आर्थिक

Flexi Cap Funds Kya Hai और यह Multi Cap Funds से कितना अलग है? जानें अंतर और विशेषताएं

Ankit Singh
24 Jan 2022 5:09 AM GMT
Flexi Cap Funds Kya Hai और यह Multi Cap Funds से कितना अलग है? जानें अंतर और विशेषताएं
x
Flexi Cap Funds in Hindi: फ्लेक्सी-कैप म्यूचुअल फंड (Flexi Cap Fund), इक्विटी म्यूचुअल फंड की सबसे नई कैटेगरी है। तो अगर आप समझना चाहते है कि Flexi Cap Funds Kya Hai? (What is Flexi Cap Funds in Hindi) और इनकी विशेषताएं क्या है? (Features of Flexi Cap Funds in Hindi) तो लेख के साथ अंत तक बने रहे।

Flexi Cap Funds in Hindi: फ्लेक्सी-कैप म्यूचुअल फंड, इक्विटी म्यूचुअल फंड की सबसे नई कैटेगरी है। फ्लेक्सी-कैप फंड एक ओपन-एंडेड इक्विटी स्कीम है जो बाजार पूंजीकरण में कंपनियों के विभिन्न शेयरों में निवेश करती हैं, चाहे वह मिड-कैप, लार्ज-कैप या स्मॉल-कैप हो। इनकी प्रवित्ति Multi Cap Funds जैसी लगती है लेकिन यह अलग होते है। लेकिन यह मल्टी कैप फंड से कितना अलग है यह जानने के लिए पहले आपको जानना होगा कि Flexi Cap Funds Kya Hai? (What is Flexi Cap Funds in Hindi) और इनकी विशेषताएं क्या है? (Features of Flexi Cap Funds in Hindi) तो चलिए फ्लेक्सी कैप फंड के बारे में समझते है।

Flexi Cap Funds Kya Hai? | What is Flexi Cap Funds in Hindi

Flexi Cap Funds in Hindi:.फ्लेक्सी-कैप फंड म्यूचुअल फंड हैं जो सभी मार्केट कैपिटलाइजेशन में इक्विटी और इक्विटी से संबंधित उपकरणों में निवेश करते हैं। वे डायनेमिक इक्विटी फंड होते हैं जो कैपिटल मार्केट के विभिन्न आकारों में बदलाव करके पोर्टफोलियो के जोखिम और रिटर्न को बैलेंस करते हैं। विविधता के चलते Flexi Cap Funds निवेशकों को वैल्यू और ग्रोथ दोनों प्रदान करते हैं।

अन्य कैटेगरी जैसे लार्जकैप, मिडकैप, लार्ज-मिडकैप, स्मॉलकैप और मल्टीकैप फंड में बाजार नियामक SEBI ने लार्जकैप, मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में एक्सपोजर की सीमा तय की है, लेकिन Flexi Cap Funds बाजार की स्थिति के अनुसार इन शेयरों में निवेश बढ़ा या घटा सकते हैं। SEBI सेबी द्वारा नवंबर 2020 में इस कैटेगरी को लांच किया गया था।

वहीं, लार्ज-कैप, मिड-कैप या स्मॉल-कैप जैसे फंड किसी विशेष पूंजीकरण जैसे बड़े आकार, मध्यम या छोटे-कैपिटलाइज़ेशन स्टॉक पर ध्यान केंद्रित करते हैं। दूसरी ओर Flexi Cap Funds किसी भी पूर्व निर्धारित पूंजीकरण वाले शेयरों में निवेश करने तक ही सीमित नहीं हैं। फंड मैनेजर फंड के असेट को अलग-अलग पूंजीकरण बाजारों में इन्वेस्ट करते है।

सभी मार्केट सेगमेंट में निवेश करने से जोखिम और रिटर्न के बीच बैलंस बना रहता है जो बियर मार्केट में भी स्टेबल इनकम दे सकता है। Flexi Cap Funds में मार्केट कैपिटलाइजेशन की कोई बाधा नहीं है, इसलिए फंड मैनेजर बाजार के उतार-चढ़ाव के आधार पर एक सेगमेंट से दूसरे सेगमेंट में स्विच कर सकते हैं। यह लचीले होते हैं और एक पूंजीकरण से दूसरे पूंजीकरण में स्विच कर सकते हैं इसलिए इन्हें फ्लेक्सी-कैप फंड (Flexi Cap Funds) कहा जाता है।

