढ़ोतरी की है, रिवर्स रेपो रेट का वास्तविक अर्थ (Meaning of Reverse Repo Rate in Hindi) क्या है? अगर नहीं जानते तो इस लेख में जानिए की Reverse Repo Rate Kya Hai? (What is Reverse Repo Rate in Hindi)

Reverse Repo Rate in Hindi: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के सबसे महत्वपूर्ण कर्तव्यों में से एक विकास को प्रोत्साहित करने के लिए अर्थव्यवस्था (Economy) में मुद्रा आपूर्ति (Money Supply) को कंट्रोल करना है। मूल्य स्थिरता (Price stability) और आर्थिक विकास (Economic Development) को बढ़ावा देने के लिए बैंक द्वारा कई पॉलिसी और टूल बनाए गए हैं। रिवर्स रेपो रेट (Reverse Repo Rate) ऐसा ही एक मौद्रिक उपकरण (Monetary tool) है।

होम लोन आवेदकों के लिए यह स्पष्ट रूप से समझना आवश्यक है कि रिवर्स रेपो रेट का क्या अर्थ (Meaning of Reverse Repo Rate in Hindi) है क्योंकि यह सीधे लोन इंटरेस्ट रेट को प्रभावित कर सकता है। यहां वह सब कुछ है जो आपको RRR के बारे में जानना चाहिए। तो आइए इस लेख में जानते है कि Reverse Repo Rate Kya Hai? (What is Reverse Repo Rate in Hindi) और रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में क्या अंतर (Difference Between RR and RRR in Hindi) है।

रिवर्स रेपो रेट क्या है? | What is Reverse Repo Rate in Hindi

Reverse Repo Rate Kya Hai? सरल शब्दों में, RRR भारत में कमर्शियल बैंकों द्वारा RBI को दिए गए लोन की ब्याज दर है। आपने 'रेपो रेट' (Repo Rate) शब्द भी सुना होगा, जो वह दर है जिस पर RBI कमर्शियल बैंकों को पैसा उधार देता है। ये टूल सेंट्रल बैंक को भारतीय अर्थव्यवस्था में मनी फ्लो या तरलता (Liquidity) को कंट्रोल करने में मदद करते हैं।

जब भी RBI को धन की आवश्यकता होती है, वह कमर्शियल बैंकों से लोन के रूप में धन का अनुरोध कर सकता है। Reverse Repo Rate पर RBI को लोन की पेशकश की जाती है। इसके अलावा अगर कमर्शियल बैंकों के पास उच्च तरलता है, तो RBI उच्च ब्याज दर उत्पन्न करने के लिए बैंकों को स्वेच्छा से अपने धन जमा करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए Reverse Repo Rate बढ़ा सकता है।

रिवर्स रेपो रेट शब्दावली को समझे | Understand Reverse Repo Rate Terminology

'रेपो' (Repo) शब्द का अर्थ 'पुनर्खरीद समझौता' (Repurchase Agreement) या 'पुनर्खरीद विकल्प' (Repurchase Option) है। रेपो को संपार्श्विक-समर्थित (Collateral-backed), शार्ट टेन्योर लोन के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। दोनों मामलों में कॉलेटेराल, जब सेंट्रल बैंक कमर्शियल बैंकों से धन उधार लेता है और कमर्शियल बैंक केंद्रीय बैंक से धन उधार लेता है, जो आम तौर पर सिक्योरिटीज होती हैं जिन्हें ऋण राशि के खिलाफ गिरवी रखा जाता है।

Reverse Repo Rate को एडजस्ट करके, RBI आम तौर पर अर्थव्यवस्था से तरलता को कम करने की कोशिश करता है। रेपो रेट के साथ, इसका लक्ष्य आम तौर पर अधिक तरलता प्रदान करना है। दोनों के बीच बैलंस बनाए रखने से RBI भारतीय अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति (Infaltion) और तरलता को कंट्रोल करने में सक्षम होता है।

रिवर्स रेपो रेट, रेपो रेट से कम क्यों है?

Reverse Repo Rate in Hindi: 2022 में आरबीआई द्वारा तय किया गया वर्तमान Reverse Repo Rate 3.35% है, और Repo Rate 4% है। आप हमेशा देखेंगे कि Repo Rate हमेशा Reverse Repo Rate से अधिक होता है।

यह ऋण और जमा के बीच ब्याज दरों में अंतर के कारण है। जब आप होम लोन की तरह लोन लेते हैं, तो आप लोन पर जो ब्याज अदा करेंगे, वह हमेशा उस ब्याज से अधिक होगा जो आप जमा से अर्जित कर सकते हैं, जैसे कि सेविंग एकाउंट खाता या फिक्स्ड डिपाजिट (FD)। इसलिए, RBI बैंकों को रेपो रेट पर लोन प्रदान करता है और Reverse Repo Rate पर बैंकों से जमा के रूप में लोन लेता है।

