आर्थिक

Green Tax in Hindi: Green Tax Kya Hai? | जानिए क्यों वसूला जाता है ग्रीन टैक्स?

Ankit Singh
1 April 2022 5:38 AM GMT
Green Tax in Hindi: Green Tax Kya Hai? | जानिए क्यों वसूला जाता है ग्रीन टैक्स?
x
Green Tax in Hindi: यह भारत सरकार द्वारा लगाएं जाने वाला नया प्रकार का टैक्स है। तो क्या ग्रीन टैक्स लगाने से हम पर भी कोई असर होगा? आइए इस लेख में विस्तार से जानते है कि Green Tax Kya Hai? (What is Green Tax in Hindi) वाहनों पर ग्रीन टैक्स क्यों लगाया जा रहा?

Green Tax in Hindi: Green Tax Kya Hai? यह सवाल हम में से अधिकांश लोगों के मन में तब से आ रहा है, जब से केंद्र सरकार की तरफ से पुराने वाहनों पर ग्रीन टैक्स लगाने का फैसला किया गया है। ग्रीन टैक्स लगाने की जरूरत आखिरकार सरकार को क्यों पड़ी? क्या ग्रीन टैक्स के लगाए जाने से हम पर कोई असर पड़ेगा? ग्रीन टैक्स लगाने से सरकार को ही केवल फायदा होगा या फिर इससे हम भी लाभान्वित होंगे? इन सभी सवालों के जवाब इस लेख में हम आपको दे रहे हैं। तो आइए सबसे पहले जानते है कि ग्रीन टैक्स क्या है? (What is Green Tax in Hindi)

Green Tax Kya Hai? | What is Green Tax in Hindi

Green Tax in Hindi: लोगों को पर्यावरण (Environment) के प्रति संवेदनशील बनाने के लिए पर्यावरण को प्रदूषित करने वाली वस्तुओं या एक्टिविटीज पर ग्रीन टैक्स (Green Tax) लगाया जाता है। पर्यावरण प्रदूषण (Environmental pollution) हमारे ग्रह पर जलवायु परिवर्तन और मनुष्यों और जानवरों के लिए स्वास्थ्य खतरों के रूप में नकारात्मक प्रभाव डालता है।

ग्रीन टैक्स को पर्यावरण कर (Environmental Tax) के रूप में भी जाना जाता है, यह प्रदूषण पैदा करने वाली वस्तुओं और सेवाओं पर लगाया जाने वाला शुल्क है। इस टैक्स से एकत्र किया गया धन सरकार विभिन्न परियोजनाओं को आगे बढ़ाने के लिए करेगी। इस टैक्स का मुख्य उद्देश्य भारत में प्रदूषण के स्तर को बिल्कुल ही खत्म करना है।

ग्रीन टैक्स की क्या आवश्यकता है?

Green Tax in Hindi: पिछले दशक में पूरी दुनिया में प्रदूषण के स्तर में भारी वृद्धि देखी गई है। चीन से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक हर देश प्रदूषण के दुष्परिणामों का सामना कर रहा है। जब कोई Manufacturer प्रदूषण पैदा करने वाले प्रोडक्ट का उत्पादन करता है, तो इसका खामियाजा केवल विक्रेता या निर्माता को ही नहीं उठाना पड़ता है, बल्कि प्रदूषण के दुष्परिणामों का सामना हर कोई कर रहा है।

पॉल्युशन एक्टिविटीज को डिसकरेज करता है- शुल्क लगाकर, यह जुर्माना या दंड की तरह है जो प्रदूषण फैलाने वाली एक्टिविटीज में शामिल होने के लिए विक्रेता या खरीदार या दोनों को वहन करना पड़ता है।

ग्रीन प्रोजेक्ट को प्रोत्साहित करता है - चूंकि शुल्क इन प्रोडक्ट्स को और अधिक महंगा बना देगा, यह अन्य इंडस्ट्रीज को प्रोत्साहित करता है, जो प्रतिस्पर्धा करने और बढ़त हासिल करने के लिए "ग्रीन" प्रोडक्ट का पालन करते हैं।