फ्लेक्सी-कैप फंड की विशेषताएं | Features of Flexi Cap Funds in Hindi

Flexi Cap Funds in Hindi: फ्लेक्सी-कैप फंड की ये मुख्य विशेषताएं हैं-

  • Flexi Cap Funds इक्विटी फंड हैं जो इक्विटी और उससे संबंधित उपकरणों में 65% से अधिक एसेट का निवेश करते हैं।
  • Flexi Cap Funds खुद को एक सेगमेंट तक सीमित किए बिना सभी प्रकार के पूंजीकरण में निवेश करते हैं।
  • अगर एक पूंजी बाजार (Capital Market) अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहा है तो वे एक सेगमेंट से दूसरे सेगमेंट में भी जा सकते हैं।
  • अपने लचीलेपन के कारण Flexi Cap Funds पोर्टफोलियो को स्थिरता और विकास दोनों प्रदान करता है।
  • फ्लेक्सी कैप फंड अच्छे बिजनेस मॉडल, बैलेंस शीट और ट्रैक रिकॉर्ड वाली कंपनियों में निवेश करते हैं। इसी तरह जब भी कुछ स्टॉक खराब प्रदर्शन कर रहे हों तो वे आसानी से बाहर निकल सकते हैं।
  • मल्टी-कैप फंड में एक निश्चित प्रकार की कंपनी में आवंटन की विनियामक (रेगुलेटरी) सीमा होती है। लेकिन फ्लेक्सी कैप फंड में ऐसा नहीं है।

फ्लेक्सी कैप फंड और मल्टी कैप फंड में अंतर क्या है? | Difference Between Flexi-Cap Funds and Multi-Cap Funds

फ्लेक्सी-कैप (Flexi Cap Funds) और मल्टी-कैप फंड (Multi Cap Funds) दोनों ही सभी आकारों के पूंजीकरण में निवेश करते हैं। यानी वे बड़े, मध्यम और छोटे आकार की कंपनियों के एसेट को एलोकेट करते हैं। लेकिन मल्टी-कैप फंडों को सभी प्रकार के पूंजीकरण के क्षेत्रों में एसेट का 25% बनाए रखने का अधिकार है। भले ही फंड मैनेजर बाजार के रुझान के अनुसार मार्केट सेगमेंट के बीच एसेट एलोकेशन को बदल सकते हैं, लेकिन उन्हें इस आदेश का पालन करना होगा। इसलिए वे केवल एक मार्जिन से स्विच कर सकते हैं।

हालांकि Flexi Cap Funds में ऐसी कोई बाध्यता नहीं होती है और ये अत्यधिक लचीले होते हैं। Flexi Cap Funds नए लॉन्च किए गए फंड हैं और मल्टी-कैप फंड के निवेश पोर्टफोलियो से खुद को अलग करने के लिए लॉन्च किए गए थे। फ्लेक्सी-कैप फंडों को कंपनी या मार्किट सेगमेंट के आकार के बावजूद स्टॉक चुनने के साथ-साथ एक से दूसरे में स्विच करने की अधिक स्वतंत्रता है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि Flexi Cap Funds में एक मल्टी-कैप इन्वेस्टमेंट स्ट्रेटेजी है लेकिन इसमें अधिक लचीलापन और कम प्रतिबंध है।

ये भी पढें -

Benefits of Debt Funds in Hindi: डेट फंड में निवेश क्यों करना चाहिए? जानिए 8 बड़े कारण

क्या आप भी Mutual Funds और SIP को लेकर कंफ्यूज हैं? जानिए दोनों के बीच में क्या है अंतर

Liquid Funds vs Fixed Deposits: फंड तैयार करने के लिए क्या बेहतर, एफडी या लिक्विड फंड?

Equity Mutual Funds Kya Hai? | Types Of Equity Funds and Features in Hindi

Debt Mutual Fund Kya Hai? : Types of Debt Mutual Fund in Hindi

Next Story