आर्थिक

What is Inflation in Hindi | मुद्रास्फीति क्या है? | मुद्रास्फीति दर की गणना कैसे की जाती है? जानिए

Ankit Singh
12 May 2022 5:24 AM GMT
What is Inflation in Hindi | मुद्रास्फीति क्या है? | मुद्रास्फीति दर की गणना कैसे की जाती है? जानिए
x
Inflation in Hindi: आपने टीवी समाचारों में बढ़ती मगंगाई के बारें में सुना होगा, जिसे मुद्रास्फीति कहते है। लेकिन यह शब्द मुद्रास्फीति का वास्तव में क्या अर्थ है? (What is inflation in Hindi) और मुद्रास्फीति दर की गणना कैसे की जाती है? (How is the inflation rate calculated?) आइये इस लेख में महंगाई से जुड़ी हर चीज के बारे में जानते है।

Inflation Kya Hai?: हम में से अधिकांश के लिए, अपनी जरूरत और चाहत की हर चीज की बढ़ती कीमतों स्वीकार करना एक दर्दनाक वास्तविकता है। हर कुछ महीनों में हम कीमतों में वृद्धि देखते हैं, और इस बढ़ती 'महंगाई' के बारे में शिकायत करने के कुछ मिनटों के बाद हम इसे स्वीकार करते हैं और आगे बढ़ते हैं।

हालांकि, समय के साथ कीमतों में ये बढ़ोतरी हमारी परचेसिंग पॉवर को गंभीर रूप से प्रभावित करती है और हमारे पैसे के मूल्य को कम करती है। उदाहरण के लिए 1985 में मक्खन के 500 ग्राम पैक की कीमत 6.50 रुपए थी, आज उसी पैकेट की कीमत 245 रुपए है। बताए गए उदाहरण के हिसाब से आज आपको लगभग हर वस्तुओं के दाम में लगभग 300 से 400 फीसदी की वृद्धि दिखाई पड़ेगी। इस वृद्धि का वर्णन करने के लिए प्रयुक्त शब्द मुद्रास्फीति (Inflation) है।

लेकिन यह शब्द मुद्रास्फीति का वास्तव में क्या अर्थ है? (What is Inflation in Hindi) आपके वित्त के लिए मुद्रास्फीति खराब क्यों है? मुद्रास्फीति के नुकसान क्या हैं? यह आपके पैसे के मूल्य को कैसे कम करता है? मुद्रास्फीति दर की गणना कैसे की जाती है? (How is the inflation rate calculated?) इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि मुद्रास्फीति को मात देने के लिए आपको क्या करना चाहिए? इस लेख में हम महंगाई से जुड़ी हर चीज के बारे में बात करेंगे। तो आइए पहले जानते है कि Inflation Kya Hai?

मुद्रास्फीति क्या है? | What is Inflation in Hindi | Inflation Kya Hai?

Inflation in Hindi: डेली इस्तेमाल के सामान और सेवाएं जैसे जैसे भोजन, कपड़े, परिवहन, किराया, मनोरंजन आदि की कीमतों में समय के साथ वृद्धि होती है और इस वृद्धि को मुद्रास्फीति (Inflation) कहा जाता है। यही कारण है कि हम उतने ही पैसे में कम खरीद सकते हैं।

आइए एक उदाहरण से समझते हैं कि मुद्रास्फीति खराब क्यों है। मान लीजिए कि 1985 में आप 100 रुपए की कीमत में 12.5 लीटर पेट्रोल खरीद सकते थे। इतने ही पैसों में आप 2007 में 2 लीटर पेट्रोल खरीद सकते थे। वहीं आज के समय में अब आप 100 रुपए में केवल एक लीटर ही पेट्रोल खरीद सकते है। इस तरह से आप समझ सकते है कि मुद्रास्फीति के कारण समय के साथ 100 ने अपना मूल्य खो दिया।

एक और उदाहरण से समझते है, कोलगेट टूथपेस्ट जिसकी कीमत 1985 में 8 रुपए थी, वही 2007 में कोलगेट टूथपेस्ट की कीमत 50 रुपए हो गई, और 2022 में टूथपेस्ट की कीमत 124 रुपए हो गई। अब अगर एवरेज इन्फ्लेशन रेट निकाला जाए तो यह 8.7 प्रतिशत है।

समाचारों में आप जो मुद्रास्फीति दर सुनते हैं, वह दैनिक जीवन में आप अनुभव नहीं करते हैं।

भारतीय संदर्भ में देश में सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार औसत मुद्रास्फीति दर 5-6% है। लेकिन पिछले कुछ वर्षों में सभी वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों में वृद्धि इससे कहीं अधिक रही है। उदाहरण के लिए 2012 में दिल्ली मेट्रो रेल का अधिकतम किराया 30 रुपये था, आज यह 60 रुपये प्रति ट्रिप है, 9 वर्षों में 100% की भारी वृद्धि, यानी साल-दर-साल 8.01%।

तो हम जिस मुद्रास्फीति (Inflation) का अनुभव कर रहे हैं वह सरकार के आधिकारिक आंकड़ों से अलग क्यों है? इसका उत्तर यह है कि सरकार द्वारा इसकी गणना कैसे की जाती है। आइए इसे विस्तार से देखें।

मुद्रास्फीति दर की गणना कैसे की जाती है? | How is the inflation rate calculated?

