आर्थिक

Persistency Ratio in Health Insurance | हेल्थ इंश्योरेंस में पर्सिस्टेंसी रेश्यो क्या है? जानिए

Ankit Singh
30 May 2022 5:25 AM GMT
Persistency Ratio in Health Insurance | हेल्थ इंश्योरेंस में पर्सिस्टेंसी रेश्यो क्या है? जानिए
x
Persistency Ratio in Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के दस्तवेजों में एक टर्म आता है 'पर्सिस्टेंसी रेश्यो' (Persistency Ratio)। क्या हैं इस शब्द के मायने और क्यों है यह जरूरी? आइए, यहां इसे समझने की कोशिश करते हैं कि हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में पर्सिस्टेंसी रेश्यो क्या होता है? (What is Persistency Ratio in Health Insurance)

Persistency Ratio in Hindi: जब आप एक हेल्थ इंश्योरेंस प्लान खरीदते हैं, तो आपको कई पहलुओं पर विचार करना चाहिए। इनमें आम तौर पर क्लेम सेटलेमेंट रेश्यो, क्लाइंट रेपुटेशन, योजना की विशेषताएं, प्रीमियम और कवरेज राशि आदि शामिल हैं। एक अन्य महत्वपूर्ण फैक्टर जो महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है वह है पर्सिस्टेंसी रेश्यो। यहां वह सब कुछ है जो आपको Persistency Ratio के बारे में जानने की जरूरत है और यह हेल्थ इंश्योरेंस सेक्टर के लिए कितना महत्वपूर्ण है।

पर्सिस्टेंसी रेश्यो क्या है? | What is Persistency Ratio in Health Insurance

Persistency Ratio in Hindi: पर्सिस्टेंसी रेश्यो कुल पॉलिसियों की संख्या है जो एक बीमाकर्ता के पास उन पॉलिसियों के लिए होती है जो नवीनीकृत या लागू होती हैं। उदाहरण के लिए, एक इंश्योरेंस कंपनी 100 पॉलिसी बेचती है, लेकिन इनमें से केवल 80 पॉलिसी एक निश्चित समय पर रिन्यू या एक्टिव होती हैं। इस मामले में Persistency Ratio 80:100 होगा।

Persistency Ratio उन पॉलिसीधारकों की संख्या को दर्शाता है जो एक्टिव प्लान के लिए प्रीमियम का भुगतान कर रहे हैं। इस रेश्यो की गणना एक वित्तीय वर्ष या वर्षों की एक श्रृंखला के लिए की जा सकती है।

पर्सिस्टेंसी रेश्यो क्यों महत्वपूर्ण है? | Why is the Persistency Ratio important?

बीमा कंपनियों के साथ-साथ ग्राहकों के लिए भी पर्सिस्टेंसी रेश्यो महत्वपूर्ण है।

बीमा कंपनियों के लिए पर्सिस्टेंसी रेश्यो का महत्व - पर्सिस्टेंसी की उच्च दर बीमा प्रदाता में ग्राहक के विश्वास को इंडीकेट करती है। अगर कोई ग्राहक अपनी हेल्थ प्लान को किसी कंपनी के पास लंबे समय तक रखता है, तो इसका मतलब है कि ग्राहक बीमा कंपनी के सेवाओं से संतुष्ट है। एक High Persistency Ratio कंपनी की विश्वसनीयता को उजागर करता है क्योंकि उनके ग्राहक इतने लंबे समय तक उनके साथ रहना चाहते हैं।

एक High Persistency Ratio भी एक कंपनी के लिए नए ग्राहकों को आकर्षित कर सकता है, और बीमाकर्ता को मौद्रिक संदर्भ में लाभ होता है। एक बीमाकर्ता के पास जितने अधिक ग्राहक होंगे, नकदी का प्रवाह उतना ही अधिक होगा। यह कंपनी के समग्र विकास को जोड़ता है और लॉन्ग टर्म फाइनेंसियल गेन को बढ़ावा देता है।

ग्राहकों के लिए पर्सिस्टेंसी रेश्यो का महत्व - चूंकि बीमा अक्सर एक इन्वेस्टमेंट प्रोडक्ट के रूप में कार्य करता है, इसलिए हाई पर्सिस्टेंसी रेश्यो ग्राहकों के लिए बेहद फायदेमंद होता है। वे जितने अधिक समय तक योजना में निवेशित रहेंगे, वे उतने ही अधिक समय तक कर लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी उन्हें दवाओं और उपचार की लागत के खिलाफ वित्तीय सुरक्षा प्रदान करती है, बीमा कवरेज उनके आपातकालीन निधि के रूप में दोगुना हो जाता है। उनके पास वापस गिरने के लिए हमेशा एक वित्तीय कुशन होता है, और वे लंबे समय में अधिक पैसा बचाते हैं।

इसके अलावा, जब ग्राहक अपनी पॉलिसी सरेंडर करते हैं, तो वे सरेंडर शुल्क का भुगतान करने के अलावा अपना कवरेज खो देते हैं। इससे न केवल वे असुरक्षित होते हैं बल्कि उन्हें काफी नुकसान भी होता है। हाई सरेंडर रेट वाले ग्राहक को भविष्य में बीमा खरीदना कठिन हो सकता है। अधिकांश बीमाकर्ता ऐसे ग्राहकों को अविश्वसनीय मानते हैं। अतीत में एक नकारात्मक अनुभव के साथ, ग्राहक के भी भविष्य में बीमा खरीदने से बचने की संभावना है।

वे कौन से कारण हैं जो कम पर्सिस्टेंसी रेश्यो की ओर ले जाते हैं?

Persistency Ratio in Health Insurance: कम पर्सिस्टेंसी रेश्यो के पीछे कुछ सामान्य कारण यहां दिए गए हैं-

  • बीमा कंपनी बिक्री के बाद अच्छी सेवाएं प्रदान नहीं करती है।ब
  • बीमाकर्ता का क्लेम सेटलेमेंट रेश्यो कम है।
  • ग्राहक पॉलिसी की सुविधाओं से संतुष्ट नहीं हैं।
  • बाजार में अन्य नए और बेहतर प्रोडक्ट हैं।
  • देश में आर्थिक अस्थिरता जो लोगों को अधिक धन के पक्ष में अपनी बीमा योजनाओं को सरेंडर करने के लिए मजबूर करती है।

ये भी पढ़ें -

Sub-Limit in Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में सब-लिमिट क्या होता है? जानिए

Mediclaim vs Health Insurance: मेडिक्लेम और हेल्थ इंश्योरेंस को न समझे एक जैसा, यहां जानें अंतर

TPA in Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस में थर्ड पार्टी एडमिनिस्ट्रेशन का क्या काम होता है? जानिए

Free Look Period in Health Insurance: हेल्थ इंश्योरेंस में फ्री लुक पीरियड क्या है? जानिए इसके फायदें

Non-Medical Expenses in Health Insurance | हेल्थ इंश्योरेंस में नॉन मेडिकल एक्सपेंस क्या है?

Next Story