पर्यावरण के लिए धन इकट्ठा होता है - प्रत्येक देश उन पहलों पर अरबों डॉलर खर्च कर रहा है जो भविष्य में प्रदूषण को रोकने में मदद कर सकती हैं। वन परियोजनाओं से लेकर नदी की सफाई की पहल तक, इन सभी की लागत लाखों और अरबों में है। इस टैक्स से एकत्रित धन का उपयोग इन पहलों को वित्तीय रूप से व्यवहार्य बनाने के लिए किया जा सकता है।

वाहनों पर ग्रीन टैक्स | Green Tax on Vehicles

Green Tax in Hindi: भारत में Green Tax लगाना एक हालिया विकास है, और विशेष रूप से राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में उत्सर्जन के लिए विभिन्न वाहनों की निगरानी की जा रही है। एक ECC (Environmental Compensation Charge) पर्सनल और कमर्शियल दोनों वाहनों पर उनके आकार के आधार पर लगाया जाता है। हर राज्य में ग्रीन टैक्स अलग-अलग होता है। उदाहरण के लिए, महाराष्ट्र में, निजी वाहन जो 15 वर्ष या उससे अधिक पुराने हैं और 8 वर्ष या उससे अधिक आयु के कमर्शियल वाहन टैक्स का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी हैं।

वाहनों पर ग्रीन टैक्स क्यों? | Why Green Tax on Vehicles?

Green Tax in Hindi: ऑटोमोबाइल टेक्नोलॉजी हर 10-15 साल में बदल जाती है, पुराने वाहन उन्नत प्रदूषण स्टैण्डर्ड से मेल नहीं खाते हैं और इसलिए नए वाहनों की तुलना में अधिक प्रदूषण फैलाते हैं। यह लोगों को अपने मौजूदा वाहनों की लंबी उम्र बनाए रखने पर भारी मात्रा में खर्च करने के बजाय नए वाहनों में अपग्रेड करने के लिए प्रोत्साहित करता है। इसके अलावा, सड़कों पर पुराने वाहनों की संख्या कम हो सकती है जिससे प्रदूषण कम हो सकता है।

वाहनों के लिए पीयूसी प्रमाणपत्र | PUC Certificate for Vehicle

प्रत्येक वाहन को यह प्रमाणित करने के लिए कि यह आवश्यक प्रदूषण मानदंडों को पूरा करता है, एक PUC (Pollution Under Control) प्रमाणपत्र जारी किया जाता है। अपने वाहन के लिए एक वैलिड PUC सर्टिफिकेट ले जाना अनिवार्य है, जिसके अभाव में आप जुर्माना राशि का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी हैं।

ग्रीन टैक्स के साथ एक जिम्मेदार नागरिक बनें

Green Tax का उद्देश्य नागरिकों को लगातार बढ़ते प्रदूषण और इसके हानिकारक प्रभावों के प्रति संवेदनशील बनाना है। एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते आपको अपने पर्यावरण की सुरक्षा के प्रति जागरूक होना चाहिए। अपने वाहन को समय पर बनाए रखना और उसकी सर्विसिंग कराना और एक निर्धारित अवधि के बाद जिम्मेदारी से उन्हें त्यागना, लंबे समय में पर्यावरण की रक्षा करने में मदद कर सकता है।

ये भी पढ़ें -

Advantage and Disadvantages Of Indirect Taxes: इनडायरेक्ट टैक्स के फायदें और नुस्कान क्या है?

Raod Tax Kya hai? इसकी गणना कैसे की जाती है और इसका भुगतान कैसे करें? जानिए यहां सबकुछ

Indirect Tax kya Hai और यह कितने प्रकार का होता है? जानिए Indirect Taxe in Hindi

इन 10 तरह की प्रॉपर्टी पर नहीं लगेगा 1 भी रुपये का भी इनकम टैक्स, जानें इससे जुड़े नियम

Next Story