मुद्रास्फीति दर की गणना (Calculation of Inflation) करने के लिए आपको मुद्रास्फीति दर सूत्र (Inflation Rate Formula) का उपयोग करना होगा। यह एक सरल फार्मूला है जो आपको दिए गए वर्षों के बीच लागत में वृद्धि या कमी का प्रतिशत देखने की अनुमति देता है। एक बार जब आप मुद्रास्फीति की दर को समझ लेते हैं, तो बजट बनाना आसान हो जाता है।

Inflation Rate Formula

Inflation Rate - ((B-A)/A)×100

A = शुरुआती लागत (Starting Cost)

B = अंतिम लागत (Ending Cost)

फार्मूला में A एक विशिष्ट वस्तु या सेवा के लिए Consumer Price Index में स्टार्टिंग कॉस्ट होगा, जो या तो एक विशिष्ट वर्ष या माह हो सकता है। और B इसी वस्तु या सेवा के लिए Consumer Price Index में वर्तमान रिकॉर्डिंग होगी।

फॉर्मूले का उपयोग करने के लिए, A को B से घटाकर पता करें कि उस विशिष्ट वस्तु या सेवा की कीमत कितनी बदल गई है। फिर परिणाम को A (Starting Cost) से विभाजित करें जो आपको एक दशमलव संख्या के साथ छोड़ देगा। दशमलव संख्या को 100 से गुणा करके प्रतिशत में परिवर्तित करें। परिणाम मुद्रास्फीति की दर है।

निवेश के साथ मुद्रास्फीति को कैसे हराया जाए?

अपने पैसे के नुकसान को रोकने के लिए बचत करना ही काफी नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अधिकांश बचत साधन जैसे बचत बैंक खाते या पीपीएफ रिटर्न देते हैं जो लंबी अवधि में मुद्रास्फीति को लगातार मात नहीं देते हैं। इसलिए जब आप उनमें निवेश करते हैं, तो हो सकता है कि आप कॉर्पस बढ़ा लें लेकिन उस पैसे की क्रय शक्ति कम होगी।

आइए एक उदाहरण लेते हैं। मान लीजिए आपके पास कुछ पैसा है और आप इसे अपने बच्चों की शिक्षा के लिए 15 साल के लिए अलग रखना चाहते हैं। अब आज एक बी.टेक कोर्स की कीमत लगभग 10 लाख रुपए है और हम मानते हैं कि आपके पास ठीक वही राशि है। और आप उस पैसे को पीपीएफ में डाल दें। अब 15 साल के अंत में आपके पास 27.59 लाख रुपए (वर्तमान पीपीएफ दर 7.1% पर)। लेकिन उसी B.Tech कोर्स की कीमत उस समय 41.77 लाख रुपए हो जाएगी क्योंकि इसकी लागत हर साल 10% बढ़ रही है।

क्या आपने देखा कि यहां क्या हुआ? आज आपके पास पैसा है जो एक लक्ष्य को पूरा कर सकता है लेकिन अगर यह तेजी से नहीं बढ़ता है या कम से कम मुद्रास्फीति पर उसी दर से नहीं बढ़ता है तो भविष्य में यह उसी लक्ष्य के लिए पर्याप्त नहीं होगा।

तो बचाओ मत, ऐसे एसेट क्लास में निवेश करें जो लंबी अवधि में महंगाई को मात दे सके और इसे हासिल करने के लिए म्यूचुअल फंड के जरिए इक्विटी में निवेश करना सबसे अच्छा तरीका है।

Conclusion -

यदि आप निवेश नहीं करते हैं, तो आप अनिवार्य रूप से मुद्रास्फीति को अपनी मेहनत की कमाई को आपसे छीनने दे रहे हैं। आपके पैसे का मूल्य हर मिनट घट रहा है और आप इसके बारे में कुछ नहीं कर रहे हैं। यही कारण है कि म्यूचुअल फंड जैसे उत्पादों में निवेश करना महत्वपूर्ण है जो मुद्रास्फीति को अच्छे मार्जिन से हरा सकते हैं।

ये भी पढ़ें -

अपने बच्चों के अच्छे एजुकेशन के लिए क्यों जरूरी है Mutual Fund में निवेश करना?, समझें यहां

बच्चों के सुरक्षित भविष्य के लिए जरूर खरीदें Child Insurance Plan, लेकिन इन बातों का भी रखें ध्यान

रिटायरमेंट के बाद चाहते है रेगुलर इनकम? तो जानिए इन 5 इन्वेस्टमेंट स्कीम की खास बातें

जॉब की शुरुआत होते ही इन 5 चीजों की करें प्लानिंग, पैसों की नहीं होगी किल्लत, फ्यूचर होगा सेफ

Liquid Funds vs Fixed Deposits: फंड तैयार करने के लिए क्या बेहतर, एफडी या लिक्विड फंड?

Next Story