चूंकि लोन पर ब्याज दरें जमा पर ब्याज दरों से अधिक होती हैं, रेपो रेट हमेशा RRR से अधिक होती है। दोनों के बीच का अंतर RBI को मुनाफा कमाने में भी मदद करता है। उदाहरण के लिए, यह एक बैंक से कम दर पर पैसा ले सकता है और दूसरे बैंक को उच्च दर पर पेश कर सकता है।

रिवर्स रेपो रेट और रेपो रेट के बीच अंतर? | Difference Between RR and RRR in Hindi

Reverse Repo Rate और Repo Rate के बीच कुछ सबसे बड़े अंतर यहां दिए गए हैं

अर्थ

RRR - बैंकों द्वारा RBI को लोन की ब्याज दर

RR - ब्याज दर जिस पर RBI बैंकों को पैसा उधार देता है

वर्तमान दर

RRR - 3.35 प्रतिशत

RR - 4 प्रतिशत

उधारकर्ता का उद्देश्य

RRR - अर्थव्यवस्था में तरलता कम करें

RR - शार्ट टर्म फंड की कमी को प्रबंधित करें

उच्च दर प्रभाव

RRR - बैंकों के पास तरलता को कम करता है क्योंकि RBI को निष्क्रिय धन की पेशकश करने से उन्हें उच्च रिटर्न उत्पन्न करने में मदद मिलती है

RR - कमर्शियल बैंकों के लिए उधार लेने की लागत बढ़ जाती है, जिससे लोन अधिक महंगे हो जाते हैं

कम दर प्रभाव

RRR - बैंक RBI के पास अपनी जमा राशि कम करते हैं और अधिक लोन प्रदान करते हैं, जिससे उच्च तरलता होती है

RR - कमर्शियल बैंकों के लिए उधार लेने की लागत कम करता है, जिससे लोन सस्ता होता है

रिवर्स रेपो रेट होम लोन की ब्याज दरों को कैसे प्रभावित करता है?

जैसा कि ऊपर बताया गया है, Reverse Repo Rate ऋण प्रदाताओं द्वारा ली जाने वाली ब्याज दर को सीधे प्रभावित कर सकता है। उदाहरण के लिए, अगर Reverse Repo Rate अधिक है, तो एक कमर्शियल बैंक उच्च रिटर्न उत्पन्न करने के लिए RBI को धन उधार देना पसंद कर सकता है। इससे ऋणदाताओं द्वारा होम लोन पर लगाए जाने वाले ब्याज दरों में वृद्धि हो सकती है।

इसी तरह, अगर Reverse Repo Rate कम है, तो एक बैंक RBI के पास अपनी जमा राशि को कम करना और उन्हें उधारकर्ताओं को देना पसंद कर सकता है। इसलिए कम Reverse Repo Rate होम लोन पर ब्याज दरों को कम कर सकता है। संभावित उधारकर्ता Reverse Repo Rate और Repo Rate का ट्रैक रखने के लिए RBI की मॉनेटरी पॉलिसी पर नजर रख सकते हैं।

Reverse Repo Rate रुपये को कैसे प्रभावित करता है?

लोन पर तरलता और ब्याज दरों के अलावा Reverse Repo Rate रुपये की मजबूती को भी प्रभावित करता है। उदाहरण के लिए अगर Reverse Repo Rate अधिक है, तो बैंक अपने निष्क्रिय धन को RBI को उधार देना और उसके ऋणों की संख्या को कम करना पसंद करेंगे। जैसे-जैसे ऋणों की संख्या गिरती है, यह बाजारों में नकदी को कम करेगा, जिससे रुपये में तेजी आएगी।

जब Reverse Repo Rate कम हो जाता है, तो बैंक अधिक ऋण देना पसंद करते हैं और RBI के पास अपनी जमा राशि को कम करते हैं। अधिक ऋण से बाजार में धन की अधिक आपूर्ति होगी, जिसके परिणामस्वरूप रुपये का मूल्यह्रास होगा।

ये भी पढ़ें -

Repo Rate Kya Hai? : What is Repo Rate in Hindi

Equity Mutual Funds Kya Hai? | Types Of Equity Funds and Features in Hindi

RBI New Policy on Cheque Payment | बैंक चेक पेमेंट का नया नियम क्या हैं?

What is SEBI in Hindi | सेबी क्या है और SEBI कैसे काम करता है? जानिए सभी सवालों के जवाब

IRDAI Kya Hai? | What is IRDAI in Hindi | जानिए आईआरडीएआई क्या है और इसके कर्तव्य क्या है?

Next Story