आर्थिक

Masala Bond in Hindi: मसाला बॉन्ड क्या होता है? यहां जानिए Masala Bond Ke Fayde

Ankit Singh
9 Jun 2022 7:48 AM GMT
Masala Bond in Hindi: मसाला बॉन्ड क्या होता है? यहां जानिए Masala Bond Ke Fayde
x
Masala Bond in Hindi: 'मसाला बांड’ का नाम सुनने में जरा अटपटा और चटपटा लगता है लेकिन यह एक वित्तीय साधन है, जिसका नाम मसाले के नाम पर रखा गया है। आइये विस्तार से जानते है कि मसाला बॉन्ड क्या होता है? (what is Masala bond in Hindi) और Masala Bond Ke Fayde क्या है?

Masala Bond in Hindi: मसाला बांड एक प्रकार का बॉन्ड है जिससे बहुत से लोग अपरिचित हैं। फिर भी, यह उन लोगों के लिए अपरिचित क्षेत्र नहीं है जो अक्सर बांड्स से निपटते हैं। मसाला बांड (Masala Bond) भारतीय संगठनों या भारत के बाहर के व्यवसायों द्वारा जारी किए गए बांड हैं। हालांकि, लोकल करेंसी में जारी होने के बजाय, ये बांड भारतीय मुद्रा में जारी किए जाते हैं।

विदेशी निवेशकों से धन जुटाने के लिए भारतीय कंपनियां भारत के बाहर मसाला बांड जारी करती हैं। रुपये की दर घटने पर निवेशकों को नुकसान उठाना पड़ता है क्योंकि यह भारतीय मुद्रा से जुड़ा है।

मसाला बॉन्ड को नवंबर 10, 2014 में अंतरराष्ट्रीय पूंजी बाजार में विश्व बैंक समूह के सदस्य इंटरनेशनल फाइनेंस कॉर्पोरेशन (IFC) द्वारा भारत में बुनियादी ढांचा विकसित करने के लिए जारी किया गया था। मसाला बॉन्ड लंदन स्टॉक एक्सचेंज में भी सूचीबद्ध हैं। भारत में मसाला बॉन्ड 2015 से जारी होना शुरू हुए थे। मसाला बॉन्ड नाम का शब्द भी IFC ने ही उछाला था।

मसाला बांड की विशेषताएं | Features of Masala Bond in Hindi

What is Masala Bond in Hindi: मसाला बांड भारत के बाहर जारी किए गए बांड हैं जिन्हें रुपये में मूल्यवर्गित (Denominated) किया जाता है। वे ऋण उत्पाद (Debt Product) हैं जो विदेशी निवेशकों से स्थानीय मुद्रा में धन जुटाने में सहायता करते हैं। सरकार और कमर्शियल दोनों संस्थाएं इन बांडों को जारी कर सकती हैं। ये बांड देश के किसी भी नागरिक द्वारा खरीदे जा सकते हैं, हालांकि कुछ प्रतिबंध हैं।

केवल वे मसाला बांड जिनके सुरक्षा बाजार नियामक सुरक्षा आयोग के अंतर्राष्ट्रीय संगठन के सदस्य हैं, निवेशकों द्वारा सदस्यता ली जा सकती है।

ये बांड क्षेत्रीय और बहुपक्षीय वित्तीय संस्थानों द्वारा खरीद के लिए भी उपलब्ध हैं।

मसाला बांड के लिए न्यूनतम परिपक्वता अवधि | Maturity Period for Masala Bonds

RBI के अनुसार, Masala Bonds को एक वित्तीय वर्ष में 50 मिलियन अमरीकी डालर के बराबर रुपये तक बढ़ाया जाना चाहिए, जिसकी न्यूनतम परिपक्वता अवधि 5 वर्ष होनी चाहिए। हालांकि, एक वित्तीय वर्ष में 50 मिलियन डॉलर के बराबर रुपये से अधिक जुटाए गए बांडों की परिपक्वता अवधि पांच साल होती है।

ऐसे बांडों का रूपांतरण (Conversion) बांड जारी करने, सर्विसिंग और रिडेम्पशन के लिए ट्रांजैक्शन के निपटान की तारीख को मार्केट रेट पर होगा।

Masala Bond Ke Fayde | Benefits of Masala Bond in Hindi

निवेशकों के लिए लाभ

● यह भारतीय अर्थव्यवस्था में विदेशी निवेशकों के विश्वास के विकास में योगदान देता है।

● यह अधिक ब्याज दर प्रदान करता है, जिससे निवेशकों को मदद मिलती है।

● यह भारतीय मुद्रा में निवेशकों का विश्वास बढ़ाकर देश की विदेशी निवेश शक्ति में योगदान देता है।

● रुपये के मूल्यवर्ग से कैपिटल गेन पर टैक्स मुख्य रूप से फ्री है।

● अगर रुपये का मूल्य मैच्योरिटी पर बढ़ता है, तो निवेशकों को उच्चतम संभव रिटर्न प्राप्त होगा।

उधारकर्ताओं के लिए लाभ (कंपनियां)

● मसाला बांड उधारकर्ता को मुद्रा में उतार-चढ़ाव से बचाते हैं क्योंकि उनके पास कोई मुद्रा जोखिम नहीं है।

● उधारकर्ता के पास बड़ी राशि जुटाने की क्षमता होती है।

● यह इन बांडों को जारी करके भारतीय संगठन को उनके पोर्टफोलियो में विविधता लाने में सहायता करता है।

● निवेशकों को रुपये के मूल्यह्रास के बारे में चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि बांड विदेशी मुद्रा के बजाय भारतीय मुद्रा में जारी किए गए थे।

● यह उधारकर्ताओं को पैसे बचाने में मदद करता है क्योंकि यह भारत के बाहर 7% से कम की सस्ती ब्याज दर पर जारी किया जाता है।

● चूंकि ये बांड सेकंडरी मार्केट में बेचे जाते हैं, इसलिए वे देनदारों को बड़ी संख्या में निवेशकों तक पहुंचने देते हैं।

Conclusion -

Masala Bond in Hindi: मसाला बांड भारत के बाहर एक भारतीय फर्म द्वारा जारी किए गए रुपया-मूल्यवान (Rupee denominated) बांड हैं। बांड रुपये में जारी किए जाते हैं, लेकिन ब्याज और मूलधन का भुगतान डॉलर में किया जाता है। नतीजतन ये बांड भारतीय व्यवसायों के लिए एक गेम-चेंजर हो सकते हैं। अपने जोखिम प्रोफ़ाइल के आधार पर आप भी मसाला बांड में निवेश कर सकते है।

ये भी पढ़ें -

Types of Bonds in India : भारत में बॉन्ड कितने प्रकार के होते है? और कैसे करें निवेश? जानिए

Corporate Bond Fund Kya Hai? जानिए कितना फायदेमंद है कॉरपोरेट बॉन्ड फंड में निवेश

Debt Mutual Fund Kya Hai? : Types of Debt Mutual Fund in Hindi

अगर आप युवा निवेशक है, तो जानिए आपको किस तरह के Mutual Fund में करना चाहिए इन्वेस्ट?

Next Story